चिकित्सक ही नहीं, जनता क्लिनिक में रोड़ा

प्रतापगढ़. आमजन को समय पर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए विभाग की ओर से जनता क्लिनिक की योजना शुरू की गई है। इसके तहत कोई भी दानदाता प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोल सकता है। जिसमें विभाग की ओर से चिकित्सक लगाए जाने है। लेकिन यहां जिले में इसे लेकर अभी मात्र दो ही संस्थाएं आई है। जबकि प्रदेश में ११३० जनता क्लिनिक प्रस्तावित है।


जिले में दो जनता क्लिनिक के आए प्रस्ताव
स्वंय सेवी संस्थओं की नहीं रुचि
प्रतापगढ़. आमजन को समय पर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए विभाग की ओर से जनता क्लिनिक की योजना शुरू की गई है। इसके तहत कोई भी दानदाता प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोल सकता है। जिसमें विभाग की ओर से चिकित्सक लगाए जाने है। लेकिन यहां जिले में इसे लेकर अभी मात्र दो ही संस्थाएं आई है। जबकि प्रदेश में ११३० जनता क्लिनिक प्रस्तावित है। लेकिन यहां जिले में जनता क्लिनिक को लेकर स्वयं सेवी संस्थाएं भी रुचि नहीं दिखा रही है।
यह है योजना
ेसरकार की ओर से शहरी क्षेत्र में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोलने के लिए जनता क्लिनिक खोलने की योजना शुरू की है। इसके तहत स्थान, संसाधन उपलब्ध कराने के लिए कोई भी निकाय या स्वयंसेवी संस्था आगे आ सकती है। इसके बाद यहां स्टाफ लगाने के लिए चिकित्सा विभाग कवायद करेगा। इसका संचालन स्वयसेवी संस्था की ओर से किया जाएगा।
शहर में दो स्थानों के लिए आए प्रस्ताव
यहां शहर में जनता क्लिनिक खोलने के लिए दो स्थानों के प्रस्ताव चिकित्सा विभाग को मिले है। जिसमें एक शहर के जैन मंदिर के पास मिला है। वहीं दूसरा इंदिरा कॉलोनी स्थित दादावाड़ी में मिला है। इसके लिए चिकित्सा विभाग ने तैयारी
शुरू की है।
यह जुटाने होंगे संसाधन
जनता क्लिनिक को लेकर भवन, उपकरण आदि के लिए स्थानीय निकाय के अलावा सामाजिक संस्थाओं व भामाशाह से सम्पर्क किया जा रहा है। क्लिनिक के लिए तीन स्मार्ट फोन, एक टेबलेट, एक प्रिंटर, एक इलईडी, दो सीसीटीवी कैमरे व इंटरनेट कनेक्शन, फर्नीचर, एसी आदि भी सहयोग से जुटाने होंगे।
जिले में यह है स्थिति
प्रतापगढ़ जिले में चिकित्सको के काफी पद रिक्त है। जिला चिकित्सालय में ६० पद स्वीकृत है। लेकिन यहां केवल २२ चिकित्सक ही कार्यरत है। वहीं जिले में विभिन्न संस्थाओं में ९६ पद स्वीकृत है। इसके मुकाबले ३० ही कार्यरत है। ऐसे में रोगियों को काफी परेशानी होती है। जिला चिकित्सालय समेत जिले में आठ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र और ३० प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र संचालित है। यहां चिकित्सकों की पहले की कमी है।
शुरू की है कवायद
योजना के तहत जिले में भी इसके लिए तैयारी शुरू कर दी है। जिसमें विभिन्न संगठनों को इसके लिए जानकारी दी जा रही है। शहर में दो स्थानों के लिए विभाग को प्रस्ताव मिले है। इसके लिए सूचना उच्चाधिकारियों को भिजवा दी गई है। इसके शुरू होने पर लोगों को लाभ मिलेगा। इसके अलावा और भी कोई संस्था इसके लिए आगे आए तो हम तैयार है। चिकित्सकों के लिए हमनें उच्चाधिकारियों को अवगत कराया है।
डॉ. वीके जैन
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, प्रतापगढ़

Devishankar Suthar Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned