किडनी रैकेट केस- ​दो डॉक्टरों की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

मुंबई के हीरानंदानी अस्पताल में किडनी रैकेट का मामला

By: विकास गुप्ता

Published: 12 Aug 2016, 10:32 PM IST

मुंबई। मुंबई के हीरानंदानी अस्पताल में किडनी रैकेट मामले में गिरफ्तार दो डॉक्टरों की जमानत याचिका को मुंबई के सेशन कोर्ट ने खारिज कर दी है। राज्य सरकार ने फिलहाल मंबई के हीरानंदानी अस्पताल में अंग प्रत्यारोपण पर रोक लगा दी है। फर्जी पहचान बताकर किडनी प्रत्यारोपण करने के मामले में मंगलवार देर रात इस अस्पताल के सीईओ व पांच डॉक्टरों को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस की ओर से सख्ती से पूछताछ करने पर पता चला है कि किडनी दाता महिला सरोज ठाकुर बृजकिशोर की पत्नी नहीं थी, बल्कि उसने 10 लाख रुपये के लालच में किडनी देना स्वीकार किया था।

सामाजिक कार्यकर्ताओं ने किया था भंडाफोड़
मुंबई में ऊंचे दर्जे के अस्पतालों में एक नामचीन हीरानंदानी अस्पताल के किडनी प्रत्यारोपण रैकेट का खुलासा पिछले महीने ही हुआ था। सूरत के एक व्यापारी बृजकिशोर जायसवाल यहां किडनी प्रत्यारोपण कराने आए थे। उन्हें किडनी दान करने वाली महिला शोभा ठाकुर को फर्जी कागजात बनाकर उनकी पत्नी के रूप में पेश किया जा रहा था। बृजकिशोर के किडनी प्रत्यारोपण के अंतिम क्षणों में कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं की सूचना पर पुलिस ने पहुंचकर पूरे मामले का भंडाफोड़ कर दिया।​
विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned