video : ऐसी तकनीक खोजी, जिससे एक चौथाई पानी से ही पनप जाए पौधा

Ram Sharma | Publish: Jun, 25 2019 12:30:58 PM (IST) | Updated: Jun, 25 2019 02:02:43 PM (IST) Pratapgarh, Pratapgarh, Rajasthan, India


पौधे लगाने के साथ जल संरक्षण में भी जुटे हैं पर्यावरण प्रेमी दीपेश

प्रतापगढ़. पर्यावरण सरंक्षण के क्षेत्र में काम करने वालों में जाना पहचना नाम है दीपेश कूनिया। शहर के इस नवयुवक ने अपनी लगन और मेहनत के बल पर हजारों न केवल रोपे, बल्कि उनकी परिवार के सदस्य के रूप में देखभाल भी की, जिसके चलते उनके लगाए सभी पेड़ आज फल फूल रहे हैं। लेकिन बहुत ही कम लोगों को मालूम है कि वे जल बचाओं अभियान से भी जुड़े हुए हैं। घर और कार्यस्थल पर वे हमेशा जल संरक्षण का प्रयास करते हैं। पौधरोपण करने में उन्होंने ऐसी तकनीक अपनाई है, जिसमें आमतौर पर लगने वाले पानी की जगह मात्र एक चौथाई पानी में ही काम हो जाता है। दीपेश ने पौधरोपण की शुरूआत जैन समाज के मुक्तिधाम से की। चार साल पहले जब उन्होंने वहां पहला पौधा रोपा, तब पूरी जमीन बंजर थी। पूरे मोक्षधाम में छायादार पेड़ के नाम पर केवल दो पेड़ दिखाई देते थे। आज इस परिसर में चारों और छायादार पौधे लहरा रहे हैं। आने वाले समय में वे सब छायादार पेड़ के रूप में यहां आने वाले लोगों को शीतल छाया प्रदान करेंगे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned