scriptpratapgarh forest--Rare species of chameleon seen in Kanthal forest | pratapgarh forest--कांठल के जंगल में दिखा दुर्लभ प्रजाति का गिरगिट | Patrika News

pratapgarh forest--कांठल के जंगल में दिखा दुर्लभ प्रजाति का गिरगिट

प्रतापगढ़ के जंगल जैव विविधता से भरा हुआ है। यहां कई पादप, जीवों का बसेरा है। ऐसे में यहां कई बार दुर्लभ प्रजातियों के जीव भी दिखाई देते है। हाल ही में यहां गिरगिट की जेलानिकस भी देखी गई है।

प्रतापगढ़

Updated: December 27, 2021 08:07:31 am


कांठल के जंगल में दिखा दुर्लभ प्रजाति का गिरगिट
-खुले स्थान से चमेलेओ जेलेनिकस को रेस्क्यू कर जंगल में छोड़ा
-प्रतापगढ़ के जंगल जैव विविधता से भरा हुआ है। यहां कई पादप, जीवों का बसेरा है। ऐसे में यहां कई बार दुर्लभ प्रजातियों के जीव भी दिखाई देते है। हाल ही में यहां गिरगिट की जेलानिकस भी देखी गई है। जो यहां के जैव विविधता को दर्शाती है। उपवन संरक्षक सुनीलकुमार ने बताया कि प्रतापगढ़ जिले के रेंज प्रतापगढ़ के रामपुरिया इलाके में गिरगिट की जेलानिकस प्रजाति का एक गिरगिट दिखाई दिया। फोरेस्टर लक्ष्मीनारायण मीणा और वनरक्षक दिग्विजयसिंह के साथ गश्त पर थे। इस दौरान वहां एक गिरगिट जैसा हरे व धब्बेदार जीव दिखाई दिया। जो धीर-धीरे चल रहा था। पास में जाकर देखा तो यह गिरगिट प्रजाति का जेलानिकस था। इसे खुले स्थान से रेस्क्यू किया गया। इसके बाद स्वतंत्र विचरण के लिए रामपुरिया के कणजीपानी जंगल में छोड़ा गया।
:=:--
धीरे-धीरे चलता है चमेलेओ जेलेनिकस
यह गिरगिट प्रजाति का ही है। इसे भारतीय गिरगिट(चमेलेओ ज़ेलेनिकस) नाम दिया गया है। इसकी लंबाई सात इंच तक होती है। जो आम तौर पर भारत समेत श्रीलंका, दक्षिण एशिया के अन्य भागों में पाया जाता है। इसका स्थानीय नाम हालणहियो है। इसके भी अन्य गिरगिटों की तरह संरचना होती है। इसकी एक लंबी जीभ, पैर जो बिफिड क्लैस्पर्स के आकार के होते हैं। एक प्रीहेंसाइल पूंछ, स्वतंत्र आंखों की गति और त्वचा का रंग बदलने की क्षमता होती है। वे बॉबिंग या लहराते हुए धीरे.धीरे आगे बढ़ते हैं। जो आम तौर पर पेड़ों पर रहते है। इस प्रजाित में पृष्ठभूमि का रंग नहीं चुन सकते है। इसके साथ ही रंग अंतर को समझने में भी सक्षम नहीं होते हैं। वे आमतौर पर हरे या भूरे रंग के धब्बेदार त्वचा लिए होते है।
-===--=
तीस वर्षों से गंधेर तालाब के नाले की पुलिया का इंतजार
कुलथाना. खेरोट से कुलथाना सडक़ बने लगभग तीस बरस बीत चुके हैं। तीस वर्षों में सडक़ का तीन बार नवीनीकरण किया जा चुका है। लेकिन गंधेर तालाब के नाले की पुलिया का आज तक कार्य नहीं हुआ है। यहां हालात जस के तस है।
हालात यह है कि इस पर कितनी ही बार लोग वाहनों से दुर्घटनाग्रस्त हो गए है। ग्रामीणों ने बताया कि इस संबंध में कई बार जनप्रतिनिधियों को अवगत कराया गया। इसके बावजूद अभी तक कोई सुनवाई तक नहीं हुई है।
pratapgarh forest--कांठल के जंगल में दिखा दुर्लभ प्रजाति का गिरगिट
pratapgarh forest--कांठल के जंगल में दिखा दुर्लभ प्रजाति का गिरगिट

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

बड़ी खबरें

PM Modi आज राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेताओं के साथ करेंगे बातचीत, एक लाख रुपए के साथ मिलेगा डिजिटल सर्टिफिकेटUP चुनाव में अब तक 6705 KG ड्रग्स, 5 लाख लीटर शराब पकड़ी गईCovid-19 Update: देश में बीते 24 घंटों में आए कोरोना के 3.33 लाख नए मामले, 525 मरीजों की गई जानकोरोना ने टीका कंपनियों को लगाई मुनाफे की बूस्टरभारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज पर पहुंचा ओमिक्रॉन वेरिएंट - केंद्रCBSE Term 1 Results 2022: इंतजार खत्म! आज जारी हो सकता है 10वीं और 12वीं सीबीएसई टर्म-1 का रिजल्टIPL 2022 auction: श्रीसंत को खरीद सकती हैं ये 3 टीमें, मिल सकती है मोटी रकमप्रोफेशनल कांग्रेस के कार्यकारिणी का विस्तार, पद्म विभूषण तीजन बाई और पूर्व क्रिकेटर राजेश चौहान को मिली ये जिम्मेदारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.