scriptSalute to spirit: story of bharti chauhan handicap child of raigarh | जज्बे को सलाम: हाथ नहीं करते काम, पैरों से लिख रही किस्मत | Patrika News

जज्बे को सलाम: हाथ नहीं करते काम, पैरों से लिख रही किस्मत

- जहां चाह, वहां राह: हाथ नहीं करते काम, पैरों से लिख रही किस्मत
- पैरों से लिखकर पढ़ाई की पूरी, पाई आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की नौकरी
- हॉस्टल अधीक्षक के परीक्षा के दौरान आई थी चर्चा में

रायगढ़

Published: February 17, 2022 01:16:37 am

रायगढ़। कहते उड़ान पंखों से नहीं हौसलों से होती है। पंख तो मुर्गे का भी होता है लेकिन हौसले तो बाज में ही होती है जो आसमान की ऊंचाइयों को रोज नापता है। इस उक्ति को चरितार्थ करने वाली रायगढ़ की एक युवती है जिसके हाथ न होते हुए भी आज न सिर्फ वह आंगनबाड़ी सहायिका है बल्कि वह आंगनबाड़ी पर्यवेक्षक की परीक्षा भी दे रही है।

bharti_chauhan.jpg

रायगढ़ जिले के ग्राम तिलगी की रहने वाली बहारतीन चौहान जिस आंगनबाड़ी में पैर से लिखना सीखी वहां आज आंगनबाड़ी सहायिका है और वह पर्यवेक्षक बनने की परीक्षा भी दे रही है। दरअसल बेहरतीन जन्म से विकलांग है और उसके दोनों हाथ नहीं है। वह अपने दिनचर्या की सारी चीजें अपने पैर से ही करती है। इस युवती ने अपनी शारीरिक अक्षमता को अपने जीवन पर हावी नहीं होने दिया और खुद के मेहनत से इस मुकाम पर है।

रविवार को जब महिला बाल विकास विभाग के लिए व्यापम द्वारा परीक्षा का आयोजन किया गया था तो बहारतीन चौहान नटवर स्कूल में परीक्षा देंव आयी थी, उसने पैरों से उत्तर लिखकर परीक्षा दी। परीक्षा में सफल होना या न होना ये तो बाद का विषय है लेकिन शारिरिक अक्षमता के बावजूद भी ऐसा जज्बा दूसरे विकलांगों के लिए प्रेरणादायक है।

बहारतीन चौहान रायगढ़ जिले के तिलगी गांव की रहने वाली है। उसके दोनों हाथ बचपन से ही नहीं हैं। उसके माता पिता मजदूरी करते थे । काम पर जाते वक्त उसके माता-पिता उसे गांव के ही आंगनबाड़ी केंद्र में छोड़ जाते थे, वहां इसने दूसरे बच्चों को हाथों से लिखते देखा। फिर उसने अपने पैर से लिखने का अभ्यास किया। धीरे-धीरे वह पैर से लिखने में पारंगत हो गई।

उसने पैर से ही कई परीक्षा पास कर पोस्ट ग्रेजुएशन तक पढ़ाई की और एक दिन उसी आंगनबाड़ी केंद्र में सहायिका के पद पर चयनित हुई जहां से उसने पैर में कलम फंसाकर लिखना सीखा था। जब उसे पर्यवेक्षक भर्ती की जानकारी मिली तो उसने उसकी परीक्षा भी देने की ठानी। अब परिणाम कुछ भी हो लेकिन उसका जज्बा ही सुकून देने वाला है।

जहां चाह, वहां राह
आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की नौकरी पाने के बाद उसके हौसले और बुलंद हुए। वह अभी और आगे बढऩे की चाह रखती है। इसके लिए बीते दिनों महिला एवं बाल विकास विभाग में हॉस्टल अधीक्षक के लिए व्यापम ने परीक्षा हुई तो इस परीक्षा में भी वह शामिल हुई। परीक्षा के प्रश्न पत्र उसने पैरों से हल किया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.