परिवार के अन्य सदस्य थे अनपढ़, 28 लाख मुआवजा राशि अपने खाते में जमा कराया, फिर जो हुआ... पढि़ए खबर

जनदर्शन में मंगलवार को परिवार के अन्य सदस्य पहुंचकर किया शिकायत

By: Shiv Singh

Published: 22 Aug 2017, 06:24 PM IST

रायगढ़। एनटीपीसी रेल लाईन में प्रभावित कृषि भूमि सामिलाती हक व अधिकार के होने के बाद भी एसडीएम कार्यालय से महज शपथ पत्र के आधार पर परिवार के एक सदस्य के नाम पर मुआवजा राशि जारी कर दिया। 28 लाख रुपए मुआवजा राशि मिलने के बाद उक्त चेक को अपने खाते में जमा कर राशि आहरण करना शुरू कर दिया गया लेकिन परिवार के अन्य सदस्यों को राशि वितरण नहीं किया गया। इसको लेकर जनदर्शन में मंगलवार को परिवार के अन्य सदस्य पहुंचकर शिकायत किया और संबंधित के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग किए हैं। कलकटर को किए गए शिकायत में बताया गया है कि गोपालपुर निवासी बोधराम सिदार व जोगीराम, गनपती, रामवती, नंदों और सूरजमती के नाम पर खसरा नंबर 88 के 0.392 हेक्टेयर जमीन में सामिलाती खाता है। एनटीपीसी के रेल लाईन में उक्त जमीन प्रभावित हो रही है जिसके कारण उसका भू-अर्जन किया गया और 28 लाख 29 हजार 999 रुपए का मुआवजा राशि तय किया गया। परिवार के अन्य सदस्यों के अनपढ़ होने का लाभ उठाते हुए बोधराम ने सभी सहमति पत्र बनवाकर अधिकारियों से सांठ-गांठ करते हुए मुआवजा राशि का चेक अपने नाम पर कटवा लिया।

शिकायत में यह भी आरोप लगाया गया है कि उक्त चेक मिलने के बाद उसे अपने खाते में जमा कर दिया गया और पिछले कुछ समय से उसमें से राशि आहरण करना भी शुरू कर दिया है। वर्तमान स्थ्िित में करीब 8 लाख रुपए आहरण कर चुका है। हांलाकि इसकी शिकायत पर एसडीएम ने खाता को होल्ड करवाया है लेकिन जांच नहीं हो पाने की शिकायत परिवार के सदस्य कर रहे हैं। शिकायत के माध्यम से परिवार के अन्य सदस्यों केा मुआवजा राशि दिलाने व दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की गई है।

दिया था एफआईआर का आदेश - पीडि़त लोगों ने कलक्टर को शिकायत में यह भी बताया है कि एसडीएम के यहां चल रहे उक्त प्रकरण में एसडीएम ने संबंधित के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने का आदेश दिया था। लेकिन वहां कार्यरत कर्मचारियों ने उक्त आदेश का उल्लेख नहीं किया। ओर इसे बदलने का प्रयास किया जा रहा है।
शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं - कर्मचारियों की मनमानी को लेकर एसडीएम से भी शिकायत किया गया है लेकिन अभी तक इस मामले में किसी प्रकार की न तो जांच कराई गई है न ही किसी प्रकार की कार्रवाई की गई है। इसके कारण शिकायतकर्ता मंगलवार को जनदर्शन में इस मामले की शिकायत करने पहुंचे।

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned