आयकर विभाग ने अटैच की 15 करोड़ की जमीन और डिवेंचर

आयकर विभाग ने अटैच की 15 करोड़ की जमीन और डिवेंचर
land deal

Sunil Sharma | Updated: 29 May 2017, 12:04:00 PM (IST) प्रोजेक्ट रिव्‍यू

आयकर विभाग की विंग ने बेनामी संपत्ति के मामले में पहला मामला उजागर किया है

नई दिल्ली। आयकर विभाग की मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ विंग ने बेनामी संपत्ति के मामले में पहला मामला उजागर किया है। विभाग ने सतना के कोयला एवं सीमेंट कंपनी से जुड़े पवन कुमार अहलूवालिया द्वारा ड्राइवर के नाम से अर्जित की गई संपत्ति को अटैच किया है। इसकी डिवेंचर सहित कीमत 15 करोड़ रुपए बताई गई है। इस मामले में जिस ड्राइवर के नाम से प्रॉपर्टी खरीदी, वह कुछ दिन से लापता बताया जा रहा है।

आयकर विभाग के सूत्रों ने बताया कि सतना के कारोबारी पवन कुमार अहलूवालिया की दो कंपनियां केजेएस सीमेंट लि. सतना एवं कमल स्पंज एंड पॉवर लि. है। कंपनी के कर्ताधर्ता पवन ने अपने ड्राइवर सुंदर कौल के नाम से आदिवासियों की जमीन खरीदी। नियमानुसार गैर आदिवासी को आदिवासी की जमीन खरीदने के लिए कलेक्टर से अनुमति लेना पड़ता है।

सूत्रों ने बताया कि अहलूवालिया ने जमीनों को कई बार खरीदी और बिकवाई। मामले का खुलासा तब हुआ, जब पवन ने सुंदर कौल से जमीन तो ले ली, लेकिन उसकी एवज में उसे पैसा नहीं दिया। आयकर विभाग ने इस मामले में करीब साढ़े पांच हेक्टेयर जमीन और डिवेंचर जब्त कर जांच शुरू कर दी है।

अब क्या होगा
पवन अहलूवालिया खरीदी जमीन और डिवेंचर बेच नहीं पाएगा, क्योंकि जमीन को आयकर विभाग ने अटैच कर लिया है। सरकार बेनामी संपत्ति कानून के तहत कार्रवाई करेगी।

सुंदर ने दी जानकारी
आयकर विभाग के सूत्रों का कहना है कि इस मामले की जानकारी जुटाने पर जब सुंदर से पूछताछ की तो उसने जमीन होने से इनकार कर दिया। साथ ही आयकर विभाग को बता दिया कि इस जमीन से मेरा कोई लेना-देना नहीं है। सुंदर कौल कटनी जिले के विजय राधौगढ़ तहसील के गांव देवरी का रहने वाला है। मामले का खुलासा होने के बाद वह लापता बताया जा रहा है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned