कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पी. चिदंबर के खिलाफ शिकायत, दर्ज हो सकता है केस

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पी. चिदंबर के खिलाफ शिकायत, दर्ज हो सकता है केस
Congress president Sonia Gandhi

Shatrudhan Gupta | Updated: 08 Nov 2017, 05:49:09 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता ने पुलिस में शिकायत करकांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को गिरफ्तार करने की मांग की है।

रायबरेली. तहलका मैगजिन को वित्त पोषण करने वाली निजी कंपनी फस्र्ट ग्लोबल को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा तत्कालीन यूपीए सरकार के वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को लिखे पत्र के मीडिया में आने के बाद पूरे देश में हड़कंप मचा हुआ है। भाजपा नेता व सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता अजय अग्रवाल ने पुलिस में शिकायत कर इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम और अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की है। बताया जाता है कि पत्र में फस्र्ट ग्लोबल के खिलाफ जारी जांच को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा निर्देश दिए जाने का उल्लेख पत्र में है। यह पत्र उस समय जारी किया गया था, जब तहलका मैगजिन के तरुण तेजपाल संपादक थे। तरुण तेजपाल अपनी एक सहयोगी के साथ बलात्कार के मामले में फिलहाल जमानत पर हैं।

दिल्ली उपायुक्त से शिकायत कर कार्रवाई की मांग

पत्र के मीडिया में आने के बाद सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता अग्रवाल ने नई दिल्ली रेंज के पुलिस उपायुक्त के पास शिकायत दर्ज कराकर इस मामले में सोनिया गांधी, कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम और अन्य अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई करने की मांग की है। उन्होंने अपनी शिकायत में लिखा है कि मीडिया में जो पत्र आया है, उसमें कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (जो उस वक्त राष्ट्रीय विकास परिषद की अध्यक्ष थीं और उन्हें कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त था) ने तत्कालीन वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को एक पत्र लिखा, जिसमें कथित रूप से तहलका मैगजिन के संपादक तरुण तेजपाल को राहत देने का उल्लेख था। यह पत्र सितंबर 2004 में लिखा गया था।

छह दिन के अंदर ही बंद हो गई थी फाइल

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार पत्र लिखने के छह दिन बाद फस्र्ट ग्लोबल पर चल रही जांच को बंद कर दिया गया। सोनिया गांधी ने पी. चिदंबरम को निर्देश दिए थे कि तहलका मामले को सुलझाने को प्राथमिकता दी जाए, जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि इस मामले में किसी भी प्रकार का अनुचित या गैर कानूनी कार्य नहीं किया गया है। इस पत्र के लिखे जाने के चार दिन बाद ही संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार ने एक मंत्री समूह गठित किया था। समूह के गठन के दो दिन बाद ही फस्र्ट ग्लोबल पर चल रही जांच को बंद कर दिया गया। इस प्रकार पत्र की प्राप्ति के छह दिन के अंदर ही पूरे मामले को समाप्त कर दिया गया था।

सोनिया ने ठुकराया था पीएम पद

बता दें कि मई 2004 में लोकसभा के चुनावी नतीजे आने के बाद कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी, लेकिन सोनिया गांधी ने तब प्रधानमंत्री का पद ठुकराकर वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री बनवाया था, लेकिन माना जाता रहा है कि पीएम ना रहते हुए भी सारी पॉवर सोनिया गांधी के ही पास थी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned