शहर के 56 चिकित्सक होम क्वारन्टीन, डॉक्टरों और जनता में मचा हड़कंप, अब जनता का कैसे होगा इलाज

शहर के 56 चिकित्सक होम क्वारन्टीन, डॉक्टरों और जनता में मचा हड़कंप, अब जनता का कैसे होगा इलाज

By: Madhav Singh

Updated: 05 May 2020, 09:29 AM IST

रायबरेली . कोरोना महामारी में सरकार के लगातार निर्देश आ रहे हैं कि किसी तरह कोई भी बात छुपाने की कोशिश नहीं करेगा, छोटी सी भी बीमारी है तो उसको बताने की कोशिश करेगा अगर कोई पॉजिटिव आ रहा है या संदिग्ध पाया जा रहा है तो वह भी उसकी जानकारी प्रशासन को और स्वास्थ्य विभाग को देगा। लेकिन रायबरेली में एक ऐसा मामला आया है । शहर के एक निजी चिकित्सक की कोरोना पॉजिटिव आने के बाद से जिले के चिकित्सकों में डर का माहौल बना हुआ है।कारण था कि सभी ने 29 अप्रैल को एक साथ जिला अस्पताल में प्रशिक्षण लिया था और इस दौरान सभी चिकित्सक निजी चिकित्सक के संपर्क में किसी न किसी तरह आये थे।एहतियातन शहर के 56 चिकित्सकों को होम क्वारन्टीन कर दिया गया है जिससे मामला यही पर रुक जाए।चिकित्सको को आशंका है कि उन्होंने जिन मरीजो का ईलाज़ किया है उन्हें कैसे ट्रेस किया जाए इस स्थिति ने स्वास्थ्य विभाग को परेशानी में डाल दिया है।


शहर के 56 चिकित्सक होम क्वारन्टीन

बताते चले कि 3 मई को शहर में एक नर्सिंग होम संचालक की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद से शहर के चिकित्सक घबरा गए है क्योंकि जिला अस्पताल में कोरोना महामारी से निपटने के लिए 29 अप्रैल को एक ट्रेनिंग आयोजित की गई थी जिसमे पॉजिटिव चिकित्सक भी मौजूद था और उसके साथ शहर के जाने माने सभी चिकित्सक भी उस प्रशिक्षण में थे।जिसके बाद निजी चिकित्सक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।जंहा जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग भी इसको लेकर उहापोह की स्थित में आ गया है क्योंकि पॉजिटिव चिकित्सक ने इस बीच सैकड़ो मरीजो की चिकित्सा भी की है।स्वास्थ्य विभाग ने चिकित्सक को तो आइसोलेट कर दिया और उसकी नौकरानी के साथ परिवारीजनों को क्वारन्टीन केंद्र भेज दिया और अब इस खाके की तलाश में जुट गए कि इस बीच चिकित्सक किन किन से मिला था ।लेकिन जिसे ही चिकित्सक के प्रशिक्षण में मौजूद होने की जानकारी प्रशासन को लगी उनके होश उड़ गए और उन्होंने उस ट्रेनिंग में मौजूद सभी को होम क्वारन्टीन की सलाह दे डाली और आज कुछ तस्वीरों ने भी इसकी पुष्टि कर दी।सूत्रों के हवाले से पता चला है जिसमे शहर के जाने माने चिकित्सक डॉ आशा शंकर,डॉ वीरेंद्र व अन्य सभी डॉक्टर और उनके परिजन होम क्वारन्टीन हो गए है।

अब जनता का कैसे होगा इलाज


पत्रिका संवादाता से बात करते हुए एक निजी चिकित्सक का कहना है, पहले प्रशासन ने कहा की अस्पताल खोलो इसके बाद अस्पताल बंद करने का आदेश आया जिसको लेकर हम लोगों ने ट्रेनिंग की थी और ट्रेनिंग के बाद हमारे ही बीच के एक डॉक्टर का कोरोना पॉजिटिव आ जाने से हम सभी डॉक्टरों को होम क्वारन्टीन कर दिया गया है ।लेकिन इस बात के लिए पूछा गया कि अब अगर जिले के अंदर गर्भवती महिलाएं हैं या इमरजेंसी केस हैं उनका प्राइवेट डॉक्टरों के यहां इलाज चल रहा था अब कैसे इलाज होगा तो उनका यह कहना है कि आप शायद उन सभी का जिला अस्पताल में ही यह इलाज होंगे।

Show More
Madhav Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned