कृषि कर्ज के नाम पर 1.73 ​करोड़ की ठगी,12 आरोपी गिरफ्तार

कृषि कर्ज के नाम पर 1.73 ​करोड़ की ठगी,12 आरोपी गिरफ्तार
file photo

Prateek Saini | Publish: Nov, 26 2018 08:06:52 PM (IST) | Updated: Nov, 26 2018 08:06:53 PM (IST) Pune, Pune, Maharashtra, India

16 लोगों ने अलग-अलग जमीनों के दस्तावेज जमा कर बैंक से 1.73 करोड़ रुपये का कर्ज ले लिया...

(नागपुर,पुणे): फर्जी दस्तावेजों के आधार पर ठगों की टोली ने बैंक से कृषि कर्ज लिया। सभी लोन अकाउंट का पैसा बकाया होने पर बैंक ने जांच पड़ताल की और सारे दस्तावेज फर्जी होने का पता चला। मामले की शिकायत पुलिस से की गई। प्रकरण की जांच क्राइम ब्रांच की आर्थिक अपराध अन्वेषण शाखा (ईओडब्लू) को सौंपी गई। पुलिस ने जांच कर 16 आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया। 12 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। अन्य की तलाश जारी है। पकड़े गए आरोपियों में प्रशांत पुंडलिकराव बोरकर, राजेश कोठीराम गुहे, संतोष बजरंग नंदागवली, अनिल हीरामन घोड़े, सारंग अशोकराव चिटकुले, विक्रांत अमृत कंगाले, रामा कवड़ू भेंडे, जसवंतसिंह बलविंदरसिंह प्रधान, पतिराम बाबूलाल बावनकर, लखनलाल चंदनलाल राठोड़, योगीराज बालकिशन बिटले और सचिन अशोकराव चिटकुले का समावेश है।

 

यूं कि ठगी

आईडीबीआई बैंक की गोधनी शाखा के सहायक महाप्रबंधक प्रदीपकुमार लघाटे की शिकायत पर मानकापुर थाने में मामला दर्ज किया गया। जानकारी के अनुसार आरोपियों ने जुलाई 2013 में दूसरों की खेत जमीन के फर्जी दस्तावेज अपने नाम पर बनाए। खुद को किसान बताकर खेत जमीन का सातबारा, नमूना 8—अ, संबंधित खेत के नक्शे, हैसियत प्रमाणपत्र पर अपना नाम दिखाया और बैंक से कृषि कर्ज मांगा। 16 लोगों ने अलग-अलग जमीनों के दस्तावेज जमा कर बैंक से 1.73 करोड़ रुपये का कर्ज ले लिया। कर्ज रकम की अदायगी नहीं होने के कारण बैंक ने संबंधित लोगों द्वारा गिरवी रखी गई जमीन जब्त करने का निर्णय लिया। कागजी कार्रवाई के दौरान पता चला कि जिन जमीनों पर कर्ज दिया गया था वो आरोपियों की थी ही नहीं।

 

मास्टर माइंड का नाम आया सामने,जांच जारी

मामले की शिकायत पुलिस कमिश्नर से की गई। उन्होंने ईओडब्लू को जांच के आदेश दिए। एपीआई विशाल काले ने मामले की जांच की। सभी दस्तावेजों का ब्यौरा जमा करके मानकापुर थाने में मामला दर्ज करवाया। इस ठगी का मास्टर माइंड प्रशांत बोरकर बताया जा रहा है। जानकारी मिली है कि इसके पहले भी वह फ्राड कर चुका है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned