तो क्या अब नहीं मिलेगा लोगों को मुफ्त इलाज का लाभ...

तो क्या अब नहीं मिलेगा लोगों को मुफ्त इलाज का लाभ...

Sandeep Kumar Upadhyay | Updated: 11 Jul 2019, 10:06:51 PM (IST) Raigarh, Raigarh, Chhattisgarh, India

* बीमा कंपनियां छत्तीसगढ़ में स्वास्थ्य बीमा योजना के लिए काम करने को तैयार नहीं

* राज्य में निवासरत सभी परिवारों को मुफ्त इलाज मुहैया कराने वाली पहली और एक लौती योजना के संचालन में असमंजस की स्थिति

डॉ. संदीप उपाध्याय @ रायपुर. राज्य सरकार द्वारा राज्य में निवासरत सभी परिवार के सदस्यों को 50 हजार रुपए तक का निशुल्क इलाज देने के लिए चलाई जा रही मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना (स्मार्ट कार्ड) पर बंद होने का खतरा मंडरा रहा है। इसका कारण छत्तीसगढ़ राज्य में बीमा कंपनियों द्वारा कार्य करने में रुचि न दिखाना है। सूत्रों की माने तो सरकार जिस बीमा कंपनी को योजना संचालन का टेंडर देती है वह या तो घाटे में रहती है या बीच में भाग जा रही है। सितंबर 2019 से वर्तमान में योजना का संचालन कर रही रेलीगेयर बीमा कंपनी की समयावधि भी समाप्त हो रही है। ऐसे में आगे योजना संचालन के लिए कोई तैयारी न करने इसके भविष्य पर खतरा मंडराने लगा है। नई निविदा में क्या नियम बदले जाएंगे। क्या तैयारी की गई है। इसकी किसी को कोई जानकारी नहीं है। यहां तक की इस महत्वपूर्ण का भविष्य क्या होगा यह भी कोई कुछ नहीं बता पा रहा है।

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार छत्तीसगढ़ राज्य में लगभग 65 लाख परिवार स्मार्ट कार्ड योजना का लाभ ले रहे हैं। पिछले कुछ सालों के आकड़ों पर बात करें तो 2017-18 में यूनाइटेड इंश्योरेंश कंपनी ने इस योजना का टेंडर लिया था। शासन ने इसके लिए बीमा कंपनी को 800 रुपए प्रति कार्ड प्रीमियम दिया था। बीमा कंपनी को एक साल में फायदा तो दूर 50 प्रतिशत अधिक राशि का क्लेम पटाना पड़ा था। इसके बाद साल 2018-19 के लिए अधिक कंपनियों ने निविदा में भाग नहीं लिया। रिलायंस ने टेंडर लिया भी तो काम शुरू करते ही हाथ खड़े कर दिए और शासन ने उसे ब्लैक लिस्ट कर दिया। वर्तमान में इस योजना का टेंडर रेलीगेयर कंपनी के पास है। इस कंपनी को शासन प्रति कार्ड पहले से अधिक 1100 रुपए का प्रीमियम दे रही है। इस कंपनी का कार्यकाल सितंबर 2019 में खत्म हो जाएगा। टेंडर की अवधि समाप्तर होने के लिए मात्र ढाई महीने शेष बचे हैं और आगे योजना चलेगी या नहीं इस निर्णय अभी संशय की स्थिति में है।

इंश्योंरेंस मॉडल है यह योजना

मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना एक इंश्योंरेंस मॉडल योजना है। शासन हर साल इस योजना के लिए निविदा जारी करती है। निविदा में जो बीमा कंपनी सबसे कम रेट डालती है उसे इस योजना के संचालन की जिम्मेदारी दी जाती है। यह योजना शुरूआती दौर में तो ठीक चली थी, लेकिन बाद में अस्पताल संचालकों द्वारा गलत तरीके से क्लेम लेने के चलते बीमा कंपनियां घाटे में चली गईं और इससे दूर भागने लगीं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned