मुख्यमंत्री क्या आएंगी प्रतापगढ़, किसने दिया निमंत्रण...जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

मुख्यमंत्री क्या आएंगी प्रतापगढ़, किसने दिया निमंत्रण...जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

Rajesh Dixit | Publish: May, 27 2018 08:15:24 PM (IST) Pratapgarh, Rajasthan, India


मेवाड़ क्षत्रिय महासभा ने महाराणा प्रताप जयंती की तैयारियां


प्रतापगढ. मेवाड़ क्षत्रिय महासभा के संयोजन में विभिन्न सामाजिक व स्वयं सेवी संगठनों के सहयोग से १६ जून को आयोजित होने वाले महाराणा प्रताप जयंती पर समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को भी न्यौता दिया गया। महासभा के जिलाध्यक्ष डीडी सिंह राणावत जयपुर पहुंचे। जहां मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे के राजकीय आवास पर अभिनंदन किया। महाराणा प्रताप जयन्ति समारोह के लिए न्यौता दिया गया।इस मौके जिला उपाध्यक्ष मांगुसिंह वरमण्डल, जिला संगठन मंत्री नाहरसिंह कल्याणपुरा एवं जिला सहकोषाध्यक्ष सुरेन्द्रसिह गंधेर मौजूद थे।

बच्चों को कुपोषण से बचाने के लिए आया ‘आई-मैम’
-जिले के दो ब्लॉक में लागू होगी योजना
प्रतापगढ़. पोषण की कमी से जूझ रहे बच्चों को बचाने के लिए सरकार (आईमैम) समेकित कुपोषण प्रबंधन कार्यक्रम शुरू करने जा रही है। इस कार्यक्रम में कुपोषित बच्चों की पहचान समुदाय स्तर पर करके उन्हें कुपोषण के चक्र से मुक्ति दिलाई जाएगी। ताकि बच्चों का शारारिक व मानसिक विकास ठीक ढंग से हो सके। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ दिनेश खराड़ी ने बताया कि यह कार्यक्रम राज्य के 20 जिलों में संचालित किया जाएगा। जिसमें हमारे प्रतापगढ़ जिले के अरनोद व पीपलखूंट ब्लॉक को भी चुना गया है। उन्होंने बताया कि चयनित दोनों ब्लॉक के 30 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के अन्तर्गत आने वाले सभी गांवों में आशा सहयोगिनी घर-घर जाकर एमयूएसी टेप से बच्चों की स्क्रीनिंग करेंगी। स्क्रीनिंग के दौरान अलग-अलग तीन श्रेणियों में कुपोषित बच्चों की पहचान की जाएगी। इस दौरान जो बच्चे कुपोषित मिले, उन्हें श्रेणीनुसार पोषण, चिकित्सकीय लाभ की निशुल्क सेवाएं दी जाएगी।
6 76 बच्चों का लक्ष्य
आरसीएचओ डॉ दीपक मीणा ने बताया कि योजना में पीपलखूंट व अरनोद ब्लॉक के कुल 6 76 कुपोषित बच्चों को कुपोषण से मुक्ति दिलाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस लक्ष्य के लिए समुदाय स्तर पर आशाएं घर-घर दस्तक देंगी एवं बच्चों की स्क्रीनिंग करेगी। इसके बाद बच्चों को पोषाहार व निशुल्क चिकित्सकीय उपचार सलाह व सहायता मुहैया करवाई जाएगी।
आशाओं को दिया गया प्रशिक्षण
योजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए दोनों ब्लॉक में कार्यरत आशा सहयोगिनी व आगंनवाड़ी कार्यकर्ताओं को यूनीसेफ की देखरेख में दक्ष प्रशिक्षकों के द्वारा पांच दिवसीय ट्रेनिंग दी गई है। जिसमें पीपलखूंट व अरनोद ब्लॉक के 125 आशा सहयोगिनी व 148 आंगनवाड़ी कार्यकर्ता शामिल है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned