एनसीआर में होम सेल्स में 8 फीसदी की सालाना बढ़ौतरी

घरों की मांग बढऩे, लोअर होम रेट और कमोडिटी प्राइस में कमी से देश के टॉप 8 शहरों में होम सेल्स में सालाना आधार पर 17 फीसदी की बढ़ौतरी हुई

नई दिल्ली। घरों की मांग बढऩे, लोअर होम रेट और कमोडिटी प्राइस में कमी से देश के टॉप 8 शहरों में होम सेल्स में सालाना आधार पर 17 फीसदी की बढ़ौतरी हुई। प्रॉपर्टी रिसर्च फर्म लियासेज फोराज के मुताबिक, करंट फिस्कल इयर की सितंबर तिमाही में 8 शहरों 6.79 करोड़ स्क्वेयर फीट स्पेस की बिक्री हुई, जबकि पिछले साल की इसी तिमाही में यह आंकड़ा 5.78 करोड़ स्क्वेयर फीट था।

हालांकि तिमाही आधार पर होम सेल्स में 6 फीसदी की गिरावट आई। बिना बिके हुए घरों के स्टॉक में सालाना आधार पर 18 फीसदी और तिमाही आधार पर 6 फीसदी की बढ़ौतरी हुई। एन.सी.आर. में यह आंकड़ा पिछले साल के मुकाबले 8 फीसदी की बढ़ौतरी के साथ 34.58 करोड़ स्क्वेयर फीट हो गया, जबकि मुंबई में बिना बिका हुआ घरों का स्टॉक 27 फीसदी बढ़कर 21.72 स्क्वेयर फीट पर पहुंच गया।

हालांकि अक्टूबर-दिसंबर क्वॉर्टर में बिक्री बढ़ाने के लिए बिल्डर जिस्काऊंट और तमाम अन्य तरह के ऑफर दे रहे हैं। आमतौर पर इस तिमाही में घरों की बिक्री में तेजी रहती है। लियासेज फोराज के मैनेजिंग डायरैक्टर पंकज कपूर ने बताया, कीमतों में स्थिरता और इंटरेस्ट रेट में कमी के कारण घर खरीदना सस्ता हुआ है। ऐसे में इसकी बिक्री में बेहतरी आई है।

कमोडिटीज की कीमतों में गिरावट और डिवेलपर्स की तरफ से दिए जा रहे डिस्काऊंट के कारण घर खरीदने की गुंजाइश और बढ़ी है। उन्होंने बताया कि आगामी तिमाहियों में एंड यूजर डिमांड में और तेजी आएगी।
Show More
भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned