मंडी व्यापारियों में फैला कोरोना संक्रमण, चार दिन के लिए बंद कृषि उपज मंडी


प्रतापगढ़. कोरोना का संक्रमण अब कृषि उपज मंडी में भी फैल गया है। कुछ व्यापारियों में इसकी पुष्टि होने के बाद मंडी प्रशासन की ओर से कृषि मंडी को आगामी चार दिनों के लिए बंद की गई है। इसके साथ ही २६ अप्रेल को मंडी प्रशासन की ओर से बैठक की जाएगी। इसके बाद ही मंडी को खोलने का निर्णय लिया जाएगा।

By: Devishankar Suthar

Published: 22 Apr 2021, 07:56 AM IST


प्रतापगढ़. कोरोना का संक्रमण अब कृषि उपज मंडी में भी फैल गया है। कुछ व्यापारियों में इसकी पुष्टि होने के बाद मंडी प्रशासन की ओर से कृषि मंडी को आगामी चार दिनों के लिए बंद की गई है। इसके साथ ही २६ अप्रेल को मंडी प्रशासन की ओर से बैठक की जाएगी। इसके बाद ही मंडी को खोलने का निर्णय लिया जाएगा। मंडी सचिव मदनलाल गुर्जर ने बताया कि मण्डी में कुछ व्यापारियों के कोरोना पॉजिटिव हो गए है। इससेे मंडी में सुरक्षा की दृष्टि से मण्डी व्यापार मण्डल एवं मण्डी पल्लेदार संघ द्वारा लिखित में मंडी को बंद रखने के लिए ज्ञापन दिया गया। इस पर जिला प्रशासन की स्वीकृति के बाद मण्डी प्रशासन ने गुरुवार से 25 अप्रेल तक मण्डी बन्द रखने का निर्णय लिया। साथ ही 25 अप्रेल को पुन: कोरोना संक्रमण की समीक्षा व बैठक कर आगे मण्डी चलाने का निर्णय लिया जाएगा। ऐसे में मंडी में गुरुवार से २५ अप्रेल तक मण्डी में अवकाश रहेगा। इससे कोई भी किसान मण्डी में उपज लेकर नहीं आए। उक्त समय के दौरान मण्डी में व्यापारी, हम्माल, तौलकर्ता का भी प्रवेश प्रतिबन्धित रहेगा। जिन किसानों की दिनांक 22 की मण्डी में माल लाने की कन्ट्रोल रूम में फोन पर बुकिंग हो चुकी थी। वह निरस्त की गई, मण्डी शुरू होने पर मण्डी प्रशासन की ओर से आगामी तारीख से अवगत कराया जाएगा।

तय समय के बाद दुकानें बंद कराई
अरनोद.
कस्बे में बुधवार को सुबह सात बजे से १० बजे तक दुकानें खुली। इसके बाद भी खुली कई दुकानों को प्रशासन ने बंद कराया। कस्बे में किराना और सब्जी, फल आदि की दुकानों का समय निर्धारित किया था। इसके बाद भी कई दुकानें खुली थी। इस पर उपखंड अधिकारी प्रकाशचन्द्र रेगर, थाना प्रभारी रवीन्द्रसिंह, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, पुलिसकर्मी आदि कस्बे में पहुंचे। जहां खुली दुकानों को बंद कराई गई। कस्बे में लापरवाही और बाजारों में लोगों की बढ़ती हुई भीड़ और उसी दौरान जिला कलक्टर ने दौरा किया। उसके बाद जिला कलक्टर ने प्रशासनिक अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए और तहसील में बैठने वाले स्टांप वेंडरों को भी स्टांप आदि बेचना बंद करने के निर्देश दिए। बाजारों में प्रात: 7 बजे से 10 बजे तक किराणा और दूध की दुकानें खुला रखने के निर्देश दिए। मेडिकल की दुकानें ही पूरे दिन खुली है। इस पर बुधवार को उपखंड अधिकारी प्रकाशचंद्र रेगर और नायब तहसीलदार अजयकुमार जाटव ने बाजारों का निरीक्षण किया। बाजारों में बढ़ती भीड़ के कारण प्रात: 9.30 बजे ही दुकानें आदि बंद करवा दी। लेकिन कुछ व्यापारी चोरी-छिपे दुकानों के पिछले दरवाजे से माल बेचने से बाज नहीं आ रहे थे। इस पर उपखंड अधिकारी प्रकाशचंद्र रैगर ने पूरे बाजार का निरीक्षण किया। ऐसे व्यापारियों को सख्त निर्देश दिए कि जो भी कानून का उल्लंघन करेगा। उनके दुकानें सील कर दी जाएगी। बिना मास्क के घूमने वाले लोगों के चालान भी काटे गए।
इसके साथ ही 10 बजे बाद पूर्ण रूप से आवाजाही बंद कर दी गई। बिना किसी कार्य से आने वाले लोगों को वापस वही से अपने घर भेजा जा रहा है। जिसके चलते पूरे दिन बाजार सूनसान रहे।
पारसोला में काटे चालान
पारसोला. कस्बे एवं आसपास के क्षेत्र में मार्च व अप्रेल माह में अब तक ६० से ज्यादा सक्रंमित पाए जा चुके है। वर्तमान में ३९ एक्टिव केस हो गए है। कस्बा स पूर्ण बन्द रहा। पुलिस ने कस्बे में बिना काम के घुमते लोगों के चालान काटे है। माण्डवी चौराहा, स्वामी विवेकानन्द चौक, पुराना बस स्टेण्ड, सदर बाजार एवं साबला मोड़ पर गश्त की जा रही है। कस्बे में जन अनुशासन पखवाडा के दौरान स ती बरतने के लिए पुलिस अधीक्षक चूनाराम जाट, पुलिस उप अधीक्षक चिंरजीलाल मीणा, धरियावद पुलिस उपाधीक्षक अरविन्द्र विश्रोई, पारसोला थाना प्रभारी मोहनसिंह चन्द्रावत आदि ने रूट मार्च किया। ग्रामीण क्षेत्र आड़ के वजुवात फला एवं देवला खेखड़ी फला दोनों क्षेत्र को कन्टेन्टमेन जोन बनाया गया।

Devishankar Suthar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned