राजनीति की मुख्यधारा में नहीं आ पा रहे जिले के छात्रनेता, कमजोर आर्थिक हालात आ रहे आड़े

राजनीति की मुख्यधारा में नहीं आ पा रहे जिले के छात्रनेता, कमजोर आर्थिक हालात आ रहे आड़े

Hitesh Upadhyay | Updated: 13 Aug 2019, 11:04:28 AM (IST) Pratapgarh, Pratapgarh, Rajasthan, India

बड़े नेताओं का नहीं मिलता सहारा, छात्रसंघ अध्यक्षों में से अब तक एक भी नहीं बना विधायक

प्रतापगढ़. जिले के महाविद्यालयों में से छात्र नेता मूल राजनीति में नहीं आ पा रहे है। छात्र राजनीति से राजनेता देने के मामले में प्रतापगढ़ पीजी कॉलेज फिसड्डी रहा है। छात्रसंघ चुनाव को राजनीति की नर्सरी माना जाता है, जहां छात्र संघ पदाधिकारियों के रूप में भविष्य के राजनेता तैयार होते हैं। लेकिन यहां अब तक एक भी छात्रनेता राजनीति की मुख्यधारा में नहीं आया। इसके पीछे बड़ी वजह छात्रों की कमजोर आर्थिक स्थिति और वरिष्ठ राजनेताओं का सहयोग नहीं मिलना है। प्रतापगढ़ पीजी कॉलेज आदिवासी क्षेत्र के बड़े कॉलेजों में से एक है। पिछले छह साल में यहां आदिवासी समुदाय के युवा ही छात्रसंघ अध्यक्ष बनते रहे हैं, लेकिन अध्यक्ष पद पर रहा छात्रनेता आज तक विधायक नहीं बना। वे पढ़ाई पूरी करने के बाद रोजगार की तलाश में जुट जाते हैं। इसमें भी अधिकांश सरकारी नौकरी की चाह ज्यादा होती है। जबकि कुछ रोजगार की तलाश में जिले से बाहर पलायन कर जाते हैं।

कॉलेज में चुनावी तैयारियां शुरू हुई, पहचान पत्र बनवाने में लगे विद्यार्थीं
क्या है कारण
जानकारों का मानना है कि रोजगार का दबाव इसका बड़ा कारण है। जनजाति क्षेत्र में परिवारों की माली हालत कमजोर होती है। इसलिए पढ़ाई पूरी होते ही परिवार के लोग अपने बच्चों को रोजगार ढूंढने के लिए बाध्य करते हैं। दूसरा कारण राजनीति दलों के बड़े नेताओं का अपेक्षित सहयोग नहीं मिलना है। बड़े शहरों में जहां छात्र राजनीति में पर्दे के पीछे बड़े नेताओं का पूरा हाथ होता है, वैसा यहां नहीं है। छात्रसंघ चुनाव जीतने और पढ़ाई पूरी करने के बाद भी कोई वरिष्ठ राजनेता छात्रों को अपने साथ आगे नहीं बढ़ाता। यही कारण है कि प्रतापगढ़ पीजी कॉलेज के छात्रसंघ की नर्सरी में नेता रूपी पौधे नहीं पनप पाते।

जहां कॉलेज आने से डरती थी छात्राएं, वहां अब छात्रों से ज्यादा संख्या

पिछले 6 वर्ष के छात्रसंघ अध्यक्षों की वर्तमान स्थिति
वर्ष नाम चुनाव लड़ते समय कक्षा वर्तमान स्थिति
2018-19 जमनालाल मीणा बीए सेकंड ईयर छात्रसंघ अध्यक्ष
2017-18 शान्तिलाल मीणा एम ए एबीवीपी बांसवाड़ा संगठन मंत्री
2016-17 ईश्वर मीणा एम ए सरकारी टीचर
2015-16 अनिल मीणा फाइनल इयर नौकरी की तैयारी
2014-15 कैलाश मीणा फाइनल इयर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी
2013-14 संतोष मीणा फाइनल इयर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी

चुनाव घोषणा के साथ ही छात्र नेताओं में मची हलचल, संगठनों की बैठकों का दौर शुरू

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned