VIDEO- जिस सरकार ने हमारी पारिवारिक, राजनैतिक और सामाजिक हत्या की कोशिश की उस दोस्त से तो हजार दुशमन भले...

लिटिल जोगी ने कहा क्षेत्रियता और क्षेत्रवाद की भावना के दम पर डोनाल्ड ट्रंप तक को रोका जा सकता है, ये तो मोदी और शाह हैं।

By: Shiv Singh

Updated: 13 Mar 2018, 08:25 PM IST

रायगढ़. आप हमारे प्रति रमन सिंह के साफ्ट कार्नर की बात करते हैं, जबकि रमन सिंह ने हर कार्यकाल में हमारे परिवार को नुकसान पहुंचाया है। पहले कार्यकाल में हमारे ऊपर तीन-तीन सीबीआई के मामले दर्ज हुए इस प्रकार हमारी पारिवारिक हत्या की कोशिश की गई। दूसरे कार्यकाल में राजनांदगांव उपचुनाव के दौरान हमारी पारिवारिक हत्या की कोशिश की गई, अजीत जोगी पर डकैती की धाराएं लगाकर आम कैदी की तरह रायपुर ले गए, वहीं तीसरे कार्यकाल में जाति का मामला उठाकर हमारी सामाजिक हत्या की कोशिश की जा रही है। वो तो भला हो कोर्ट का जो हमें न्याय मिल जा रहा है। ये बातें या आरोप जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ व मरवाही विधायक अमित जोगी ने रायगढ़ प्रवास के दौरान सर्किट हाउस में कही।

मंगलवार को जोगी यहां अपने कार्यकर्ताओं की बैठक लेने पहुंचे थे। इस दौरान लिटिल जोगी ने चुनाव की तैयारियों को लेकर कहा कि हम भाजपा का मुकाबला संसाधन, धन और कैडर के सहारे नहीं कर सकते हैं, पर इतना जरूर है कि मोदी और अमित शाह के विजय अभियान को क्षेत्रीयता और क्षेत्रवाद की भावना के साथ रोक सकते हैं। जोगी ने दावा कि क्षेत्रवाद की ही भावना है कि आज ओडिशा में, तमिलनाडू में और बंगाल में भाजपा का विजय अभियान थम जाता है। जोगी का कहना था कि इस भावना के साथ हम तो अमेरिका के डोनाल्ड ट्रंप के विजय अभियान को रोक सकते हैं ये तो मोदी और शाह हैं।

Read More : BREAKING : कभी देखा है 100 की रफ्तार में सड़क पर दौड़ती बर्निंग ट्रक, खड़े हो जाएंगे रोंगटे, देखिए वीडियो

चुनाव के पहले वादे बाद में जुमले
हमार देश में अभी विधाकिया पर क्राइसिस ऑफ क्रेडेबिलिटी यानि कि विश्वसनीयता पर संकट की स्थिति है। जब भाजपा चुनाव लड़ रही थी उस वक्त पांच घोषणा की गई थी इस घोषणा पत्र के बुनियाद पर रमन सिंह सीएम बने अब कार्यकाल खत्म हो रहा है पर ये पूरे नहीं हो सके। कार्यकाल में केवल भ्रष्टाचार ही किया गया आज यदि कोई पार्टी घोषणापत्र लेकर जनता के पास जाती है तो उसे जुमला पत्र माना जाता है। जनता को अपने नेताओं की बात पर भरोसा नहीं हैए ये लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं है। इसलिए अजीत जोगी ने कोर्ट में एक शपथपत्र दाखिल किया है ताकि कल को कोई भी व्यक्ति उसे कोर्ट में चैलेंज कर सकता है। आज जो स्थिति है उसमें चुनाव से पहले घोषणापत्र को वायदा कहा जाता हैए पर चुनाव के बाद वह जुमला बन जाता है।

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned