पुलिस अधिकारी ने शुरू की नई पहल, पेड़ के चबूतरे पर बैठ कर दिलाया न्याय

पुलिस अधिकारीयों ने योगी सरकार का धन्यवाद भी अदा किया ।

By: आकांक्षा सिंह

Published: 24 Jul 2018, 11:26 AM IST

रायबरेली. योगी सरकार के एक पुलिस अधिकारी ने मुशीं प्रेमचन्द्र की कहानी एवं पुरानी परम्परा को फिर से आज के आधुनिक समय में गांव के पेड़ के नीचे चबूतरे पर बैठ कर न्याय दिलाने की पुरानी पराम्परा की शुरुआत रायबरेली के ऐतिहासिक गंगा के किनारे डलमउ क्षेत्र के आसपास के गांवों से शुरुआत की गई है। यह रायबरेली के लिये और योगी सरकार के लिये एक अच्छी पहल आम जनता स्वीकार कर रही हैं साथ ही लोगों को न्याय भी मिल रहा है और यह पुलिस अधिकारीयों ने योगी सरकार का धन्यवाद भी अदा किया ।

रायबरेली, डलमऊ सीओ विनीत सिंह ने एक अनोखी पहल की खोज की है जिससे ना सिर्फ पुलिस का समय बचेगा बल्कि छोटे-मोटे मामले गांव में ही निपटा कर खत्म कर दिया जाऐगें साथ गरीब पीड़ितों को जिला पुलिस मुख्यालय के चक्कर लगाने से भी मुक्ति मिलेगी, ऐसे मामलों की जिम्मेदारी क्षेत्राधिकारी ने पंच परमेश्वरों को सौंपा है, बताते चले कि जिस तरह से ग्राम सभाओं में लोगों ने राजनीति का अखाड़ा बना दिया है जिससे न सिर्फ ग्रामीण समाज की समरसता पर असर हुआ बल्कि गांवों की एकता नष्ट हो गई है और गांव में आपसी विवाद में बेतहाशा बढ़ोतरी हो रही है अब इन्हीं विवादों को निपटाने आ रहे हैं पंच परमेश्वर,याद दिला दे कि एक समय गांधीजी ने भी पंचायतो को मजबूत करने की पहल की थी और कहा था ‘‘ भारत अपने चंद शहरों में नहीं बल्कि सात लाख गांव में बसा हुआ है दरअसल पंच परमेश्वर मुंशी प्रेमचंद की कृति पंच परमेश्वर ही है। लेकिन रायबरेली के डलमऊ क्षेत्र में तैनात उपपुलिस अधिझक विनीत सिंह की एक सराहनीय पहल भी इसी तर्ज पर है। जिसके द्वारा पांच सदस्यों का गठन करके ग्राम सभाओं के विवाद सुलझाए जायेंगे साथ ही अपराधो पर अंकुश लगेगा और गांव में होने वाले विवादों का गांव स्तर पर ही समाधान कर दिया जायेगा पुलिस विभाग की ओर से पंच परमेश्वर नियुक्त किए जाएंगे। ग्राम पंचायत स्तर पर पंच परमेश्वर की नियुक्ति पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर डलमऊ कोतवाली क्षेत्र में होगी। यदि परिणाम सफल रहे तो धीरे-धीरे सभी थाना क्षेत्रों पंच परमेश्वर तैनात किए जाएंगे।

पंच परमेश्वरों की नजर होगी छोटी से बड़ी समस्यायों पर

रायबरेली, गांव में भूमि, भवन, महिला उत्पीड़न नाली,खडिन्जा आदि की घटनाएं आये दिन प्रकाश मे आती है इनमे दोनों पछो के बीच विवाद होता है जिसके बाद तमाम महत्वपूर्ण कामो को छोड़ कर समस्या निस्तारण के लिए पुलिस को हाँफना पड़ता है। यही नही मामलो के निस्तारण हेतु कानूनी प्रक्रिया लंबी होती चली जाती जिससे समय, धन, की बर्बादी होती है। अगर मामला सुलझ गया तब तो ठीक है नही तो कोर्ट कचहरी के चक्कर भी लगाने पड़ते है जिससे गांव का माहौल और लोगों के बीच दूरिया बढ़नी शुरू हो जाती है और वक्त की भरपाई कभी नहीं हो पाती इन सबसे छुटकारा पाने के लिए पुलिस प्रशासन ने गांव की समस्याओं का निस्तारण के लिए पंच को जिम्मेदारी सौंपने की रणनीति तैयार की गई है इसका फायदा यह होगा की जो लोग पंच होंगे वे गांव के ही होंगे तथा उनके ही हस्तक्षेप से मामले को सुलझाया जायेगा। पंच परमेश्वरों के बनेंगे बाकायदा परिचय पत्र होगे, डलमऊ क्षेत्राधिकारी विनीत सिंह ने बताया कि पंच परमेश्वरों के लिए चयनित लोगों को पुलिस अधीक्षक द्वारा पुलिस मित्र के नाम से परिचय पत्र जारी किया जाएगा।

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned