script280 lakh 32 thousand profit budget came out of Janki Katju's box | जानकी काटजू के पिटारे से निकला २८० लाख ३२ हजार लाभ का बजट | Patrika News

जानकी काटजू के पिटारे से निकला २८० लाख ३२ हजार लाभ का बजट

विभिन्न मदों से २९३९६ लाख का आय और २९११६ का व्यय
भाजपा पार्षदों ने कहा बजट में सिर्फ प्रावधान नहीं मूर्तरूप देने का भी किया जाए प्रयास
संपत्ति कर हाफ के मामले में घिरी महापौर जानकी

रायगढ़

Published: March 31, 2022 09:34:35 pm

रायगढ़. नगर निगम में गुरुवार को इस कार्यकाल का तीसरा बजट पेश किया गया। मेयर जानकी काटजू के पिटारे से २८० लाख ३२ हजार लाभ का बजट निकला। विभिन्न मदों से २९३९६ लाख का आय होगा। वहीं विभिन्न कार्यों में २९११६ लाख खर्च का प्रावधान किया गया है। बजट सम्मेलन में विपक्षी भाजपा पार्षदों ने बजट में सिर्फ प्रावधान नहीं नहीं करने बल्कि उक्त प्रावधानों को अमल करने की मांग भी की।
गुरुवार की दोपहर करीब १२ बजे नगर निगम में महापौर जानकी काटजू ने बजट अभिभाषण दिया। वहीं वित्त प्रभारी रमेश भगत ने बजट को सदन में रखा। बजट के बाद भाजपा के वरिष्ठ पार्षद सुभाष पाडेंय ने कहा कि इस कार्यकाल का यह तीसरा बजट पेश किया जा रहा है। इससे पहले भी इसमें कई प्रस्तावों के लिए बजट में प्रावधान किया गया था, लेकिन वह प्रावधान आज तक मूर्तरूप नहीं ले सके। वहीं उन्होंने कहा कि इसे मूर्तरूप देने का प्रयास भी किया जाना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने महापौर को संपत्ति कर हाफ किए जाने के मामले में घेरा। उनका कहना था कि नगर निगम की सत्त्ता में कांग्रेस संपत्ति कर हाफ किए जाने के वादे के साथ आई थी। इस वादे को लेकर जनता का जनादेश कांग्रेस को मिला था, लेकिन तीन साल बीत जाने के बाद भी संपत्ति कर हाफ नहीं किया जा रहा। उनका कहना था कि सभी का संपत्ति कर हाफ के मामले में इंकमटैक्स देने वाले व उद्योग पतियों को भले ही इसका लाभ न दे, लेकिन मध्यमवर्गीय परिवार को इसका लाभ दिया जाना चाहिए। महापौर ने उनकी बात यह कहते हुए काटने का प्रयास कि यह प्रस्ताव केंद्र सरकार के पास भेजा गया था, लेकिन वहां से स्वीकृति नहीं मिली। महापौर के इस बात को सुनते ही भाजपा के अन्य पार्षद भी आक्रोशित हो गए। वहीं उनका कहना था कि जब कांग्रेस ने घोषणा की थी तब क्या केंद्र सरकार से पूछा गया था। वहीं भाजपा पार्षद सुभाष पाडेंय का कहना था कि यह नगर निगम के अधिकार क्षेत्र में है। नगर निगम क्षेत्र में अभी भी कई ऐसे मकान हैं जो संपत्ति कर के दायरे में नहीं है। उन्हें संपत्ति कर के दायरे में लाते हुए राजस्व बढ़ाया जा सकता है। वहीं राजस्व बढऩे के साथ ही कांग्रेसियों द्वारा किए गए घोषणा पत्र को अमल में भी लाया जा सकता है।
एक पल सराहा दूसरे पर की खिंचाई
सम्मेलन के दौरान सुभाष पाडेंय ने बातों ही बातों में महापौर की खिंचाई कर दी। उनका कहना था कि नगर निगम में महिला महापौर है। यह रायगढ़ के लिए गर्व की बात है। वहीं दूसरे ही पल यह कहा कि महिला महापौर होने के बाद भी महिलाओं के लिए कुछ नहीं कहा गया। उनका कहना था कि कामकाजी महिलाओं के लिए हास्टल बनाए जाने की घोषणा भी महापौर के द्वारा की गई, लेकिन यह प्रस्ताव भी अब तक मूर्तरूप नहीं ले सका। हालांकि महापौर ने इसमें सफाई देते हुए कहा कि इस प्रस्ताव पर कार्य किया जा रहा है।
गरीब नहीं करेंगे माफ....
सम्मेलन के दौरान सिटी डायग्नोस्टिक सेंटर को लेकर बात भी सामने आई। इस दौरान भाजपा पार्षद क कहना था कि यह गरीबों के लिए कल्याणकारी योजना है। मौजूदा समय में गरीब एक-एक टेस्ट के लिए हजारों रुपए खर्च कर रहे हैं। सिटी डायग्नोस्टिक सेंटर बन जाने से टेस्ट की राशि न्यूनतम होगी या मुफ्त में होगा। इसके बाद भी शहर सरकार मामले को लटकाए रखी है। इसमें जमीन का मामला आड़े आया था। तब से प्रस्ताव ठंडे बस्ते में है।

raigarh
जानकी काटजू के पिटारे से निकला २८० लाख ३२ हजार लाभ का बजट

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: फडणवीस को डिप्टी सीएम बनने वाला पहला CM कहने पर शरद पवार की पूर्व सांसद ने ली चुटकी, कहा- अजित पवार तो कभी...Udaipur Killing: आरोपियों के मोबाइल व सोशल मीडिया का डाटा एटीएस के लिए महत्वपूर्ण, कई संदिग्धों पर यूपी एटीएस का पहराJDU नेता उपेंद्र कुशवाहा ने क्यों कहा, 'बिहार में NDA इज नीतीश कुमार एंड नीतीश कुमार इज NDA'?कन्हैया की हत्या को माना षड्यंत्र, अब 120 बी भी लागूकानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशानाAmravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या मामले पर नवनीत राणा ने गृह मंत्री अमित शाह को लिखी चिट्ठी, की ये बड़ी मांगmp nikay chunav 2022: दिग्विजय सिंह के गैरमौजूदगी की सियासी गलियारे में जबरदस्त चर्चाबहुचर्चित अवधेश राय हत्याकांड में बढ़ी माफिया मुख्तार की मुश्किलें, जाने क्या है वजह...
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.