रायगढ़ लोकसभा में अब तक भाजपा और कांग्रेस प्रत्याशी को जारी हो चुका है तीन-तीन नोटिस

लोकसभा चुनाव के लिए आचार संहिता का उल्लंघन करने के मामले में भाजपा प्रत्याशी गोमती साय को अब तक तीन बार नोटिस जारी हो चुका है।

By: Ashish Gupta

Published: 04 Apr 2019, 08:26 PM IST

रायगढ़. लोकसभा चुनाव के लिए आचार संहिता का उल्लंघन करने के मामले में भाजपा प्रत्याशी गोमती साय को अब तक तीन बार नोटिस जारी हो चुका है। एक नोटिस के जवाब में उन्होंने प्रशासन पर ही आरोप लगाया कि एमसीएमसी कमेटी द्वारा मार्गदर्शन नहीं दिया गया है।

आदर्श आचार संहिता लगने के बाद सभी राजनीतिक पार्टी के पदाधिकारियों की बैठक बुलाई गई थी। इसमें जिला प्रशासन ने सभी को आचार संहिता से अवगत कराते हुए नियमों के बारे में बताया था। इसके बाद भी एक सभा के दौरान जशपुर में भाजपा प्रत्याशी गोमती साय ने पुलवामा के बारे में जिक्र किया था। इसको लेकर उन्हें नोटिस जारी किया गया था।

इसके बाद सोशल मीडिया में प्रचार-प्रसार को लेकर निर्वाचन आयोग ने नोटिस जारी करने का निर्देश दिया है। इसके लिए नोटिस जारी किया जा रहा है। इसके पूर्व एक अन्य शिकायत पर नोटिस जारी हो चुका है। एक नोटिस के जवाब में प्रत्याशी ने बताया कि एमसीएमसी कमेटी द्वारा इस बारे में मार्गदर्शन नहीं दिया गया था। इस जवाब को संतोषप्रद नहीं माना जा रहा है और इसके प्रचार-प्रसार में हुए खर्च को संबंधित प्रत्याशी के खाते में जोडऩे की तैयारी की जा रही है।

कांग्रेस प्रत्याशी लालजीत को भी जारी हुआ नोटिस

सोशल मीडिया में प्रचार-प्रसार को लेकर कांग्रेस प्रत्याशी लालजीत सिंह राठिया भी कहीं से पीछे नहीं हैं। अब तक आयी शिकायतों के आधार पर कांग्रेस प्रत्याशी को भी तीन नोटिस जारी हो चुका है। हालांकि कांग्रेसी प्रत्याशी का अब तक इन नोटिस को लेकर कोई जवाब कमेटी को नहीं मिला है।

दोनों प्रत्याशी को तीन-तीन नोटिस

रायगढ़ जिला पंचायत सीईओ चंदन त्रिपाठी ने कहा, आचार संहिता लगने के बाद पार्टी के पदाधिकारियों को पहले ही बैठक लेकर नियमों से अवगत कराया जा चुका है। जवाब में दिशा-निर्देश न मिलने की बात कही गई है जो कि गलत है। दोनों ही प्रत्याशियों को तीन से तीन नोटिस जारी किया गया है।

BJP Congress
Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned