प्रीमियम जमा नहीं करने वाले व्यवसयियों की दुकानें होगी निरस्त

सात साल बाद भी जमा नहीं किया जा सका प्रीमियम, नगर निगम ने शुरू की तैयारी

By: Vasudev Yadav

Published: 20 May 2019, 07:19 PM IST

रायगढ़. शहर में कुछ ऐसे व्यवसायी हैं, जो नगर निगम ने किराए में दुकान तो ले लिए हैं, लेकिन न तो पूरा प्रीमियम जमा किए हैं और ना ही किराया जमा कर रहे हैं। ऐसे में इन व्यवसायियों की दुकानें निरस्त करने की तैयारी चल रही है। दुकान निरस्त करने की प्रक्रिया ट्रांसपोर्ट नगर से किए जाने की बात कही जा रही है। यहां कुछ ऐसे व्यवसायी हैं, जो सात से आठ साल पहले दुकान ले लिया था, लेकिन अब तक न तो पूरा प्रीमियम जमा हो सका और ना ही किराया जमा किया जा रहा है।
ट्रांसपोर्ट नगर को आबाद करने के बाद यहां कुछ टांसपोर्ट व्यवसायियों को यहां दुकान नहीं मिला था। ऐसे में ट्रांसपोर्ट नगर के पीछे खाली भूमि पर व्यवसायियों के लिए २० बाई ४० साइज की दुकान बनाई गई। इसके बाद व्यवसायियों को दुकान आवंटित किया गया। विभागीय अधिकारियों की माने तो इनमें एक दुकान की कीमत ५ लाख ९ हजार रुपए हैं। दुकान आवंटित करने के दौरान इसका २५ प्रतिशत राशि पहली किस्त के रूप में जमा की गई। इसके बाद शेष राशि को किस्तों में जमा किया जाना था, लेकिन व्यवसायियों ने दुकान तो ले लिया और इसके प्रीमियम की राशि को जमा नहीं किया। इससे पहले भी नगर निगम के द्वारा व्यवसायियों को प्रीमियम राशि जमा करने के लिए नोटिस जारी किया गया। इसक बाद भी व्यवसायियों ने राशि जमा नहीं की। हालांकि नगर निगम लगातार व्यवसायियों को नोटिस जारी करता रहा। कुछ साल पहले तो व्यसायियों ने नोटिस लेने से भी इंकार कर दिया। हालांकि इसके बाद जब नोटिस जाता तो व्यवसायी ले लेते, लेकिन राशि जमा नहीं किए। ऐसे में व्यवसायियों की दुकानें निरस्त करने की बात कही जा रही है। इसके लिए कार्य योजना भी बनाई जा रही है।

शेष दुकानों में भी होगी प्रक्रिया
बताया जा रहा है कि जो व्यवसायी लंबे समय से दुकानों का किराया जमा नहीं कर रहा है, उन व्यवसायियों की दुकानें भी निरस्त की जाएगी। हालांकि मौजूदा समय में इसकी शुरुआत ट्रांसपोर्ट नगर से होने की बात कही जा रही है। इसके बाद शहरी क्षेत्र में बनाए गए दुकानों पर भी इस तरह की कर्रवाई होगी। बताया जा रहा है कि नोटिस जारी किए जाने से पहले नगर निगम के द्वारा व्यवसायियों को नोटिस जारी किया जाएगा।

बनाई जा रही लिस्ट
नगर निगम के अधिकारियों की माने तो शहरी क्षेत्र में करीब १२ सौ से अधिक दुकानें नगर निगम की है। इन दुकानों को किराए पर दिया गया है। इसमें कई ऐसे व्यवसायी हैं, जो दुकानों का किराया समय पर जमा कर देते हैं, लेकिन कुछ व्यवसायी दुकानों का किराया जमा नहीं कर रहे। इसमें ऐसे भी व्यवसायी हैं, जो लंबे समय से किराया जमा नहीं कर रहे हैं। इन व्यवसायियों की लिस्ट तैयार की जा रही है।

व्यवसायियों के पास लाखों रुपए जाम
एक ओर वसूली के अभाव में नगर निगम पिछले दो माह पहले कंगाली की हालत में था। वहीं दूसरी ओर इन व्यवसायियों के पास लाखों रुपए जाम रखे हुए हैं। बताया जा रहा है कि कुछ माह के बाद नगर निगम फिर से कंगाली की हालत में पहुंच सकता है। इसके पीछे भी यही कारण है कि जो नगर निगम के आवक के माध्यम हैं, वहां से राशि नहीं आ रही।

वर्सन
कुछ ऐसे व्यवसायी हैं, जो लंबे समय से न तो किराया जमा करा रहे हैं और ना ही प्रीमियम राशि जमा कराए हैं। इन व्यवसायियों की लिस्ट तैयार की जा रही है, ताकि वसूली हो सके। राशि जमा नहीं करने की स्थिति दुकान आवंटन निस्त भी किया जाएगा।
रमेश जायसवाल, आयुक्त, नगर निगम

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned