कांठल में झमाझम, मेघगर्जना और बिजली के साथ बारिश

प्रतापगढ़. कांठल में मानसूनी बारिश का दौर शुरू हो गया है। बारिश का दौर गुरुवार को भी जारी रहा। इस दौरान कई इलाकों में तेज हवा के साथ मूसालाधार बारिश हुई। मेघगर्जना के साथ बारिश से खेतों में पानी बह निकला। वहीं नदी-नालों में भी पानी की आवक तेज हो गई। वहीं अरनोद उपखंड के खरखड़ा गांव के मंदिर पर बिजली गिरी। इससे मंदिर में टाइल्स टूट गई। मंदिर में लगेक विद्युत उपकरण जल गए।

By: Devishankar Suthar

Published: 10 Sep 2021, 08:28 AM IST


-----खरखड़ा गांव में मंदिर पर गिरी बिजली
प्रतापगढ़. कांठल में मानसूनी बारिश का दौर शुरू हो गया है। बारिश का दौर गुरुवार को भी जारी रहा। इस दौरान कई इलाकों में तेज हवा के साथ मूसालाधार बारिश हुई। मेघगर्जना के साथ बारिश से खेतों में पानी बह निकला। वहीं नदी-नालों में भी पानी की आवक तेज हो गई। वहीं अरनोद उपखंड के खरखड़ा गांव के मंदिर पर बिजली गिरी। इससे मंदिर में टाइल्स टूट गई। मंदिर में लगेक विद्युत उपकरण जल गए।
जिले में गत दिनों से बारिश का दौर जारी है। इससे आसमान में काली घटाएं सुबह से छाई रही। कभी फुहारे और कभी रिमझिम का दौर दोपहर तक चला। इसके बाद तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू हो गई। जो करीब एक घंटे तक जारी रही। इसके बाद रिमझिम बारिश का दौर शाम तक चलता रहा। गत दिनों से हो रही बारिश से नदी-नालों में पानी की आवक बढ़ गई है।
जिले में गुरुवार सुबह आठ बजे तक गत २४ घंटों में प्रतापगढ़ मुख्यालय पर १०, अरनोद में ३३, छोटीसादड़ी ४, धरियावद में ४४ और पीपलखूंट में २९ एमएम बारिश दर्ज की गई।
=--=मंदिर पर गिरी बिजली
कनाड़.
निकटवर्ती खरखड़ा गांव में तेज मेघ गर्जना के साथ बारिश हुई। गांव के बीच स्थित रामजानकी मंदिर पर बिजली गिरी। जिससे मंदिर में लगे सारे विद्युत उपकरण जल गए। खरखड़ा निवासी श्यामलाल डांगी, प्रदीप डांगी, अनिल डांगी ने बताया कि गुरुवार शाम 4 बजे गांव के रामजानकी मंदिर पर कड़ाके आवाज आई। उसके बाद ग्रामीणों ने मंदिर पर जाकर देखा तो मंदिर में लगे बल्ब, ट्यूब लाइट एवं वहां पर लगे लाईट के सारे उपकरण जलकर नीचे गिर गए। जगह पर प्लास्टर भी खुल गया। यहां लगी टाइल्स भी टूटकर गिर गई। गनीमत रही कि यहां पर कोई जनहानि नहीं हुई।
अरनोद. क्षेत्र में बारिश का दौर जारी है। वहीं गुरुवार को दिनभर बारिश होती रही। दोपहर बाद मेघगर्जना के साथ बारिश हुई। बारिश से खेतों में पानी बह निकला। वहीं तेज बारिश से नदी-नालों में पानी वेग से बहा। गौतमेश्वर में भी झरने वेग से गिरने लगे हैं।
-=-=-=-=-=
24 घंटों में दो इंच बारिश, करमोही नदी में पानी की आवक
धरियावद. क्षेत्र में गुरूवार अलसुबह आसामन में बादलों की आवाजाही के बीच रूक-रूककर मध्यम बरसात होती रही। दोपहर को आसमान में छाई काली घनघोर घटाओं के बीच मूसलाधार बरसात का दौर शुरू हुआ जो शाम तक जारी रहा। बरसात के बाद सुखली एवं करमोई नदियों में एक बार फिर पानी की तेज आवक शुरू हो गई है। तहसील क्षेत्र के धरियावद केशरपुरा रपट पुलिया एवं वजपुरा रपट पुलिया सहित छोटी पुलिया पर पानी आने से आवागमन कुछ समय के लिए बाधित रहा। आलोक ऋतू वैधशाला अनुसार बीते चौबीस घंटों में 44 मिमी बरसात दर्ज की गई। 31 मीटर भराव क्षमता वाले जाखम बांध क्षेत्र में अंछी बरसात के बाद जलस्तर में बढ़ोत्तरी देखने को मिली। जाखम बांध का जलस्तर 21.45 मीटर रिकॉर्ड किया गया।
:=:=:=:=: स्थानक भवन में बह रही धर्म की सरिता
छोटीसादड़ी. शहर के जूना बाजार स्थित स्थानक भवन में पर्युषण महापर्व में कई आयोजन हो रहे है। यहां धर्म, ध्यान, त्याग, तपस्या का तांता लगा हुआ है। रोजाना श्यहां दीपक पदम मुनि महाराज के सान्निध्य में निरंतर धर्म की प्रभावना आयोजित हो रही है। उदित मुनि महाराज ने सभी श्रावक और श्राविकाएं को धर्म से जुडऩे और चातुर्मास का लाभ उठाने के लिए नित्य प्रेरित करते हैं। पर्युषण महापर्व के छठे दिवस पर बुद्धि प्रज्ञ महाराज ने अपने प्रवचन में बड़े सुंदर तरीके से तीर्थंकर भगवान महावीर द्वारा हंसस्ती पाल राजा को उनके आठ सपनों का सजीव वर्णन और पंचम आर्य का भविष्य दर्शन को प्रस्तुत किया।

Devishankar Suthar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned