Video- बैठक में कार्यकर्ता पर लगाया पार्टी विरोधी कार्य करने का आरोप, माइक से बोलते ही हुआ हंगामा

पूर्व विधायक के गुट के समर्थक पार्टी के दलालों को जूता मारो... की नारेबाजी करने लगे। बाद में पार्टी के अन्य पदाधिकारियों की समझाइश पर मामला शांत हुआ

By: Shiv Singh

Published: 19 Jan 2019, 09:57 PM IST

रायगढ़. विधानसभा चुनाव में भाजपा को मिली करारी हार का चिंतन करने के लिए आयोजित बैठक में जमकर जुतमपैजार हो गई। बैठक के दौरान विधानसभा में हार की समीक्षा करने के लए जैसे भाजपा कार्यकर्ता डोलमणि नायक को माइक दिया गया पूर्व विधायक रोशनलाल अग्रवाल बिफर पड़े। स्थिति यहां तक निर्मित हुई कि उन्होंने कार्यकर्ता को मारने के लिए जूता तक निकाल लिया। इस बीच पूर्व विधायक के गुट के समर्थक पार्टी के दलालों को जूता मारो... की नारेबाजी करने लगे। बाद में पार्टी के अन्य पदाधिकारियों की समझाइश पर मामला शांत हुआ।

विधानसभा चुनाव में भाजपा को करारी हार मिलने से केंद्र से लेकर राज्य तक पार्टी के शीर्ष नेताओं में खलबली मची हुई है। पार्टी हार का यह हर्स कुछ महीनों बाद होने वाले लोकसभा चुनाव में नहीं देखना चाहती है, इसलिए जिला स्तर पर पार्टी की समीक्षा करने का आदेश दिया गया है। इसी के चलते रायगढ़ जिले में भी शनिवार शाम को भाजपा कार्यालय में समीक्षा बैठक बुलाई गई थी।

Read More : Video- ...तो आनन-फानन में बदल कर लगाया गया विधायक का फोटो वाला दूसरा बैनर

बैठक में चिंतन किया गया कि विधानसभा चुनाव के पहले भाजपा जिले की तीन विधानसभाओं में काबिज थी, जबकि चुनाव के बाद जिले से ही साफ हो गई। कुछ विधानसभा में काफी ज्यादा अंतर से भाजपा को हार का सामना करना पड़ा। बैठक में विवाद होने की आशंका जताई जा रही थी, इसके चलते बैठक बंद कमरे में करने के साथ ही मीडिया को भी उससे दूर रखा गया था। बैठक में विधानसभा चुनाव की हार की समीक्षा के लिए दो-दो कार्यकर्ताओं को बोलने का मौका दिया जा रहा था।

जिले की चार विधानसभा चुनाव की समीक्षा तो शांति से निपट गई, लेकिन अंतिम विधानसभा यानि रायगढ़ की समीक्षा में हंगामा हो ही गया। बैठक के प्रभारी कृष्णा राय ने समीक्षा के लिए सरिया बरमकेला क्षेत्र के कार्यकर्ता डोलमणि नायक को आमंत्रित किया। जैसे ही यह कार्यकर्ता ने माइक को पकड़ा पूर्व विधायक रोशन लाल बिफर पड़े। उनका कहना था कि जो विधानसभा चुनाव में पार्टी विरोधी कार्य किया है, उसे समीक्षा के लिए बुलाना उचित नहीं होगा।

इस बात को लेकर उक्त कार्यकर्ता व रोशन लाल के बीच तू-तू.मैं-मैं की स्थिति निर्मित हो गई। इससे नाराज होकर रोशन लाल अग्रवाल ने जूता भी उतार लिया। उनका जूता चलता इससे पहले ही पार्टी के पदाधिकारी बीच-बचाव करने लगे। इसके बाद मामला शांत हुआ। इस बीच पूर्व विधायक गुट के समर्थक पार्टी के दलालों को जुता मारो... की नारेबाजी भी करने लगे।
विवाद होने की पहले से थी आशंका
विधानसभा चुनाव में हार की समीक्षा को लेकर आयोजित बैठक में विवाद होने की आशंका पहले से ही थी। यही कारण है कि बैठक के पहले ही मीडिया को यह कहते हुए विदा कर दिया गया था कि उनकी यह बैठक गोपनीय है। साथ ही बैठक में मौजूद पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं को यह भी निर्देश दिया गया था कि कोई भी मोबाइल से वीडियो नहीं बनाएगा।

-पार्टी की समीक्षा बैठक शांतिपूर्ण चल रही थी। इस दौरान कुछ लोगों ने अनायास ही विघ्न डालने का प्रयास किया है। मेरी नजर में ऐसा करना गलत है। हम सभी को पार्टी हित में कार्य करना चाहिए- रोशन लाल अग्रवाल, पूर्व विधायक

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned