scriptThreat of bird flu from migratory birds, forest department alert | प्रवासी पक्षियों से बर्ड फ्लू की आंशका, वन विभाग सतर्क | Patrika News

प्रवासी पक्षियों से बर्ड फ्लू की आंशका, वन विभाग सतर्क

प्रतापगढ़. हाल ही में प्रदेश में प्रवासी पक्षियों के साथ बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। इसके साथ जिले में भी वन विभाग ने सतर्कता बढ़ा दी है। कर्मचारियों को इसके लिए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए गए है। वहीं तालाबों पर भी प्रवासी पक्षियों पर नजर रखी जा रही है।

प्रतापगढ़

Published: November 17, 2021 08:15:40 am


--तालाबों पर विशेष निगरानी के दिए निर्देश
-जोधपुर में बर्ड फ्ल के बाद प्रदेश में अलर्ट
- जारी की गई गाइड लाइन
प्रतापगढ़. हाल ही में प्रदेश में प्रवासी पक्षियों के साथ बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। इसके साथ जिले में भी वन विभाग ने सतर्कता बढ़ा दी है। कर्मचारियों को इसके लिए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए गए है। वहीं तालाबों पर भी प्रवासी पक्षियों पर नजर रखी जा रही है।
गौरतलब है कि जोधपुर जिले में कुरजां और सारस में बर्ड फ्लू की बीमारी से करीब दो सौ पक्षियों की मौत हो गई थी। एक साथ इतनी बड़ी मात्रा में पक्षियों में बर्ड फ्लू संक्रमण को देखते हुए वन विभाग और पशुपालन विभाग सावचेत हो गया। यहां पक्षियों में एवियन एन्क्लूजा वायरस पाया गया। स्थिति को देखते हुए सभी जिलों में अधिकारियों और कर्मचारियों को सावधानी बरतने और निगाह रखने के निर्देश दिए गए। इस पर प्रतापगढ़ जिले में भी वन विभाग को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए गए है। इसके साथ ही जिले के प्रवासी पक्षियों के आश्रय स्थलों पर भी कर्मचारियों को नजर रखने के निर्देश दिए गए है।
-=-=-=--=

संक्रामक बीमारी, तेजी से फैलती है
एवियन इन्फ्लुएंजा नाम के वायरस से फैलने वाली बीमारी बर्ड फ्लू पक्षियों और जानवरों के साथ इंसानों में भी तेजी से फैलती है। चूंकि हम पहले ही कोरोना जैसी वैश्विकमहामारी से जूझ रहे हैं। ऐसे में बर्ड फ्लू से बचाव के लिए हम सभी को हर संभव सावधानी बरतनी जरूरी है। क्योंकि ये बीमारी भी तेजी से फैल सकती है। जहां घायल अथवा मृत पक्षी मिलते है, तो उनसे ग्रामीणों को दूर रहने की सलाह देनी है। आस.पास घायल एव मृत पक्षी दिखाई देने पर इसकी सूचना संबंधित क्षेत्र के वनकर्मी अथवा पशुपालन विभाग को देनी है।
--- आम लोग सावधानी बरतें
एवियन इन्फ्लुएंजा का वाइरस कोरोना वाइरस की तरह ही तेजी से फैलता है। ऐसी स्थिति में सरकार की ओर से जारी गाइड लाइन का पालन करना चाहिए। संक्रमित स्थान जहां पक्षियों की मृत्यु हुई है। उनसे आमजन दूर रहे। किसी भी घायल पक्षी को आमजन ख़ुद बचाने की कोशिश ना करें। बल्कि इसकी सूचना संबंधित क्षेत्र के वन कर्मचारियों को दें। बर्ड फ़्लू में मृत्यु असामान्य संख्या में होती है। ऐसे में किसी को 1 या 2 पक्षी मृत मिले तो घबराएं नहीं। किसी भी पक्षी की प्राकृतिक मृत्यु को बर्ड फ्लू से जोडऩे जैसी अफवाहों से भी बचना चाहिए। प्राकृतिक रूप से मृत पक्षी को दफना देना चाहिए।

--बरती जा रही सतर्कता, विशेष निगरानी
प्रदेश के जोधपुर में प्रवासी पक्षियों में बर्ड फ्लू और मौत के बाद उच्चाधिकारियों के निर्देश पर सतर्कता बरती जा रही है। जिसमें जिले भर और वन विभाग के अधीन संरक्षित क्षेत्र एवं क्षेत्र में विशेष सतर्कता के निर्देश दिए है। वहीं पशुपालन विभाग की सलाह से कार्रवाई के लिए कहा गया है।
सुनीलकुमार, उपवन संरक्षक, प्रतापगढ़.
प्रवासी पक्षियों से बर्ड फ्लू की आंशका, वन विभाग सतर्क
प्रवासी पक्षियों से बर्ड फ्लू की आंशका, वन विभाग सतर्क

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

संसद में फिर फूटा कोरोना बम, बजट सत्र से पहले सभापति नायडू समेत अब तक 875 कर्मचारी संक्रमितRepublic Day 2022 parade guidelines: बिना टीकाकरण और 15 साल से छोटे बच्चों को परेड में नहीं मिलेगी इजाजतकोरोना ने टीका कंपनियों को लगाई मुनाफे की बूस्टरदेश में कोरोना के बीते 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा नए मामले, जानिए कुल एक्टिव मरीजों की संख्यासुप्रीम कोर्ट में 6000 NGO के FCRA लाइसेंस रद्द करने के खिलाफ याचिका पर सुनवाई आजसुप्रीम कोर्ट के वकीलों को मिला रिकॉर्डेड कॉल, दिल्ली में कश्मीर का झंडा फहराने की धमकीसेल्स एंड टाइल्स व्यापारी के घर GST का छापा, सुबह-सुबह पहुंची टीम, घर, गोदाम और दुकान में खंगाले दस्तावेजमुठभेड़ में ढेर हुआ ईनामी नक्सली कमांडर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.