सॉफ्टवेयर अपडेट ही नहीं और दे दिया निर्देश, अभी भी बिना जीपीएस के बन रहा फिटनेस

भारी मालवाहक व यात्री गाडिय़ों में लगना है जीपीएस सिस्टम
एक अप्रैल से हो चुका है लागू

By: Vasudev Yadav

Published: 10 Apr 2019, 02:02 PM IST

रायगढ़. भारी मालवाहक वाहन व यात्री बस व अन्य वाहनों में जीपीएस सिस्टम व पैनिक बटन के बगैर फिटनेस प्रमाण पत्र जारी नहीं होने का दावा खोखला साबित हो रहा है। राजधानी में जहां विभाग का सॉफ्वेयर वाहन-४ अपडेट न होने के कारण फिटनेस रोक दिया गया है वहीं जिले में धड़ल्ले से फिटनेस प्रमाण पत्र जारी हो रहा है। यहां के अधिकारियों का कहना है कि अब तक इसके लिए कोई निर्देश नहीं मिला है। मुख्यालय से सिर्फ ये निर्देश मिला है कि सभी वाहनों में जीपीएस सिस्टम लगना है।
विदित हो कि जिला परिवहन विभाग में एक कंट्रोल रूम होगा जहां जीपीएस सिस्टम के जरिए वाहनों की मॉनिटरिंग होगी। इसके लिए सभी भारी वाहन व यात्री वाहनों में जीपीएस सिस्टम व पैनिक बटन लगना है यह योजना १ अप्रैल से पूरे प्रदेश में लागू कर दी गई है लेकिन अभी तक परिवहन विभाग के सॉफ्वेयर वाहन ४ में जीपीएस कनेक्टीविटी के लिए तैयार नहीं किया गया है न ही जिलों को इसके लिए आईडी पासवर्ड दिया गया है। जिला परिवहन अधिकारी द्वारा इस ट्रेकिंग सिस्टम के लिए आईडी पासवर्ड के साथ मार्गदर्शन मांगा गया है जिसका अब तक कोई जवाब नहीं मिला है। इसके कारण जिले में भारी वाहन व यात्री वाहनों का फिटनेस सार्टिफिकेट बिना जीपीएस सिस्टम व पैनिक बटन लगाए ही जारी कर दिया जा रहा है। जबकि उच्च अधिकारियों की माने तो वाहन-४ सॉफ्वेयर को जीपीएस ट्रेकिंग सिस्टम से जोडऩे के लिए अपडेट किया जा रहा है और इसमें दो से तीन दिन का समय और लगेगा, लेकिन तब तक जिले में भारी संख्या में फिटनेस प्रमाण पत्र जारी हो चुका रहेगा।

सुरक्षा के लिहाज से की जा रही पहल
मालवाहक वाहनों में परिवहन होने वाले सामान और यात्री वाहनों में आवागमन करने वाले यात्रियों की सुरक्षा के लिए इस योजना को लागू किया गया है। यात्री वाहनों में पैनिक बटन अगर कोई यात्री दबाता है तो इसकी सूचना परिवहन विभाग व पुलिस को मिलेगी जिसके बाद जीपीएस सिस्टम से वाहन को ट्रेस किया जा सकता है। इसके अलावा अन्य शिकायतों पर भी जीपीएस सिस्टम से वाहनों को ट्रेस किया जा सकता है।

दिसंबर से तैयारी करने का था निर्देश
दिसंबर माह में ही इसकी तैयारी करने के लिए निर्देश जारी हो चुका है, लेकिन बाद में और समय की मांग पर फरवरी तक का समय दिया गया और अप्रैल से अनिवार्य रूप से इसे लागू करने के लिए निर्देश दिया गया है। वर्तमान में भी एक पत्र जिला परिवहन विभाग को मिला है जिसमें यह कहा गया है कि सभी वाहनों में जीपीएस सिस्टम लगना है, लेकिन बगैर इसके फिटनेस सार्टिफिकेट जारी होगा या नहीं स्पष्ट नहीं किया गया है।

वर्सन
पत्र आया है जिसमें सभी वाहनों में जीपीएस सिस्टम लगवाने के लिए कहा गया है। फिटनेस सार्टिफिकेट तो जारी किया जा रहा है, लेकिन जीपीएस ट्रेकिंग सिस्टम के कंट्रोल के लिए आईडी पासवर्ड की मांग की गई है।
एसएस कौशल, जिला परिवहन अधिकारी

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned