जमीनी विवाद में बुजुर्ग की हुई मौत, गांव के लोगों ने किया रोड जाम

जमीनी विवाद में सिपाही वृद्ध को थाने ला रहा था कि तभी रास्ते मे संदिग्ध परिस्थितियों में वृद्ध की हालत बिगड़ गई।

By: आकांक्षा सिंह

Published: 07 Jun 2018, 10:18 AM IST

रायबरेली. जमीनी विवाद में सिपाही वृद्ध को थाने ला रहा था कि तभी रास्ते मे संदिग्ध परिस्थितियों में वृद्ध की हालत बिगड़ गई जिससे सिपाही वृद्ध को सीएचसी डीह लेकर पहुंचा जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। जिसके बाद परिजन व ग्रामीणों की भारी भीड़ एकत्रित होने लगी और जहां ग्रामीणों ने हंगामा काटना शुरू कर दिया। उसके बाद देखते ही देखते कई थानों की फोर्स सीएचसी डीह पहुंच गई। काफी हंगामे के बाद सीओ सिटी ने परिजनों को समझाकर बुझाकर शव अपने कब्जे में लेकर पीएम के लिए भेज दिया।


जानकारी के अनुसार डीह थाना क्षेत्र के लोधवारी निवासी मिश्रीलाल गुप्ता 62 वर्ष भरतगंज में पान की दुकान चलाते थे। मिश्रीलाल के पिता मिठाईलाल उर्फ सूरजदीन ने भरतगंज में कई वर्ष पूर्व 35 फुट जमीन खरीदी थी। जिसमें 5 फुट जमीन के लिए चारों भाई रामनिधि, लाल बहादुर, सिद्धनाथ व मिश्रीलाल में विवाद चल रहा था।


डीह थाने पर तैनात सिपाही फूल सिंह मिश्रीलाल को भरतगंज स्थित पान की दुकान से अपनी बाइक पर बैठाकर डीह थाने ला रहा था। रास्ते में अमर सिंह डिग्री कालेज के पास मिश्रीलाल की तबियत बिगड़ने लगी जिसे सिपाही फूल सिंह ने सीएचसी डीह पहुंचाया, जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। उसके बाद मिश्रीलाल की मौत की सूचना पर परिजन व लोधवारी के काफी ग्रामीण सीएचसी डीह पहुंच गए और परिजनों ने सिपाही व विपक्षी पर हत्या का आरोप लगाकर हंगामा करने लगे। उग्र भीड़ सिपाही पर हमलावर हो गई। थाना प्रभारी ने उच्चाधिकारियों को घटना की सूचना दी। जिसके बाद सीओ सलोन शशिकांत यादव, उपजिलाधिकारी श्रीराम सचान, तहसीलदार राजेश कुमार चैरसिया और नसीराबाद कोतवाल, सलोन कोतवाल, भदोखर, हरचंदपुर, बछरांवा सहित कई थाने फोर्स व पीएसी मौके पर पहुंचकर हालात को काबू करने का प्रयास किया। परंतु सीओ सिटी शेषमणि उपाध्याय ने परिजन व मृतक के पुत्र सुनील को समझाया व हर संभव मदद व दोषियों पर कार्रवाई का भरोसा दिलाया जिसके बाद परिजन संतुष्ट हुए और पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पीएम के लिए भेज दिया। मृतक के बड़े पुत्र सुनील कुमार की तहरीर पर सिद्धनाथ, लाल बहादुर, रामनिधि, व सिपाही फूल सिंह पर 302 में मामला पंजीकृत कर लिया है।

समाधान दिवस पर उठे सवाल

मिश्रीलाल की मौत ने थानों पर आयोजित होने वाले समाधान दिवसों को भी कठघरे में खड़ा कर दिया है।अगर समाधान दिवसों पर जमीनी विवादों को गंभीरता से निपटाया जाता तो ऐसी घटना न होती। जबकि यह मामला काफी लम्बे समय से चल रहा था। पुलिस की जानकारी में पूरा मामला होने के बाद भी गंभीरता न दिखाना । दो दिन पूर्व सूचना मिलने के बाद भी चुप्पी साधना समाधान दिवस के आयोजन को ही कठघरे में खड़ा कर रहे है। जबकि ऐसे मामलों को समाधान के लिये ही थानों पर समाधान दिवस आयोजित किये जाते है। उपजिलाधिकारी श्रीराम सचान ने निर्देश दिया कि डॉक्टरों का पैनल पोस्टमार्टम करेगा और उसकी वीडियोग्राफी कराई जाएगी।

दोषी पाया गया तो होगा सस्पेंड

सगे भाइयों में भूमि विवाद चल रहा था। सूचना मिलने पर सिपाही फूल सिंह को मौके पर भेजा था। सिपाही मिश्रीलाल को बाइक पर बैठाकर थाने ले जा रहा था, तभी बीमारी से उसकी मौत होगई। फिलहाल परिवारीजनों की तहरीर पर थाने में हत्या का केस दर्ज करा दिया गया है। जांच कराई जा रही है। यदि जांच में सिपाही दोषी पाया गया तो सस्पेंड कर उसे जेल भेजा जाएगा ।

Show More
आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned