निगम अफसरों ने कहा - अब तो आ गई दिवाली, बाद में करवाएंगे शौचालय की सफाई

Rajkumar Shah

Publish: Oct, 13 2017 06:46:56 (IST) | Updated: Oct, 13 2017 07:07:38 (IST)

Raigarh, Chhattisgarh, India
निगम अफसरों ने कहा - अब तो आ गई दिवाली, बाद में करवाएंगे शौचालय की सफाई

शहर में शौचालय निर्माण में घोटाले की जांच दीपावली के बाद होगी। हालांकि इस जांच की रूप रेखा तय करने के लिए सोमवार को एई के नेतृत्व में जांच

रायगढ़. शहर में शौचालय निर्माण में घोटाले की जांच दीपावली के बाद होगी। हालांकि इस जांच की रूप रेखा तय करने के लिए सोमवार को एई के नेतृत्व में जांच टीम के सदस्यों की बैठक होगी। इस बैठक में यह तय किया जाएगा कि कब किस वार्ड का निरीक्षण टीम के द्वारा किया जाएगा और जांच के दौरान किन-किन बिन्दुओं पर फोकस रहेगा। इसकी जानकारी टीम के सदस्यों को भी दे दी गई है।

शहरी क्षेत्र में स्वच्छता अभियान के तहत निगम करीब सात हजार शौचालय बनाने का दावा कर रहा है। इसी दावे के आधार पर शहर को ओडीएफ घोषित किए जाने के लिए विशेष सम्मेलन बुलाई गई थी। हालांकि विशेष सम्मेलन में शहर को ओडीएफ घोषित कर दिया, लेकिन इसमें काफी हंगामा हुआ।

हंगामा इस बात को लेकर हुआ था कि नगर निगम के अधिकारियों व ठेकेदारों ने मिली भगत करते हुए हिग्राहियों के यहां शौचालय बनाया ही नहीं और राशि आहरित कर ली। इसके अलावा कई पुराने शौचालय को भी रंग-रोंगन करते हुए राशि आहरित कर ली।

इस बात को लेकर नगर निगम के अधिकारी तो विशेष सम्मेलन में घिरे हुए थे। वहीं पार्षदों की कार्यशैली पर भी सवाल उठ रहा था। इन सभी बातों को लेकर विशेष सम्मेलन में हुए हंगामे को देखते हुए नगर निगम आयुक्त ने जांच के आदेश दिए। वहीं इस समय टीम भी गठित की गई।

यह टीम अब जांच के लिए निरीक्षण करने की तैयारी में है। हालांकि दीपावली त्योहार के बाद ही जांच शुरू किया जाएगा, लेकिन इससे पहले जांच की रूपरेखा तय कर ली जाएगी।

इसके लिए नगर निगम में सोमवार की शाम बैठक टीम के सदस्यों की बैठक भी बुलाई गई है। बताया जा रहा है कि कब किन वार्डों में निरीक्षण होगा और निरीक्षण के दौरान किन-किन बिन्दुओं पर फोकस रहेगा। इसका खाका तैयार किया जाएगा।


खुलेगा गड़बडिय़ों का पुलिंदा- एक समय था जब नगर निगम शौचालय निर्माण के मामले में टाप रेंक पर था। ऐसे में नगर निगम को राज्य शासन की ओर से पुरस्कृत भी किया गया था, लेकिन जब गड़बडिय़ों का खुलासा हुआ तो यह माने जाने लगा कि यह पुरस्कार कागजों में हुए शौचालय निर्माण की बदौलत मिली है। वहीं अब जब निगम की टीम शौचालय निर्माण का भौतिक सत्यापन करेगी तब गड़बडिय़ां उजागर होने की बात कही जा रही है।


इधर अनशन की भी चेतावनी- शौचालय निर्माण में गड़बड़ी का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले को लेकर वार्ड क्रमांक 33 व 34 के हितग्राहियों ने बीते दिनों कलेक्टर व आयुक्त के नाम शिकायत पत्र भी सौंपा था। ज्ञापन के माध्यम से कहा गया है कि उनके द्वारा स्वयं की राशि खर्च करते हुए शौचालय का निर्माण किया गया है, जबकि इसका भुगतान ठेकेदार को कर दिया गा है। ऐसे में यदि संबंधित राशि उन्हें नहीं मिलती है तो वे अब अनशन करेंगे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned