उपसरपंच ने सरपंच पर ग्रामीणों से कमीशनखोरी का लगाया आरोप, जांच करने पहुंचे अधिकारियों से ग्रामीणों ने क्या कहा पढि़ए खबर...

खास बात तो यह है कि उप सरपंच ने अपनी शिकायत में करीब एक दर्जन से अधिक ग्रामीणों के हस्ताक्षर वाले कागज को भी संलग्न किया है।

By: Shiv Singh

Published: 24 Jul 2018, 07:14 PM IST

रायगढ़. ग्र्राम पंचायत जुर्डा के उप सरपंच ने कलक्टर को एक ज्ञापन देकर सरपंच द्वारा ग्रामीणों से कमीशन स्वरुप नकद राशि लेने का आरोप लगाया है। उप सरपंच की मानें तो सरपंच यह सारा खेल जनपद अध्यक्ष, सीईओ, एसडीएम, एसपी, विधायक व टीआई के नाम पर करता है। खास बात तो यह है कि उप सरपंच ने अपनी शिकायत में करीब एक दर्जन से अधिक ग्रामीणों के हस्ताक्षर वाले कागज को भी संलग्न किया है।

मामले की गंभीरता को देखते हुए शिकायत के दूसरे दिन ही दो अधिकारी जांच करने जुर्डा पहुंचे। जब ग्रामीणों से उक्त शिकायत पर बयान दर्ज किया गया है तो महिलाओं ने ऐसी कोई शिकायत नहीं करने की बात कह उसे फर्जी करार दिया है। इधर मंगलवार को जुर्डा सरपंच के साथ दर्जनों महिलाएं चक्रधर नगर थाना पहुंच कर फर्जी शिकायत पर संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

Read More : खेत की जोताई करते समय ट्रैक्टर पलटा, चालक की दबने से मौत

रायगढ़ कलक्टर के जनदर्शपन में १८ जुलाई को एक शिकायत ग्राम जुर्डा से आई थी, जहां के सरपंच मनोहर निषाद ने ग्रामीणों के हस्ताक्षर वाले एक आवेदन को जिला प्रशासन के मुखिया को सौंपा। आवदेन के जरिए उप सरपंंच ने सरपंच जयंत किशोर प्रधान पर यह आरोप लगाया कि उनके द्वारा गांव के विकास कार्य के नाम पर हितग्राहियों से कमीशन रुपी नकदी ली जा रही है। उप सरपंच ने अपनी शिकायत में रायगढ़ जनपद अध्यक्ष, जनपद सीईओ, एसडीएम, एसपी, विधायक व टीआई के नाम का भी जिक्र किया है, जिन्हें नाम पर सरपंच यह कमीशनखोरी का खेल खेल रहा है।

हालांकि मामले की सच्चाई क्या है। यह कहना मुश्किल है पर जिला प्रशासन से लेकर पुलिस व जनप्रतिनिधियों की नींद जरुर उड़ गई है। मामले की गंभीरता को देखते हुए कलक्टर के आदेश पर दो करारोपण अधिकारी हस्ताक्षर वाले ग्रामीणों का बयान लेने पहुंचे, पर वहां कहानी ही गलत हो गई। हस्ताक्षर वाली महिलाओं ने बताया कि संरपच के कमीशनखोरी से संबंधित कोई आवेदन ही हमने नहीं दिया है। फिर यह जांच किस बात की।

गलत तरीके से लिया हस्ताक्षर
जुर्डा सरपंंच जयंत के पक्ष में चक्रधर नगर थाने आई गांव की महिलाओं ने बताया कि उप सरपंच मनोहर निषाद ने गांव में महिला पटवारी की मांग वाले आवदेन पर हमारा हस्ताक्षर लिया था। एक पेज पर आवेदन था तो दूसरे पेज पर हमारा हस्ताक्षर, जिसे बड़ी ही चालाकी से महिला पटवारी की मांग वाले आवेदन की बदल कर सरपंच के कमीशनखोरी वाले आवदेन को अटैच कर कलक्टर को ज्ञापन दिया है, जिससे यह भ्रम की स्थिति हुई है।

थाने पहुंच कर सरपंच ने दी सफाई
जिला प्रशासन की ओर से दो करारोपण अधिकारी द्वारा जुर्डा की महिलाओं का बयान लेने की पहल की गई, जिसमें महिलाओं द्वारा उक्त शिकायत को फर्जी करार दिया गया है। मामले की जांच चक्रधर नगर पुलिस भी कर रही है, जहां जुर्डा सरपंच ने अपनी सफाई देते हुए कहा कि ग्रामीणों के हस्ताक्षर को गलत रुप से लेकर उप सरपंच इस तरह का गड़बड़झाला कर रहा है। सरपंच ने उप सरपंच व उसके एक अन्य सहयोगी के खिलाफ जुर्म दर्ज करने मांग की है।

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned