पाठ््य पुस्तकों की पहली खेप पहुंची प्रतापगढ़

Rakesh kumar Verma

Publish: May, 17 2018 10:04:31 AM (IST)

Pratapgarh, Rajasthan, India
पाठ््य पुस्तकों की पहली खेप पहुंची प्रतापगढ़

जून में होगा वितरण

प्रतापगढ़. नया सत्र की शुरुआत के तहत गांव-गांव, ढाणी-ढाणी प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक स्तर के सभी स्कूलों में राज्य सरकार एवं शिक्षा विभाग के निर्देशों के तहत प्रवेशोत्सव मनाया गया। साथ ही स्कूलों में नवप्रवेशियों का नामांकन प्रकिया भी जोर शोर से की गई थी । लेकिन यह प्रवेशोत्सव एवं स्वागतोत्सव महज औपचारिक बन कर रह गए। क्योंकि स्कूलों में बच्चों को पाठ्य पुस्तक नहीं मिल पाई थी। लेकिन लगभग दो माह की देरी से अब राजस्थान राज्य पुस्तक वितरण केन्द्र पर पुस्तकों के पहुंचने का सिलसिला शुरु हो चुका है। मई माह के अंत तक डिमाण्ड के अनुसार पुस्तकें पहुंच जाएंगी। जिनका वितरण जून माह में किया जाएगा। जबकि गत वर्षों की बात की जाए तो ये पुस्तकें दिसम्बर-जनवरी के मध्य तक पहुंच जाया करती थी। जिनका वितरण फरवरी और मार्च माह तक किया जाता रहा है।
आने लगी पुस्तकें
पुस्तके आने का क्रम शुरु हो गया है। प्रतिदिन चित्तौडगढ़़ डिपो से गाड़ी आ रही है। डिमाण्ड अनुसार अब तक एक चौथाई पुस्तकें आ गई हैं। शेष पुस्तकें भी अतिशीघ्र आ जाएंगी। पुस्तकें आने के बाद विभागीय आदेशानुसार वितरण प्रकिया शुरु कर दी जाएगी।
विजयपाल रोत
प्रबंधक , राजस्थान राज्य पाठ्य पुस्तक वितरण केन्द्र प्रतापगढ़

===========================================
महिला कोच के साथ वार्डन पति ने शराब के नशे में की अभद्रता
अधिकारियों ने किया मामला दबाने का प्रयास
प्रतापगढ़. जिला मुख्यालय स्थित राजकीय आवासीय जनजाति बालिका छात्रावास में तकरीबन सप्ताह पहले खेल कोच किरण साहू के साथ छात्रावास अधीक्षिका के पति ने नशे की हालत में अभद्रता की। जिसकी शिकायत कोच ने सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों से की। लेकिन विभागीय अधिकारियों की ओर से एक सप्ताह गुजरने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं किए जाने पर पीडि़त महिला कोच ने बुधवार को जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंप न्याय दिलाने की मांग की।
ज्ञापन में पीडि़ता ने बताया कि 9 मई की रात्रि में वार्डन रेखा निनामा का पति शराब के नशे में छात्रावास में आया ओर उसके साथ गाली गलौच करते हुए अभद्रता से पेश आया। उसे नोकरी से निकलवाने की धमकी भी दी। मारने की नियत से दौडऩे पार महिला कोच ने समीप ही खेल छात्रावास बालक के कोच हररतन डामोर व बालिका खेल कोच बंशीलाल मीणाा को बुलवाया। जिन्होंने बीच बचाव कर वार्डन पति को वहां से बाहर निकाला।
मामला दबाने की कोशिश
ज्ञापन में बताया गया कि महिला कोच की ओर से संबंधित अधिकारियों को शिकायत की लेकिन विभागीय अधिकारियों उपजिला शिक्षा अधिकारी पूनमचन्द रैदास, भेरूलाल मीणा एवं जनजाति परियोजना अधिकारी सुमन मीणा को भी अवगत कराया गया। लेकिन उन्होंने कार्रवाई के बजाय उसे विभाग और हॉस्टल की बदनामी होने का हवाला देते हुए मामले को रफा दफा करने के लिए दबाव बनाया गया।
मुझे जानकारी नहीं है..
मुझे इस मामले की जानकारी नहीं है। यदि ऐसा हुआ है तो मैं इसकी जांच करुंगा। और मामला सही पाये जाने पर आरोपित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
भेरुलाल मीणा
उप जिला शिक्षा अधिकारी
जनजाति क्षेत्रिय विकास विभाग, प्रतापगढ़

कोच मेडम को समझाया गया है...
मैंने हॉस्टल में जानकारी की है। लेकिन ऐसी कोई विशेष बात नहीं है। कोच मेडम को समझा दिया गया है। आईन्दा ऐसी कोई घटना नहीं होगी।
पूनमचन्द रैदास
उप जिला शिक्षा अधिकारी
जनजाति क्षेत्रिय विकास विभाग प्रतापगढ़

हॉस्टल को बदनाम करने की कोशिश है..
मैंने कल शाम ही हॉस्टल जाकर जांच की थी। ऐसी कोई बात सामने नहीं आई है। ये केवल हॉस्टल को बदनाम करने की कोशिश है। यदि ऐसा कोई बात थी तो सबसे पहले मुझे बताना चाहिए था। या फिर एफआईआर कराई जानी थी।
सुमन मीणा
परियोजना अधिकारी
जनजाति क्षेत्रिय विकास विभाग, प्रतापगढ़
------------------------------

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned