Video- तीन बार कागजों में हुआ प्रशिक्षण अब चौंथे बार की तैयारी

Vasudev Yadav | Publish: Mar, 17 2019 09:00:14 PM (IST) | Updated: Mar, 17 2019 09:00:15 PM (IST) Raigarh, Raigarh, Chhattisgarh, India

- फिडबेक लेने से सच्चाई आएगी सामने इसलिए कतरा रहा है विभाग

रायगढ़। जिला जेल में लगातार तीन साल से तीन बार कागजों में कौशल विकास प्रशिक्षण बंदियों को दे दिया गया और अब मामला सामने आने के बाद जांच करने के बजाए चौंथी बार प्रशिक्षण देने की तैयारी में लगे हुए हैं। विदित हो कि वर्ष 2016 से रोजगार कार्यालय द्वारा जिला जेल में कौशल विकास प्रशिक्षण का कार्यक्रम संचालित किया गया, लेकिन तीन साल बाद जब लाभान्वित बंदियों की सूची खंगाली गई तो सच्चाई सामने आई उक्त सूची में बंदियों के पते व मोबाइल नंबर मनमाने लिख दिया गया था।

यही नहीं रोजगार कार्यालय ने प्रशिक्षणार्थियों से कभी फिडबेक भी नहीं लिए जिसके कारण लाखों रुपए खर्च कर दिए गए प्रशिक्षण से बंदियों को किस तरह से लाभ मिल रहा है इसके बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है। इस मामले के सामने आने के बाद रोजगार अधिकारी द्वारा मामले की जांच कराने की बात कही गई लेकिन आज पर्यंत जांच कराना तो दूर फिडबेक नहीं लिया गया और अब चौंथे बार फिर से जेल में बंदियों को प्रशिक्षण देने की तैयारी शुरू कर दी गई है। चूंकि इस बार कौशल विकास प्रशिक्षण के लिए तय मापदंडों में कुछ फेरबदल किया गया है इसको देखते हुए जेल प्रबंधन व रोजगार कार्यालय की ओर से शासन को पत्र लिखकर नियमों में शिथिलता के लिए लिखा गया है।

Video- तीन बार कागजों में हुआ प्रशिक्षण अब चौंथे बार की तैयारी

उद्देश्य की नहीं हो रही पूर्ति
जिला जेल में बंदियो ंको कौशल विकास प्रशिक्षण देने के पीछे शासन का उद्देश्य था कि बंदियों में सुधार आए और जेल से निकलने के बाद रोजगार के लिए कोई समस्या न हो। लेकिन कागजों में प्रशिक्षण दिए जाने के कारण इस उद्देश्य की पूर्ति नहीं हो पा रही है सिर्फ दिखावा के लिए कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है।
फैक्ट फाईल
तीन साल में बैच की संख्या - 43
पंजीकृत हितग्राहियों - 796
सफल हितग्राही - 494

-इस मामले की मुझे जानकारी मिली है। जिला रोजगार अधिकारी कुछ दिन के लिए बाहर थे मै मामले को दिखवाती हूं। फिडबेक लिया जाएगा - चंदन त्रिपाठीए सीईओ जिला पंचायत

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned