जीत के बाद राजा भइया को लगा बड़ा झटका, बढ़ गई नई मुसीबत 

Akanksha Singh

Publish: Mar, 12 2017 09:30:00 AM (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
जीत के बाद राजा भइया को लगा बड़ा झटका, बढ़ गई नई मुसीबत 

कैबिनेट मंत्री रघुराजप्रताप सिंह समेत पांच पर मुकदमा दर्ज, लगे साजिश व हत्या का केस।

रायबरेली। कल देर रात हुये प्रतापगढ़ के सीओ जिया उल हक हत्याकांड के चौथे आरोपी योगेन्द्र यादव की मौत के बाद राजा भैया चौतरफे घिर गये है। उन पर ऊंचाहार कोतवाली में संगीन आरोंपो में मुकदमा दर्ज किया गया है। मृतक के चाचा सुधीर यादव ने राजा भैया पर साजिश के तहत मार्ग दुर्घटना करवा के योगेन्द्र यादव को मरवाने का आरोप लगाया। जिसके बाद पुलिस ने उनकी तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

कोतवाली के गांव अरखा के निकट शुक्रवार देर रात बाइक सवार युवक योगेन्द्र यादव उर्फ बब्लू 22 वर्ष पुत्र नन्हे निवासी बलीपुर थाना हथिगवां जिला प्रतापगढ़ को ट्रक ने रौंद दिया था जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी है। मृतक जिला प्रतापगढ़ के गांव बलीपुर में हुए 2 मार्च सन् 2013 में बहुचर्चित सीओ जियाऊल हत्याकांड का चैथा अरोपी भी था। जिसको लेकर मामला राजनीतिक मोड़ ले लिया है। जिसमें मृतक के चाचा सुधीर यादव पुत्र दुखीराम यादव निवासी बलीपुर थाना हथिगावतहसील कुण्डा जिला प्रतापगढ़ की तहरीर पर ऊंचाहार कोतवाली मे मुकदमा संख्या 123/17 में धारा 147, 279, 302, 120बी, 427 आईपीसी के तहत जिला प्रतापगढ़ के कुण्डा विधायक व कैबिनेट मंत्री रघुराजप्रताप सिंह उर्फ राजा भईया, एमएलसी अक्षय प्रताप सिंह, नन्हे सिंह, संजय प्रताप सिंह, अजय सिंह के खिलाफ शनिवार के दिन दर्ज किया गया है। सुधीर यादव ने पुलिस को दी गयी तहरीर में बताया कि राजा भैया ने साजिश के तहत एक्सीडेंट करवाया है तथा इससे पहले भी उन्होंने मेरे दोनों बड़े भाइयों को नन्हें यादव व सुरेश यादव की भी गोली मरवाकर हत्या कर दी थी। वहीं उन्होंने  पहले भी किशोर प्रेक्षागृह में बन्द योगेन्द्र यादव पर वहीं बन्द कैदियों से जान से मरवाने के लिए हमला करवाया था। ऊंचाहर कोतवाल ने बताया कि मृतक का शव शनिवार के दिन पीएम हेतु भेजा गया है जिसमें मृतक के चाचा की तहरीर पर मुकदमा दर्जकर विवेचना प्रारंभ कर दी गयी है।

बलीपुर कांड की हो चुकी है सीबीआई जांच 

वर्ष 2013 में हाथगंवा थाना क्षेत्र का बलीपुर गांव के दो गुटों में भी हुए विवाद और पत्रों को नियंत्रित करने पहुंचे कुंडा के सीओ जियाउल हक की हत्या कर दी गई थी। इस मामले में राजा भैया समेत करीब एक दर्जन लोग नामजद हुए थे और राजा के मंत्री पद तक गवाना पड़ा था। सीबीआई जांच में राजा भैया को क्लीनचीट मिलने के बाद उनको दोबारा मंत्री पद दिया गया था। इसी उपद्रव में बलीपुर गांव के प्रधान नन्हें लाल यादव को भी हत्या हुई थी। शुक्रवार को ऊंचाहार के अरखा गांव के पास हुई दुर्घटना में मारा गया युवक योगेंद्र यादव नन्हे लाल यादव का लड़का था।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned