जिले में ट्रैफिक नियम तोडक़र लोगों ने भरा एक करोड़ से अधिक का जुर्माना

- अर्थदंड के रूप में भरा ५ लाख ७७ हजार तीन सौ रुपए, पिछले के मुकाबले इस साल बढ़े हैं मामले

By: Shiv Singh

Updated: 07 Jan 2019, 01:09 PM IST

रायगढ़. एक तरफ पुलिस विभाग हर साल ट्रैफिक सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रम के नाम पर अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित करती है, लेकिन उसके ठीक उलट लोगों को वह ट्रैफिक के प्रति जागरूक नहीं कर पा रही है। यही कारण है कि साल २०१७ में जहां पुलिस यातायात उलंघन करने वालों से ४७ लाख २५ हजार सौ रुपए वसूला था वह बढक़र २०१८ में ६९ लाख १८ हजार दो रुपए पहुंच गया।
यातायात नियमों का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ यातायात अमला हमेशा ही कार्रवाई करता है। जिले में हर साल बड़ी संख्या में लोग यातायात नियमों को तोडक़र वाहन चलाते हैं। ऐसे में उन पर कार्रवाई होना लाजिमी है। भारी जुर्माना भरने के बाद भी लोग लापरवाही बरतने से बाज नहीं आ रहे हैं। पिछले कुछ साल के आंकड़ों पर गौर करें तो यातायात पुलिस ने रिकार्ड वसूली करके शासन के खजाने में करोड़ों रुपए जमा कराया है।

थोड़ी सी सावधानी से दूर होती है परेशानी
जल्दबाजी, लापरवाही के कारण जिले में हर साल हजारों लोगों को यातायात पुलिस की कार्रवाई का सामना करना पड़ता है। यदि ऐसे में वाहन चालक थोड़ी सी सावधानी रखें तो उन्हें आर्थिक रूप से परेशानी नहीं होगी। साथ ही उनकी मेहनत की कमाई जुर्माना भरने में जाया
नहीं होगी।

खुदकी गलती से लोग भरते हैं खजाना
लोगों की गलती से ही सरकारी खजाना भरता है। लोग अगर ट्रैफिक नियमों का सही से पालन करें तो वे कार्रवाई से बच पाएंगे। इससे लोगों को आर्थिक रूप से हानि भी नहीं होगी और न ही सरकार उनसे जुर्माना वसूल पाएगी। ऐसे में लोगों को यातायात के प्रति जागरूक और सतर्क होने की आवश्यकता है।

इन पर की गई अधिक कार्रवाई
यातायात विभाग से मिली जानकारी के अनुसार मोटर वीकल एक्ट में बिना कागजात के वाहन चलाना, शराबी वाहन चालक, तीन सवारी, बिना हेलमेट, नाबालिग वाहन चालक आदि आते हैं। साल २०१८ में विभाग ने ज्यादातर बिना कागजात रखने वाले वाहन चालकों पर कार्रवाई करते हुए उन पर जुर्माना लगाया है। ऐसे में लोगों को ड्राइविंग लायसेंस, इंश्योरेंस पेपर व अपने वाहन के कागजात हमेशा अपने पास रखना चाहिए।

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned