टूटी पुलिया में घुसी ट्रक, केबिन के नीचे दबकर चालक की मौत

broken bridge : उसी पुलिया में वाहन घुसाने से बह गई कार, बाल बाल बचे चार लोग
- तमनार-घरघोड़ा मार्ग में मूसलाधार बारिश से घटिया निर्माण की खुली पोल

By: Vasudev Yadav

Published: 14 Aug 2019, 02:42 PM IST

रायगढ़. घरघोड़ा थाना क्षेत्र अंतर्गत बीती रात भयावह दुर्घटना घटी। बारिश की वजह से मुख्य मार्ग में स्थित पुलिया के टूट जाने से वाहन घुसाने पर एक चालक की वाहन के कैबिन में दब कर मौत हो गई। जबकि उसी टूटे पुलिया में वाहन घुसाने से चार लोगों से भरी कार बह गई। हालांकि कुछ देर बाद स्थानीय ग्रामीणों ने रेस्क्यू कर कार और उसमें सवार सभी लोगों को बचा लिया। वाहन दो दिन की मूसलाधार बारिश ने तमनार-घरघोड़ा मार्ग के घटिया निर्माण की पोल खोल कर रख दी है। घटना की सूचना पर पुलिस ने मर्ग कायम कर धारा ३०४ए के तहत अपराध दर्ज कर लिया है। मामले की विवेचना की जा रही है।
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार १३ अगस्त की रात चार लोग कार में सवार होकर तमनार से घरघोड़ा जा रहे थे। बताया जा रहा है कि लगातार हो रही बारिश से देवगढ़ स्थित छोटा पुलिया बह गई थी। सड़क पर सिर्फ डामर ही लगा हुआ था, जोकि ऊपर से सड़क जैसा दिख रहा था। ऐसे में रात करीब एक बजे जैसे ही कार पुलिया के ऊपर पहुंची तो सड़क धंस गई और कार करीब छह-सात फीट नीचे गड्ढे में फंस गई। ऐसे में कार में बैठे लोगों के बीच-चीख-पुकार मच गई। शोर-शराबा सुन आसपास के ग्रामीण घरों से निकल कर बाहर आए और किसी तरह कार को रस्सी से बांधे। तब तक पानी का तेज बहाव सड़क की मिट्टी को काटते हुए कार को अपने साथ बहा कर ले गई। लेकिन ग्रामीणों द्वारा रेस्क्यू कर कार व कार में सवार सभी चार लोगों को बचा लिया गया है।
इस घटना के करीब आधा घंटा बाद कोयला लोड ट्रक का चालक घरघोड़ा से तमनार जा रहा था। जिसे रोक कर ग्रामीणों ने आगे पुलिया टूटने की सूचना दी, लेकिन वह नहीं माना और तेजी से वाहन चलाते हुए पुलिया के पास पहुंचा तो उसके सामने का हिस्सा करीब सात फीट गड्ढे में घुस गया और ट्राली ऊपर हो गया। इंजन में ट्राली का दबाव पडऩे से चालक की कैबिन दब कर मौके पर ही मौत हो गई।

READ : शासकीय विभागों में गड़बडिय़ों की शिकायत जांच तक ही सिमटी

आवागन हो गया बंद
इस घटना के बाद से घरघोड़ा और तमनार मार्ग में आवागमन बंद हो गया था। ऐसे में जिन लोगों को पुलिया के बह जाने की जानकारी नहीं थी, वे सफर तय कर देवगढ़ तक पहुंचते थे। इसके बाद सड़क को देख वापस लौट जा रहे थे। ऐसे में लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned