ग्राम विकास अधिकारियों ने किया हवन


प्रतापगढ़. सरकार व शासन के साथ हुए अपने 9 लिखित समझौते लागू करवाने व कई अन्य मांगों को लेकर राजस्थान ग्राम विकास अधिकारी संघ की ओर से गत 30 जनवरी से चल रहे सत्याग्रह आंदोलन के तहत शनिवार को जिले के ग्राम विकास अधिकारियों ने जिला कलक्ट्रेट परिसर मे जिला अध्यक्ष घनश्याम गायरी की अध्यक्षता में सत्याग्रह यज्ञ का आयोजन कर सरकार का ध्यान आकर्षित किया।

By: Devishankar Suthar

Published: 28 Feb 2021, 07:44 AM IST


प्रतापगढ़. सरकार व शासन के साथ हुए अपने 9 लिखित समझौते लागू करवाने व कई अन्य मांगों को लेकर राजस्थान ग्राम विकास अधिकारी संघ की ओर से गत 30 जनवरी से चल रहे सत्याग्रह आंदोलन के तहत शनिवार को जिले के ग्राम विकास अधिकारियों ने जिला कलक्ट्रेट परिसर मे जिला अध्यक्ष घनश्याम गायरी की अध्यक्षता में सत्याग्रह यज्ञ का आयोजन कर सरकार का ध्यान आकर्षित किया।
आठों पंचायत समितियों के ग्राम विकास अधिकारियों ने पूर्ण विधि.विधान से प्रत्येक मांग की पूर्ति के लिए यज्ञ में आहुतियां दी।
जिला मंत्री राधेश्याम धाकड़ ने बताया कि राजस्थान ग्राम विकास अधिकारी संघ विगत 2 वर्षों से अपनी मांगों को लेकर लगातार शासन एवं सरकार को ज्ञापन प्रेषित कर रहा है लेकिन सरकार द्वारा कोई सकारात्मक कार्रवाई नहीं कि जा रही है जिससे आहत होकर ग्राम विकास अधिकारी संघ के द्वारा सरकार के ध्यानाकर्षणार्थ सत्याग्रह यज्ञ आयोजित किए जा रहे हैं। उदयपुर संभागिय मंत्री अब्दुल हकीम मंसूरी ने बताया कि सरकार द्वारा सत्याग्रह आंदोलन के बाद भी सकारात्मक कार्रवाई नहीं करने से ग्राम विकास अधिकारी संवर्ग में आक्रोश है। जिस पर समय रहते ध्यान देना उचित होगा। इस अवसर पर कई ग्राम विकास अधिकारी उपस्थित थे।
-=-
किसान गोष्ठी का किया आयोजन
प्रतापगढ़.
कृषि विज्ञान केन्द्र में शनिवार को किसान गोष्ठी का आयोजन किया गया। केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रभारी डॉ. योगेश कनोजिया ने बताया कि इस किसान गोष्ठी के माध्यम से कृषकों के बीच नवीन तकनीकी जानकारियों का हस्तानान्तरण कर कृषकों को अधिक से अधिक फायदा पहुंचाना है,। जिससे कृषकों का आर्थिक एवं सामाजिक विकास हो सके। डॉ. कनोजिया ने कृषकों को खेती के साथ-साथ खेती से जुड़े अन्य व्यवसाय जैसे मधुमक्खी पालन, मुर्गीपालन, बकरी पालन व मशरूम उत्पादन को प्राथमिकता देने की बात कही। जिससे किसान फसल उत्पादन के अतिरिक्त आमदनी प्राप्त कर सकते हैं।
कार्यक्रम में राजस्थान कृषि महाविद्यालय, उदयपुर से अखिल भारतीय समन्वित अनुसंधान परियोजना के वैज्ञानिक डॉ. पी. बी. सिंह ने विभिन्न फसलों की उन्नत किस्मों के बारें में जानकारी प्रदान की। उन्होनें बताया कि उन्नत किस्म के बीज का प्रयोग कर किसान अधिक पैदावार प्राप्त कर सकते हैं। डॉ. सिंह ने किसानों को बीजोपचार के बारे में विस्तार से बताया। इससे होने वाले लाभों से कृषकों को अवगत कराया। उन्होनें कृषकों को सुरक्षित अनाज भण्डारण की पर्यावरण अनुकूल विधि की जानकारी दी। केन्द्र के तकनीकी सहायक डॉ. रमेश कुमार ने कृषकों को प्रसार गतिविधियों की जानकारी देते हुए कृषको को किसान कॉल सेन्टर, कृषि दर्शन, खेती बाडी, बागवानी, खेती री बांता व फार्मर पोर्टल से जुडऩे के बारे में जानकारी दी।
अखिल भारतीय समन्वित अनुसंधान परियोजना के अन्तर्गत जनजाति किसानों को सुरक्षित अनाज भण्डारण के लिए लोहे की कोठियां, स्प्रेयर, दूध का केन एवं मक्का के दाने निकालने के यन्त्र प्रदान किए गए। इस किसान गोष्ठी कार्यक्रम में राजस्थान कृषि महाविद्यालय, उदयपुर के सहायक कृषि अधिकारी धर्मेन्द्र वर्मा, वरिष्ठ अनुसंधान अध्येता विमल कुमार ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

Devishankar Suthar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned