गब्बर सिंह ने बनाया रिकॉर्ड, 14440 चावल के दानों से बनाया तिरंगा

रायबरेली लालगंज बैसवारा क्षेत्र के चांदा ग्राम निवासी गब्बर सिंह का नाम उत्तर प्रदेश बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हुआ था।

रायबरेली. रायबरेली लालगंज बैसवारा क्षेत्र के चांदा ग्राम निवासी गब्बर सिंह का नाम उत्तर प्रदेश बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हुआ था। इस बात की जानकारी देते हुए चित्रकार गब्बर सिंह ने बताया कि बीते 15 अगस्त 2016 को 60 घंटे के अथक परिश्रम के बाद उन्होंने देश की शान तिरंगे की कलाकृति व चावल के दानों से थर्माकोल पर उकेरी थी। यही नहीं जल दिवस पर भी एक कलाकृति और बनाई थी जिसका स्लोगन था 'जल है तो कल है' इस तरह कई अवार्ड और न जाने कितनी जगह उनको सम्मानित भी किया जा चुका है।

 

लालगंज बैसवारा क्षेत्र के चांदा ग्राम निवासी गब्बर सिंह का नाम उत्तर प्रदेश बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हुआ था। कहते हैं ज्ञान और ज्ञानी का जन्म कब और कहा हो जाये ये पता नहीं चलता है। फिर चाहे वह गरीब का घर हो या धनवान का ये महत्व नही रखता है। इसी तरह ये लालगंज के रहने वाले गब्बर सिंह एक गरीब परिवार से तालुक रखते हैं। और इन्होंने उस गरीबी में भी अपने को एक अलग मुकाम देने की कोशिश की है और अगर इसको सरकार और किसी समाज सेवी लोगों से कोई आर्थिक मदद मिल गयी तो यह कलाकार आगे चलकर दुनिया में हिन्दुस्तान का नाम रोशन कर सकता है।

 

गब्बर सिंह से बात की तो चित्रकार गब्बर सिंह ने बताया कि बीते 15 अगस्त 2016 को 60 घंटे के अथक परिश्रम के बाद उन्होंने देश की शान तिरंगे की कलाकृति चावल के दानों से थर्माकोल पर उकेरी। उन्होंने तिरंगे को बनाने में 14,440 चावल के दानों का प्रयोग किया। जिसको कई समाचार पत्रों ने प्रमुखता से प्रकाशित किया था। गब्बर सिंह ने अपनी इस प्रतिभा को कई जगह रिकॉर्ड दर्ज करवाने के लिए आवेदन किया था। जिनमें उत्तर प्रदेश बुक ऑफ रिकॉर्ड पुस्तक में उनका यह कीर्तिमान दर्ज कर उन्हें पुस्तक के संपादक प्रमोद कुमार गुप्ता ने प्रमाण पत्र और मेडल डाक द्वारा भेजा था। उन्होंने बताया कि इस रिकॉर्ड को उत्तर प्रदेश बुक ऑफ रिकॉर्ड की वेबसाइट पर ही डाला गया है। सोशल मीडिया के जरिए देश की जानी मानी हस्ती कवि डॉक्टर सुनील जोगी, कवि चंदन राय डॉक्टर राकेश वेद, लिम्का बुक होल्डर, हरिमोहन सिंह ऐठानी, मैथ जीनियस उत्तराखंड आदि ने गब्बर सिंह की प्रतिभा को सलाम किया। बैसवारा क्षेत्र के गब्बर सिंह द्वारा उत्तर प्रदेश बुक ऑफ रिकॉर्ड में अपना कीर्तिमान स्थापित करने पर बैसवारा विकास समिति के प्रवक्ता आशीष प्रताप सिंह, लालगंज बैसवारा महोत्सव समिति कार्यकारणी अध्यक्ष एस.एन. सिंह, सचिव राघवेन्द्र सूर्यवंषी आदि ने बधाई दी थी।

Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned