होली के रंग से सजा बाजार, पर रौनकता नहीं, इधर स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना से निपटने बनाया आइसोलेशन वार्ड

Corona Phobia: लोग कोरोना वायरस के भय से भीड़-भाड़ वाले जगह में जाने से कर रहे हैं परहेज, चिकन-मटन की बिक्री में गिरावट, कोरोना को लेकर डॉ. पांडे ने ये कहा...

By: Vasudev Yadav

Published: 07 Mar 2020, 01:19 PM IST

रायगढ़. कोरोना वायरस (Corona Virus) के भय से होली की रौनक फीकी हो गई है। त्यौहार को अब सिर्फ तीन दिन शेष रह गए हैं। इसके बाद भी बाजार में कोई रौनक दिखाई नहीं दे रही है। होली को लेकर व्यवसायी पहले से ही भारी मात्रा में माल मंगवा लिए है, लेकिन ग्राहकों की भीड़ नहीं होने से इस बार व्यवसायियों के लाखों का माल जाम होने की स्थिति बन रही है। दूसरी ओर स्वास्थ्य अमला कोरोना से निपटने पूरी तरह से मुस्तैद नजर आ रहा है।

गौरतलब है कि होली त्यौहार को अब तीन दिन शेष रह गए हैं। इसके बाद भी बाजार पूरी तरह से खाली है। लोग कोरोना वायरस के भय से भीड़-भाड़ वाले जगह में जाने से परहेज कर रहे हैं। इस कारण बाजार भी अभी पूरी तरह से फीकी है। वहीं व्यवसायी तरह-तरह के पिचकारी और रंग-गुलाल मंगवाकर दुकान सजा दिए हैं, लेकिन ग्राहकों के नहीं आने से इनके माथे पर चिंता की लकीरें दिखने लगी है।

Read More: कोरोना अलर्ट: शासकीय दफ्तरों के साथ ही निजी संस्थानों में भी बायोमैट्रिक से हाजिरी बंद, नोज मास्क की बढ़ी मांग

होली के रंग से सजा बाजार, पर रौनकता नहीं, इधर स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना से निपटने बनाया आइसोलेशन वार्ड

इधर स्वास्थ्य विभाग कोरोना से निपटने टीम का गठन कर पूरी तरह से मुस्तैद है। जिला स्तर से लेकर ब्लाक स्तर तक टीम का गठन किया गया है। इसमें जिला स्तर पर पांच लोगों की टीम है। जिसमें लैब टेक्निशियन, मेडिकल आफिसर, फर्मासिस्ट और ड्रेसर शामिल है। साथ ही जिले के नौ ब्लॉक में भी टीम बनी है। इसमें तीन लोगों को शमिल गया है। जिसमें एक डाक्टर, एक लैब टेक्निशियन और फर्माशिस्ट शामिल हैं।

छह बेड का बनाया गया है वार्ड
इस संबंध में जिला नोडल अधिकारी डॉ. टीके टोंडर ने बताया कि कोरोना से निपटने के लिए मेडिकल कालेज अस्पताल में 6 बेड का एक आईसोलेशन वार्ड बनाया गया है, ताकि अगर कोई सस्पेक्टेड मरीज आता है तो उसे अलग वार्ड में भर्ती कर उसका उपचार किया जाएगा।

क्या कहता है पशु विभाग
इस संबंध में पशु चिकित्सक से बात किया गया तो उनका कहना था कि चिकन व मटन से किसी प्रकार की बीमारी फैलने की गुंजाइश नहीं है। इसके पीछे कारण यह बताया गया कि हमारे यहां मांस को पका कर खाया जाता है। इस कारण इससे किसी भी प्रकार की बीमारी नहीं फैल सकती। इसके बाद भी विभाग पूरी तरह से मुस्तैद है। पोल्ट्री फार्म की भी जांच की जा रही है।

राहत की बात यह है कि अभी तक कहीं से इस तरह की शिकायत नहीं मिली है। वहीं उनका कहना था कि अगर मटन को 28 डिग्री से अधिक पर उबाला जाता है तो उसका वायरस नष्ट हो जाता है। इस कारण चिकन मटन सेवन करने से लोगों के लिए खतरा नहीं है।

-कोरोना से बचने के लिए शहर में जगह-जगह होर्डिंग्स लगाए जा रहे हैं। साथ ही जिला स्तर से ब्लाक स्तर तक टीम का गठन किया गया है। कहीं से भी अगर किसी भी प्रकार की शिकायत मिलती है तो विभाग तत्काल उसकी जांच करेगा। डॉ. टीके टोंडर, नोडल अधिकारी रायगढ़

-ह्यूमन टू ह्यूमन कोरोना फैलता है। चिकन-मटन से किसी प्रकार का खतरा नहीं है। अभी तक किसी भी पोल्ट्रीफार्म से शिकायत नहीं मिली है। हालांकि विभाग पूरी तरह से मुस्तैद है। डा. आरएस पांडेय, डिप्टी डायरेक्टर, वेटनरी

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned