राजा भइया के गढ़ में योगी सरकार का ये कदम सबसे सफल

राजा भइया के गढ़ में योगी सरकार का ये कदम सबसे सफल

राजा भइया के विधानसभा क्षेत्र में सबसे ज्यादा हुई गेहूं की खरीद

प्रतापगढ़. तहसील क्षेत्र में खोले गए गेहूं क्रय केंद्रों पर इस बार किसानों की लाइन नहीं टूट रही है। सरकार द्वारा गेहूं विक्रय के दूसरे दिन सीधे किसानों के खाते में पैसा पहुंचने को लेकर किसान सीधे अपनी उपज क्रय केंद्रों पर लेकर पहुंच रहा है।



कुंडा तहसील क्षेत्र में करीब दर्जन भर क्रय केंद्र खोले गए हैं, जहां पर गेहूं खरीद का काम तेजी से चल रहा है। नगर में रेलवे स्टेशन के पास खोले गए गेहूं क्रय केंद्र पर महज बीस दिन में 1631 कुंतल गेहूं की खरीद हुई है। इसमें 54 किसानों ने अपना गेहूं विक्रय किया है, जबकि उक्त केंद्र को तीस हजार कुंतल का लक्ष्य दिया गया है, जबकि पिछली बार पूरे सीजन में महज 1350 कुंतल ही गेहूं की खरीद हुई है।



ऐसे में इस बार किसानों को बाजार से अधिक मूल्य व आसानी से आरटीजीएस के जरिए भुगतान हो रहा है। विकास खंड कालाकांकर के आलापुर स्थित क्रय केंद्र में किसान उचित मूल्य मिलने से खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं। किसान बताते हैं कि अब बिचैलिए परेशान हैं। प्रदेश की योगी सरकार ने किसानों की हित के लिए यह जो कदम उठाया है, उससे किसान खुश हैं।



गुरुवार को आलापुर में गेहू क्रय केंद्र पर अपना गेहूं बेचने आए अब्दुल समधपुर निवासी राजेंद्र ¨सह बताते हैं कि खेत में 12 कुंतल गेहूं की पैदावार हुई । इसका बाजार में 1550 रुपये रेट है। सरकारी रेट 1625 रुपये कुंतल है। हम संतुष्ट हैं। दो दिन में मेरे खाते में पैसा आ जाएगा। इसी प्रकार मिसिरपुर निवासी अशोक कुमार मिश्रा 40 कुंतल, बढेरा निवासी सुनील कुमार यादव 18 कुंतल बेचा।



इसका मूल्य 1625 रुपये प्रति कुंतल तथा 10 रुपया कुंतल खर्च पल्लेदारी देना पड़ा। योगी सरकार की इस व्यवस्था से हम लोग काफी खुश है मौके पर मौजूद कई किसानों ने बताया की दो दिन में मेरे खाते में पैसा आ गया विपणन निरीक्षक आलापुर सत्येंद्र सरोज ने इस बाबत बताया कि सात अप्रैल से 27 अप्रैल तक 3732 कुंतल गेहूं की अब तक खरीद हुई जो जिले में टॉप पर है। 1560 कुंतल गेहूं डिपो को भी भेजा गया। किसानों को कोई परेशानी न होगी। किसानों का पैसा सीधे उनके खाते में पंजाब नेशनल बैंक से भेज दिया जा रहा है।
Ad Block is Banned