scriptCleanliness didi reached Municipal Corporation due to non-receipt of h | मानदेय नहीं मिलने से स्वच्छता दीदियां पहुंची नगर निगम | Patrika News

मानदेय नहीं मिलने से स्वच्छता दीदियां पहुंची नगर निगम

locationरायगढ़Published: Sep 28, 2022 08:37:22 pm

Submitted by:

CHITRANJAN PRASAD

दो माह से मानदेय नहीं मिलने से हैं नाराज

raigarh
मानदेय नहीं मिलने से स्वच्छता दीदियां पहुंची नगर निगम
रायगढ़. नगर निगम के तहत कचरा कलेक्शन करने वाली स्वच्छता दिदी इन दिनों मानदेय को लेकर काफी परेशान है, एक तो मानदेय कम और ऊपर से समय से नहीं मिलने के कारण इनको घर चलाने में भी दिक्कत आ रही है। जिसको लेकर बुधवार को करीब सौ से अधिक स्च्छता दीदी नगर निगम पहुंच गई थी। इनका कहना था कि अगर इनकी समस्या दूर नहीं होती है तो ये रिक्शा खड़ी कर देंगी।
गौरतलब हो कि नगर निगम द्वारा घर-घर कचरा कलेक्शन के लिए करीब सौ से अधिक महिला कर्मचारी रखा गया है, जो सुबह से रिक्शा लेकर निकल जाती है और दोपहर तक पूरे शहर से कचरा कलेक्शन करती है, इसके साथ ही मणिकंचन केंद्र पहुंचने के बाद कोई कचरा छंटाई तो कोई गोबर खाद बनाने का भी काम करती है, जिससे इनको हर माह वेतन के अलावा कचरा का अलग और खाद बनाने का मेहनताना अलग से मिलता है, लेकिन इन दिनों विगत दो माह से मानदेय नहीं मिला है, साथ ही अब तीसरा माह भी पूरा होने वाला है, जिसको लेकर स्वच्छता दीदियों में काफी नाराजगी है। इसी को लेकर बुधवार को दोपहर में करीब सौ से अधिक स्वच्छता दीदी नगर निगम पहुंच कर शोर मचाना शुरू कर दिया था। साथ ही उनका कहना था कि आज उनके खाते में मानदेय नहीं आता है तो कल से सभी रिक्शा खड़ी कर देंगी। इसके साथ ही अलग-अलग कर्मचारियों की अलग-अलग समस्या थी, जिससें कई कर्मचारियों का कहना था कि कबाड़ और खाद का पैसा भी उनके खाते में विगत छह माह से नहीं आ रहा है, ऐसे में वे अब काम बंद कर देेंगी। इसकी जानकारी होते ही नगर निगम के अधिकारियों ने मौके पर पहुंच कर उनको काफी समझाईश दी, तब जाकर करीब घंटाभर बाद मामला शांत हुआ।
क्या कहती है स्वस्छता दीदी
इस संबंध में स्वच्छता दीदियों का कहना था कि एक तो नगर निगम से मात्र छह हजार रुपए मेनताना के रूप में दिया जाता है, लेकिन वो भी हर माह नहीं मिल पा रहा है। जिसके चलते उनको घर चलाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि कई कर्मचारी शहर से कचरा कलेक्शन करने के बाद मणिकंचन केंद्र में कचरे की छंटाई व गोबर खाद बनाने का भी काम करती है, जिससे उनको एक्सट्रा इंनकम होता है, लेकिन सुपरवाईजर की गलती के कारण कई कर्मचारियों के खाते में विगत छह माह से कबाड़ व खाद का पैसा नहीं आ रहा है। ऐसे में अगर निगम द्वारा समस्या को दूर नहीं किया जाता है तो वे काम बंद देंगी।
निगम के अधिकारियों ने दिया समझाईश
गौरतलब हो कि बुधवार को दोपहर में नगर निगम परिसर में एकाएक दर्जनों स्वच्छता दीदी मानदेय की मांग को लेकर पहुंच गई थी, जिसकी जानकारी होते ही नगर निगम के स्वच्छता निरीक्षक राजू पांडेय सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंच कर उनको काफी समझाईश दी गई, लेकिन महिलाओं ने अपनी मांग को लेकर अड़ी रही, जिससे स्वच्छता निरीक्षक ने कहा कि उनका मानदेय बैंक में जमा हो गया है, जो एक-दो दिन में सभी के खाते में आ जाएंगे, साथ ही कई कर्मचारियों का आ भी गया है, ऐसे में गुरुवार तक खाते में पैसा नहीं आता है तो फिर से जांच कराई जाएगी।
सुपरवाईजर की लापरवाही आई सामने
वहीं कबाड़ व खाद के पैसे को लेकर जब बात की गई तो स्वच्छता निरीक्षक राजू पांडेय ने बताया कि इसकी जिम्मेदारी सुपरवाईजर की होती है, जो हर माह कर्मचारियों की लिस्ट बनाकर निगम मे पेश करती है, अगर राशि नहीं आया है तो सुपरवाईजर से बात कर समस्या को दूर कराई जाएगी।
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.