शिक्षा विभाग के पोर्टल पर नहीं अपडेट सूचनाएं

शिक्षा विभाग के पोर्टल पर नहीं अपडेट सूचनाएं
शिक्षा विभाग के पोर्टल पर नहीं अपडेट सूचनाएं

Ram Sharma | Updated: 23 Sep 2019, 01:24:02 PM (IST) Pratapgarh, Pratapgarh, Rajasthan, India

प्रारम्भिक जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय की व्यवस्थाएं पूरी तरह से लडख़ड़ाई हुई(pratapgarh news in hindi)


प्रतापगढ़. यहां मिनी सचिवालय स्थित प्रारम्भिक जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय की व्यवस्थाएं पूरी तरह से लडख़ड़ाई हुई है। अगस्त बीत जाने के बाद भी नए सत्र के दौरान नामांकन और विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों की जानकारी शिक्षा विभाग के पोर्टल शाला दर्पण पर अपडेट नहीं हो पाई है।
नतीजन जिस स्कूल में एक भी विद्यार्थी नहीं वहां दो शिक्षक बताया जा रहा है, जबकि हकीकत में वहां कोई शिक्षक नहीं है। जहां १०० से अधिक बच्चे नामांकित है। वहां शिक्षकों की कमी है। यहां प्रारंभिक शिक्षा के जिला शिक्षा अधिकारी का पद भी रिक्त चल रहा है। प्रारंभिक शिक्षा विभाग का जिला कार्यालय होने के बावजूद यहां नवीन सत्र में विद्यालयों में बच्चों के नामांकन, विद्यालयों में स्वीकृत और कार्यरत शिक्षकों की कोई अधिकृत जानकारी उपलब्ध नहीं है। विभाग के पोर्टल में प्रतापगढ़ जिले में शिक्षकों का कॉलम खाली है। कार्यालय के कर्मचारी इंटरनेट की धीमी गति का बहाना बनाकर काम टाल रहे हैं, जबकि जिले के सभी ब्लॉक स्तर पर कार्यालयों पर सूचनाएं अपडेट होकर जिला कार्यालय में सूचनाएं समय पर पहुंच रही है। बावजूद इसके जिला कार्यालय में यह सूचनाएं अपडेट नहीं हो रही। केवल इस वर्ष की नामांकन की स्थिति है। इस सूचना के अनुसार जिले में कुल नामांकन ८३०७६ दर्शाया जा रहा है। जबकि इसके अनुपात में कार्यरत शिक्षकों की संख्या के आंकड़े विभाग के पास उपलब्ध नहीं है।
शून्य नामांकन, फिर भी २ अध्यापक
जानकारी के मुताबिक सूचनाएं अपडेट नहीं होने से विद्यालयों में छात्र शिक्षकों का अनुपात गड़बड़़ाया हुआ है। विसंगति का सबसे मजेदार उदाहरण है करमदीखेड़ा प्राथमिक विद्यालय। इस स्कूल के बारे में शिक्षा विभाग के शाला दर्पण पोर्टल में दर्ज है कि यहां एक अध्यापक पदस्थापित है। जबकि हकीकत यह है कि इस स्कूल में न विद्यार्थी है और न ही शिक्षक। ऐसा ही धोलापानी प्राथमिक विद्यालय में है, जहां १५६ बच्चों के नामांकन पर मात्र ०२ अध्यापक कार्यरत है।
शहरी क्षेत्र में भी है शिक्षकों की कमी
जिले में शहरी क्षेत्र के स्कूलों में भी शिक्षकों की काफी कमी है। यहां नवीन कस्बा प्राथमिक विद्यालय में ६४ छात्रों पर ०२ शिक्षक कार्यरत है। मानपुरा उच्च प्राथमिक विद्यालय में १०३ छात्रों पर ०१ शिक्षक है। लोहार गली उप्रावि में १२४ पर ०३ शिक्षक, बगवास प्राथमिक विद्यालय में १६२ बच्चों पर ०२, भाटपुरा में ७२ पर ०१, ऐसे ही तालाब खेड़ा प्राथमिक विद्यालय में ९२ पर ०३, अहीर बस्ती में ६३ पर ०१ अध्यापक है। कहने को शहरी क्षेत्र के नोडल विद्यालय राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय लोहार गली में दिखावे के रूप में तीन शिक्षक कार्यरत है। जिनमें एक शारीरिक शिक्षक है और एक शिक्षिका को बीएलओ का कार्य सौंपा हुआ हैै। प्रधानाध्यापक नोडल विद्यालय होने से आधे से अधिक समय डाकिये के रूप में शहर के अन्य विद्यालयों के रिकार्ड संधारित करने और जिला मुख्यालय को सूचनाएं प्रेषित करने में अपना वक्त पूरा कर रहे है। ऐसे में कार्यरत शिक्षक विद्यालय में अध्यापन का कार्य पूरी तरह से संपादित नहीं करा पा रहे है।

इनका कहना है
& इंटरनेट की समस्या आ रही है। इसलिए शाला दर्पण पोर्टल पर सूचना अपडेट नहीं हो पा रही है। शीघ्र ही सूचनाएं अपडेट कर दी जाएंगी।
रामलाल आर्य, कार्यालय अधीक्षक, जिला प्रारभिक शिक्षा अधिकारी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned