द्रव्यवती नदी में अब 47 किमी में साइकिल ट्रेक भी होगा

Sunil Sharma

Publish: Aug, 19 2017 03:48:00 (IST)

Project Review
द्रव्यवती नदी में अब 47 किमी में साइकिल ट्रेक भी होगा

द्रव्यवती नदी (अमानीशाह नाला) प्रोजेक्ट में 4 मीटर चौड़े वॉक-वे पर ही चलेंगी साइकिल, जेडीए ने टाटा कंपनी को दिए निर्देश

जयपुर। द्रव्यवती नदी (अमानीशाह नाला) प्रोजेक्ट में अब लोगों को साइकिल चलाने के लिए ट्रैक की सुविधा भी मिलेगी। इस प्रोजेक्ट में 4 मीटर चौड़ा वॉक-वे व साइकिल ट्रैक बनेगा। विश्वकर्मा के पास जैसल्या गांव से गोनेर तक 47 किलोमीटर दूरी में इस वॉक-वे व साइकिल ट्रैक पर साइकिल चलाने की अनुमति होगी।

मुख्यमंत्री के निर्देश पर जेडीए ने इसे प्रोजेक्ट में शामिल कर लिया है। अनुबंधित कंपनी टाटा प्रोजेक्ट्स के अधिकारियों को निर्देशित भी कर दिया गया है। प्रोजेक्ट के कार्य की समीक्षा के लिए शुक्रवार को हुई बैठक में कंपनी के अधिकारियों को इस बारे में बता दिया गया। सूत्रों के मुताबिक पिछले दिनों मुख्यमंत्री के साथ हुई बैठक में उन्होंने साइकिल ट्रैक की जरूरत जताई थी। जेडीसी वैभव गालरिया की अध्यक्षता में हुई बैठक में टाटा प्रोजेक्ट्स के उपाध्यक्ष सत्यनारायण, जेडीए अभियांत्रिकी निदेशक ललित शर्मा, अतिरिक्त मुख्य अभियंता बीडी शर्मा सहित अन्य अधिकारी शामिल हुए।

अब बदलने
होंगे पत्थर
मौजूदा डिजाइन के आधार पर अभी तक केवल वॉक-वे विकसित किया जाना था। इसमें करौली या जोधपुरी पत्थर लगता लेकिन अब साइकिल ट्रैक के लिए दूसरे पत्थर या टाइल लगाई जाएंगी। इस पर लागत कुछ बढ़ सकती है। हालांकि इसका वास्तविक आंकलन एक-दो सप्ताह में होगा।

किराए पर साइकिल देना भी प्रस्तावित
यहां किराए पर साइकिल उपलब्ध कराने पर भी विचार चल रहा है। इस पर चर्चा तो हुई लेकिन अंतिम निर्णय नहीं हो पाया। प्रोजेक्ट निर्माण के दौरान ही इस बारे में काम होगा। अभी स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत शहर में बायसाइकिल स्टेंड विकसित किए जा रहे हैं। इन साइकिलों को भी देखा जाएगा।

प्रोजेक्ट में यह भी है शामिल
टाउन स्क्वायर : व्यवसायिक गतिविधियों का संचालन, बड़े व्यापारियों व कंपनियों के लिए
कल्चरल प्लाजा : पर्यटकों की आवाजाही के आधार पर विकसित। एक समय में 5 से 10 हजार लोग एक साथ आ-जा सकें
कॉमर्शियल पार्क : शॉपिंग, वर्कशॉप, एग्जीबिशन, कैफे, रेस्टोरेंट
फैशन स्ट्रीट : हैंगआउट इलाके की तर्ज पर सुविधाएं। कियोस्क रूप में दुकानें, कैफे व रेस्टोरेंट
इको पार्क : हरित तकनीक पर आधारित पार्क, जिनमें सौर ऊर्जा, जल प्रबंधन, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन को बेहतर समझ सकेंगे
जॉगिंग पार्क : आवासीय इलाके से सटे हिस्से में पार्क में जॉगिंग ट्रेक होगा। पालतू छोटे जानवर को घुमाने के लिए अलग से हिस्सा
सामुदायिक उद्यान : योग, संगीत के साथ सैर करने के लिए मीडियम क्षेत्रफल का उद्यान
नेचर ट्रेल : द्रव्यवती नदी से सटे हुए हिस्से को इस तरह विकसित किया जाएगा
लोटिंग गार्डन : प्रोजेक्ट का एतिहासिक हिस्सा। अस्थाई उद्यान विकसित होगा, जिसमें पानी से जुड़ी कई गतिविधियां होंगी

1476 में से 300 करोड़ का हुआ काम
- 1476 करोड़ रुपए लागत से होना है सौन्दर्यकरण का काम
- 206 करोड़ रुपए १० साल में खर्च होने हैं रखरखाव पर
- 300 करोड़ का काम हुआ है अब तक
- 44 करोड़ रुपए खर्च हुए जुलाई में
- 47 किलोमीटर लम्बाई है द्रव्यवती नदी की
- 15 अगस्त 2018 को उद्घाटन करना चाहती है सरकार

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned