ऑनलाइन आवेदन तिथि बढ़ाने की मांग

ऑनलाइन आवेदन तिथि बढ़ाने की मांग

Rakesh kumar Verma | Publish: Jul, 13 2018 07:01:14 PM (IST) Pratapgarh, Rajasthan, India

-एबीवीपी ने सौपा ज्ञापन

ऑनलाइन आवेदन तिथि बढ़ाने की मांग
-एबीवीपी ने सौपा ज्ञापन
प्रतापगढ़. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद कार्यकर्ताओं ने एमए, एमकॉम, एमएससी पूर्वाद्र्ध के ऑनलाइन आवेदन तिथि को बढ़ाने के लिए शुक्रवार को कार्यवाहक प्राचार्य को ज्ञापन सौपा। परिषद के प्रतीक शर्मा ने बताया कि स्नातकोत्तर पूर्वाद्र्ध के ऑनलाईन आवेदन 5 जुलाई से प्रारम्भ हुए थे और अंतिम तिथि 13 जुलाई तय थी लेकिन सर्वर और इंटरनेट की समस्या के चलते बहुत से विद्यार्थी आवेदन करने से वंचित रह गए हैं। इसलिए आवेदन की तिथि को जल्द से जल्द बढ़ाया जाए ताकि कोई भी विद्यार्थी प्रवेश लेने से वंचित ना रहे। इस दौरान जितेंद्र सेन, हेमंत प्रजापत, मयंक पाटीदार, दीपक प्रजापत, नवीन सुथार आदि कार्यकर्ता मौजूद थे।

मिनी सचिवालय में लगाए 101 पौधे
-जिला कलक्टर सहित अधिकारियो ने किया पौधरोपण
प्रतापगढ़. मिनी सचिवालय परिसर में शुक्रवार को 100 पौधे लगाए गए। जिला कलक्टर भंवरलाल मेहरा सहित जिला स्तरीय अधिकारियो एवं कर्मचारियो ने मिनी सचिवालय परिसर में पौधरोपण किया। लगाए गए पौधो की सुरक्षा, पानी एवं फैंसिंग आदि व्यवस्था के लिए नगर परिषद, विद्युत निगम एवं मारूति उद्योग के दीपक प्रजापत ने जिम्मेदारी ली। जिला कलक्टर ने शीशम का पौधा लगाकर पौधारोपण कार्यक्रम की शुरूआत की । अतिरिक्त जिला कलक्टर हेमेन्द्र नागर, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. वीसी गर्ग, उपवन संरक्षक अमरसिंह, जनजाति परियोजना अधिकारी सुमन मीणा, तहसीलदार योगेन्द्र जैन, जिला कोषाधिकारी रामप्रकाश शर्मा, बिजली विभाग के अधीक्षण अभियंता आईआर मीणा, जलग्रहण विभाग के अधीक्षण अभियंता एमआई खान, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक जेपी चांवरिया, जिला खेल अधिकारी गिरधारी सिंह चौहान सहित जिला स्तरीय अधिकारियो एवं कर्मचारियो ने विभिन्न प्रजाति के पौधे रोपे। जिला कलक्टर सहित अधिकारियो ने किया पौधरोपण सहायक उपवन संरक्षक सुबोध राजपूत ने बताया कि वन मण्डल प्रतापगढ़ एवं जिला प्रशासन की ओर से आयोजित इस पौधारोपण में नीम, गुलमोर, पीपल, शीशम सहित 101 छायादार पौधे लगाये गए। जिला कलक्टर सहित अधिकारियो ने किया पौधरोपण

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned