रेल लाइन पर नहीं चलने रेलवे विभाग लोगों को कर रहा जागरूक, अब तक भेजे गए एक लाख एसएमएस

Lockdown: लॉकडाउन के दौरान निरंतर चल रही पार्सल ट्रेनें व श्रमिक स्पेशल ट्रेनें, लॉकडाउन में फंसे श्रमिक गृहग्राम जाने के लिए ले रहे रेलवे लाइन का सहारा

By: Vasudev Yadav

Published: 10 May 2020, 08:31 PM IST

रायगढ़. रेल लाइनों पर न चलने, रेल पटरियों को पार न करने व रेल लाइनों के समीप अन्य किसी भी प्रकार की असुरक्षित गतिविधियों को रोकने के लिए रेल प्रशासन द्वारा लोगों को जागरुक करने के लिए एसएमएस अभियान चलाया जा रहा है। वहीं विभाग का कहना है कि पटरियों पर चलने से कभी भी बड़ी अनहोनी हो सकता है, क्योंकि लॉकडाउन के दौरान देखा जा रहा है कि हमेशा श्रमिक अपने गृहग्राम जाने के लिए रेलवे लाईन का ही सहारा ले रहे हैं, जिससे कभी बड़ा हादसा हो सकता है।

गौरतलब हो कि लॉकडाउन 3.0 लगने के बाद अब श्रमिक दूर-दूर से रेलवे लाईन के सहारे अपने गतंव्य तक जाने के लिए निकल जा रहे हैं। वहीं इस लॉकडाउन में हमेशा पार्सल ट्रेन व श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही है। जिससे कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। इससे बचने के लिए एसएमएस व अन्य माध्यमों से लोगों को जागरुक किया जा रहा है। वहीं अधिकारियों का कहना है कि विगत कुछ दिन पहले ही श्रमिक रेलवे लाईन से होकर अपने गृहग्राम जा रहे थे, इस दौरान अधिक थक जाने के कारण रेलवे लाइन पर सो गए थे, जिससे ट्रेन की चपेट में आने से 16 श्रमिकों की मौत हो गई थी। इसके बाद भी हमेशा श्रमिकों की रेल लाईन से आने व जाने की सूचना मिल रही है। इस कारण विभाग लोगों को जागरुक करने यह अभियान चला रही है ताकि भविष्य में इस तरह का कोई और हादसा न हो।

रेल प्रशासन द्वारा नागरिकों को रेल लाइनों पर चलने, लाइनों को असुरक्षित पार करने एवं रेल लाइनों के आसपास अन्य असुरक्षित गतिविधियों को रोकने तथा किसी भी प्रकार की संभावित दुर्घटनाओं से बचाव के लिए समय-समय पर जागरूकता अभियान चलाया जाता है।

वर्तमान में कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम के लिए किये गए लॉकडाउन के दौरान रेलवे द्वारा लोगों की दैनिक जरूरतों को पूरा करने खाद्यान्न सहित अन्य आवश्यक वस्तुओं का परिवहन तथा विभिन्न तापघरों में बिजली की आपूर्ति को नियमित बनाये रखने के लिए आवश्यक कोयले का परिवहन कर इस विषम परिस्थिति में भी देशवासियों की जरूरी आवश्यकताओं व सुविधाओं को सुनिश्चित किया जा रहा है। इसके साथ ही साथ देश के अलग-अलग स्थानों से श्रमिकों को उनके घरों तक सुरक्षित पहुँचाने के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन चला कर लोगों को मदद की जा रही है।

इस दौरान रेल लाइनों पर चलने, लाइनों को असुरक्षित पार करने एवं रेल लाइनों के समीप अन्य किसी भी प्रकार की असुरक्षित गतिविधियां लोगों के जीवन के लिए घातक हो सकता है। इससे बचने के लिए रेल प्रशासन नागरिकों से लगातार अपील कर रही है कि किसी भी परिस्थिति में लोग रेल पटरियों पर न चले और न ही रेल लाईन को पार करने की जोखिम उठाएं नहीं तो कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है।

पटरी पार करने पर होगा अपराध दर्ज
इस संबंध में अधिकारियों का कहना है कि रेल पटरियों को पार करना और रेल पटरियों से चल कर जाते अगर किसी को पाया जाता है तो अब विभाग कड़े कदम उठाने की तैयारी कर रही है। उनका कहना है कि रेल पटरियों पर न चले और न ही पटरियों को पार करें, क्योंकि अब इस प्रकार की गतिविधियों को रोकने के लिए रेल प्रशासन रेलवे अधिनियम के तहत जुर्म भी दर्ज कर सकती है। उनका कहना है कि पटरी पार करना दंडनीय अपराध है।

एसएमएस से कर रहे जागरुक
देश में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए विभाग द्वारा यात्री ट्रेनों को बंद कर दिया गया है, लेकिन पार्सल ट्रेन, मालगाड़ी व श्रमिक ट्रेन लगातार चलाई जा रही है। जिससे कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है। इस कारण रेलवे द्वारा एक जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है ताकि कोई भी व्यक्ति रेल लाईन के रास्ते अपने घर न जाए, जिसके तहत दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के अधिकार क्षेत्र के विभिन्न जिलों में लोगों को जागरुक करने एसएमएस भेजा जा रहा है। इस दौरान अभी तक लगभग एक लाख मोबाईल एसएमएस भेजे जा चुके हैं अगले सप्ताह तक 5 लाख अतिरिक्त मोबाईल एसएमएस भेजे जाने की तैयारी है। साथ ही विभिन्न रेडियो चैनलों और प्रिंट मीडिया व प्रचार प्रसार के माध्यमों से लोगों को जागरूक किया जा रहा है। ताकि कोई बड़ी अनहोनी से बचा जा सके।

Vasudev Yadav Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned