VIDEO- रात भर तेंदुपत्ता के बोरे को हाथियों ने फुटबाल की तरह खेला, नुकसान से बचने डीएफओ ने सुबह किया ये काम...

Vasudev Yadav | Publish: May, 18 2019 01:17:34 PM (IST) Raigarh, Raigarh, Chhattisgarh, India

-ग्रामीणों में दहशत का माहौल -धरमजयगढ़ वन मंडल में इन दिनों लगभग 50 हाथियों का दल कर रहा विचरण

रायगढ़. आपने इंशानों का फुटबाल मैच तो देखा होगा, लेकिन क्या कभी हाथियों का फुटबाल खेलना देखा है। यह नजारा धरमजयगढ़ वन मंडल में देखने को मिला। यहां एक हाथियों का दल शुक्रवार रात तेंदूपत्ता के फड़ तक पहुंच गया। यहां तेंदूपत्ता से भरे बोरों को उठा-उठाकर हाथियों ने फुटबॉल और बॉलीबॉल की तरह एक जगह से दूसरी जगह फेंकना शुरू किया। लोगों की मानें तो यह नजारा कई घंटे तक चला। हाथी बोरों को उठाकर दूसरे हाथी की तरफ फेंक रहा था तो दूसरा कहीं और फेंक रहा था। सूचना मिलते ही वन अमला भी मौके पर पहुंचा। जब तेंदूपत्ता फड़ में पड़े सभी बोरों को हाथियों ने इधर उधर फेंक दिया तो वह वहां से चले गए। इसके बाद अगली सुबह वन अमले ने सभी तेंदू पत्ता के बोरों को उठाकर एक स्कूल भवन में शिफ्ट करवाया है।

धरमजयगढ़ वन मंडल में इन दिनों लगभग 50 हाथियों का दल विचरण कर रहा है। इनकी मौजूदगी के कारण ग्रामीणों के बीच दहशत का माहौल है। हांलाकि हाथियों के उत्पात को रोकने के लिए उन पर लगातार निगरानी रखी जा रही है। वन विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक सबसे अधिक हाथियों का झुंड छाल रेंज में देखा जा रहा है। इसके अलावा कुछ हाथियों का दल धरमजयगढ़ वन परिक्षेत्र में भी विचरण कर रहा है। इन्हीं में से एक हाथियों का दल बीती रात बरतापाली समिति के सामरसिंघा तेंदुपत्ता फड़ में पहुंचा और यहां तेंदुपत्ता के बोरों को पाकर उनसे खेलने लगा। पूरी रात हाथियों ने यहां पड़े तेंदुपत्ता बोरों को फुटबॉल की तरह खेला। कई बोरों को फाड़ कर तेंदू पत्ता को बिखरा भी दिया।

रात भर तेंदुपत्ता के बोरे को हाथियों ने फुटबाल की तरह खेला, नुकसान से बचने डीएफओ ने सुबह किया ये काम...

इस दौरान हाथी पूरी रात चिंघाड़ते रहे। उनकी आवाज सुनकर ग्रामीण दहशत के मारे अपने घरों में घुसे रहे। शनिवार सुबह जब ग्रामीण फड़ के पास पहुंचे, तो देखा कि हाथियों ने तेंदुपत्ता के बोरों को दूर-दूर तक फेंका था। इसमें काफी मात्रा में बोरे फट गए और तेंदू पत्ता भी बिखरा हुआ था। मौके पर पहुंचा वन अमला मौका मुआयना करते हुए नुकसान का आंकलन कर आगे की कार्रवाई कर रहा है। बताया जा रहा है कि तेंदुपत्ता फड़ में खरीदी के बाद उसका बीमा भी होता है इसलिए इस नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी के जरिए हो जाएगी।

18 हाथियों का झुंड कर रहा विचरण
धरमजयगढ़ वन परिक्षेत्र के प्रभारी रेंजर डीपी डनसेना ने बताया कि यहां 18 का एक झुंड विचरण कर रहा है और अन्य जंगलों में भी हाथी विचरण कर रहे हैं। हाथी से बचाव के लिए ग्रामीणों को कई तरह की समझाईश भी दी जा रही है। रात में पता नहीं चल सका कि कितने हाथी तेंदुपत्ता फड़ में पहुंचे थे। हांलाकि हाथियों पर भी निगरानी रखी जा रही है कि वह किसी प्रकार का नुकसान न पहुंचा सके।

- तेंदुपत्ता फड़ में हाथी पहुंचे थे। यहां उन्होंने तेंदुपत्ता के बोरों के साथ खेला और पटक कर उन्हें फाड़ भी दिया है। आगे तेंदूपत्ता का नुकसान न हो इसे देखते हुए सभी तेंदूपत्ता के बोरों को स्कूल भवन में शिफ्ट कराया गया है- प्रणय मिश्रा, डीएफओ, धरमजयगढ़ वन मंडल

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned