एससी, एसटी बिल के विरोध में बंद रहा जिला

एससी, एसटी बिल के विरोध में बंद रहा जिला

Rakesh kumar Verma | Publish: Sep, 06 2018 06:47:24 PM (IST) Pratapgarh, Rajasthan, India

-कई जगह वाहन रैली निकाली, सौंपे ज्ञापन

प्रतापगढ़. केन्द्र सरकार के एससी, एसटी में संशोधित बिल के विरोध में गुरुवार को भारत बंद के आह्वान पर विभिन्न समाजों की ओर से प्रतापगढ़ जिला भी पूर्णत: बंद रहा। जिले में सर्व समाज के आह्वान के बाद जिले के विभिन्न सामाजिक संगठन, व्यापार महासंघ और निजी संस्थाओं ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। बंद के चलते पुलिस प्रशासन भी सर्तक रहा। शहर सहित जिलेभर में भारत बंद के चलते दुकानें सुबह से ही बंद रही। मिनी सचिवालय में प्रधानमंत्री के नाम जिला कलक्टर भंवरलाल मेहरा को ज्ञापन सौंपा गया।
बाजारों में पसरा रहा सन्नाटा
बंद के चलते शहर में सुबह से ही सन्नाटा पसरा रहा। शहर में लोगों की ओर से एससी,एसटी बिल के विरोध में स्वैच्छिक दुकानें बंद रही। जिसके चलते शहर के बाजारों में इक्का दुक्का आदमी दिखाई दिए। भारत बंद के चलते निजी विद्यालय में बंद रहे।
नहीं चली कई बसें
बंद को देखते हुए कई निजी बसें बंद रही। जिसके चलते शहर के बस स्टैंड पर भी सन्नाटा पसरा रहा। वहीं यात्री बसों के इंतजार में बस स्टैंड पर बैठे नजर आए।
निकाली वाहन रैली
बिल को लेकर भारत बंद के चलते शहर में भी सुबह लोगों की ओर से वाहन रैली निकाल कर दुकानें बंद करवाई गई। जिसके बाद 12 बजे नगर परिषद से नारेबाजी करते हुए मिनी सचिवालय पहुंंचे जहां प्रधानमंत्री के नाम जिला कलक्टर को ज्ञापन सौपा।
पुलिस प्रशासन रहा मौजूद
सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस प्रशासन सुबह से ही सर्तक रहा। बंद के दौरान रैली के साथ, शहर के चौराहों पर पुलिस के जवान दिखाई दिए।
पीपलखूंट . भारत बंद के दौरान यहां एक भी दुकान नहीं खुली। सभी ने बंद का समर्थन किया। उपखंड कार्यालय में एससी/एसटी अत्याचार निरोधक कानून में सरकार द्वारा किए गए संशोधन के विरोध में राज्यपाल के नाम दिया। पीपलखूंट पुलिस निरीक्षक सुरेन्द्र कुमार सोलंकी, उपखंड रिडर जीवतराम को सौंपा गया।इस दौरान नरेन्द्रसिंह चौहान सहित सामान्य, ओबीसी वर्गों के लोग उपस्थित रहे।
रायपुर . एक्ट के संशोधन के विरोध में राजस्थान बन्द के आह्वान पर रायपुर कस्बा बन्द रहा। कस्बे के बाजारों में पसरा सन्नाटा पसरा रहा। सभी संघटनो ने एक्ट में किए गए पुन: संशोधन को काले कानून की संज्ञा दी। सभी ने शांति और सौहार्दपूर्ण अपने प्रतिष्ठान बंद रख कर विरोध प्रदर्शन किया।
चूपना. गांव में भी बन्द रहा। गांव में सुबह से दुकान व सभी तरह के प्रतिष्ठान बन्द रहे। दिनभर राहगीर चाय-पानी के लिए भटकते रहे। चूपना गांव में ग्रामीणों ने वाहन रैली निकाली।इसके बाद उपखंड अधिकारी अरनोद को ज्ञापन सौंपा गया। इस मौके पर चूपना गांव के विजय शर्मा, गोविंद शर्मा, राजू नाथ, विक्की जैन आदि ग्रामवासी मौजूद थे।
अरनोद. बिल में संशोधन को लेकर केन्द्र सरकार द्वारा पुन: अध्यादेश लिए और राष्ट्रपति द्वारा मंजूरी मिलने से सभी सामान्य व पिछड़े वर्ग के लोगों में आक्रोश व्याप्त है। उसी को लेकर भारत बंद रखा गया। उसी क्रम में अरनोद भी बंद रखा गया। पहली बार अरनोद में स्वैच्छिक बंद रहा। जो पूर्ण रुप से सफल रहा।गांव के मनीष कोठारी, विशाल जैन, ईश्वर चौधरी, अंकित परिहार, राजेन्द्रसिंह झाला सहित कई ग्रामीण उपस्थित रहे।
घंटाली. एससी एसटी एक्ट के विरोध में भारत बंद को लेकर घंटाली में कोई असर नहीं दिखा। गुरुवार को बंद का ऐलान किया था। घंटाली में सभी दुकानें खुली रहीं।
बारावरदा. यहां गांव में भी बंद का असर देखा गया।के ग्रामीण क्षेत्रों में भी भारत बंद का असर देखने को मिला। किसी भी व्यवसायी ने दुकान नहीं खोली।
दलोट. एक्ट के संशोधित बिल मे केंद्र सरकार द्वारा पारित संशोधन के विरोध में दलोट कस्बा बन्द रहा। विरोध में रैली निकाली गई जो कई गांवों से होकर गुजरी।शाम को दलोट में राष्ट्रपति के नाम तहसीलदार धनराज मीणा को ज्ञापन सौंपा गया।
सुहगपुरा. सुहागपुरा में भी बंद रखा गया। बाजार बंद रहे। इससे सूनापन छाया रहा।
मोवाई. कोटडी गांव में राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना कोटड़ी में ैज्ध् ैब् ंबज के विरोध में बाजार और स्कूल बंद रखे गए और प्राइवेट बस से प्रतापगढ़ जाने वाली बंद पड़ी हुई है यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है इसलिए कोटडी गांव में ैब् े ज एक्ट के खिलाफ सभी स्वर्ण और ओबीसी वर्ग के द्वारा बाजार विद्यालय में गांव में बंद रखे गए

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned