वॉल्व हुआ स्लीप तो रातभर व्यर्थ बहता रहा पानी, सुबह होते ही मच गई थी मारामारी

वॉल्व हुआ स्लीप तो रातभर व्यर्थ बहता रहा पानी, सुबह होते ही मच गई थी मारामारी

Vasudev Yadav | Updated: 17 Jun 2019, 12:58:32 PM (IST) Raigarh, Raigarh, Chhattisgarh, India

जल आवर्धन योजना(Water Milling Scheme) के तहत शहर के वेयर हाउस(Warehouse) में पानी टंकी का निर्माण किया गया है। इस टंकी के माध्यम से शहर के आठ वार्डों में पानी की आपूर्ति की जाती है। शुक्रवार की शाम पानी की आपूर्ति(water supplies) एक घंटे तक किया गया। इसके बाद आपूर्ति बंद की गई।

रायगढ़. शहर के वेयर हाउस(Warehouse) में बनाए गए पानी टंकी(Water Tank) का वॉल्व शुक्रवार की रात स्लीप हो गया। इसकी वजह से पूरी रात टंकी का पानी व्यर्थ बहता रहा। इससे सुबह शहर के आठ वार्डों में पानी की आपूर्ति बधित रही। वही जब सुबह हुई तो पानी के लिए मारामारी की स्थिति निर्मित हो गई।
जल आवर्धन योजना(Water Milling Scheme) के तहत शहर के वेयर हाउस(Warehouse) में पानी टंकी का निर्माण किया गया है। इस टंकी के माध्यम से शहर के आठ वार्डों में पानी की आपूर्ति की जाती है। शुक्रवार की शाम पानी की आपूर्ति(water supplies) एक घंटे तक किया गया। इसके बाद आपूर्ति बंद की गई।

वहीं सुबह पानी(Water) आपूर्ति करने के लिए अन्य क्षेत्र की पानी टंकियों के साथ वेयर हाउस(Warehouse) की पानी टंकी में पानी भरा जाने लगा, लेकिन वेयर हाउस पानी टंकी का वॉल्व अचानक स्लीप कर गया। इसकी जानकारी नगर निगम के एक भी अधिकारियों को नहीं थी। ऐसे में पूरी रात पानी व्यर्थ बहता रहा और वेयर हाउस की टंकी पूरी तरह से खाली हो गई। इससे आठ वार्डों में सुबह पानी नहीं आया। सुबह सात बजे पानी आपूर्ति(water supplies) का समय निर्धारित है।
इस समय तक तो लोग निश्चित थे, लेकिन घड़ी का कांटा जैसे ही सात के पार हुआ लोगों में बैचेनी बढ़ गई और वे इस बात की टोह लेने लगे कि पानी की आपूर्ति(water supplies) अब तक शुरू किस कारण से नहीं हुई। काफी पूछताछ के बाद इस बात की जानकारी मिली की वॉल्व स्लीप होने की वजह से पानी नहीं मिल पा रहा। ऐसे में लोगों ने पार्षद(Councilor) के माध्यम से पानी टैंकर की व्यवस्था कराए जाने की मांग की। कुछ देर बाद जब वार्डों में पानी टैंकर पहुंचा तो लोगों के बीच पानी लेने के लिए मारामारी की स्थिति निर्मित हो गई थी।

मॉनिटरिंग का अभाव
वॉल्व स्लीप(Valve sleep) होने की जानकारी नहीं होना इस बात का प्रमाण है कि नगर निगम के अधिकारी अपने में ही मस्त है। उन्हें कहां क्या हो रहा है। इसकी जानकारी नहीं है। यही वजह है कि शुक्रवार की रात वॉल्व स्लीप होने के बाद पूरा पानी व्यर्थ बह गया और सुबह आपूर्ति नहीं प्रभावित हुई। इसकी कोई जानकारी जल विभाग(Water Department) के अधिकारियों को नहीं थी। ऐसे में इसकी जानकारी उच्चाधिकारियों को भी नहीं मिल सकी।

Read More : सर्फ-साबुन से भरे ट्रक का टायर फटा, सामने से आ रही पिकप को ठोकर मारते हुए बाउंड्रीवाल से टकराया, चालक की मौत

सुबह हुई मरम्मत शुरू
सुबह होने के बाद जब पानी के लिए हाय-तौबा मचा तो लोगों ने जनप्रतिनिधियों(People Representatives) को और जन प्रतिनिधियों ने अधिकारियों को इस बात की जानकारी दी। इसके बाद सुबह करीब 9 बजे वॉल्व में सुधार कार्य(Correction work in valve) शुरू किया जा सका। बताया जा रहा है कि काफी मशक्कत के बाद इसमें सुधार किया गया। इसके बाद शाम के समय पानी की आपूर्ति हो सकी। इसके बाद लोगों को राहत मिली। इससे पहले भी इसी तरह की समस्या आई थी। इसके बाद भी नगर निगम के अधिकारी(Municipal officer) इस बात पर गंभीर नहीं हो सके।

निगम के अधिकारियों को नहीं थी जानकारी
नगर निगम के द्वारा प्रत्येक पानी टंकी(water Tank) में वॉल्व खोलने और बंद करने की ड्यूटी लगाई गई। इसमकें वेयर हाउस(Warehouse) के पास बने टंकी में भी एक कर्मचारी की ड्यूटी लगाई गई है। बताया जा रहा है कि शुक्रवार को वह निजी काम से छुट्टी(holiday) लिया था। उसके स्थान पर दूसरे की ड्यूटी लगाई गई थी। संबंधित कर्मचारी को इस बात की जानकारी नहीं थी कि वॉल्व स्लीप हुआ है।

Read More : आबकारी अधिकारी ने जब्त शराब का किया परीक्षण, रिपोर्ट मिलते ही प्रशासन ने शराब को गड्ढे में डाल चलवाया रोलर

- कहां क्या हो रहा है। इस बात की जिम्मेदारी नगर निगम के अधिकारी नहीं ले रहे हैं। इसकी वजह से इस तरह की अव्यवस्था सामने आ रही है। इसकी जानकारी दिए जाने के बाद वॉल्व में सुधार किया गया।
शाखा यादव, कांग्रेस पार्षद दल नेता

- वॉल्व खराब होने की वजह से पानी की आपूर्ति प्रभावित हुई। जानकारी मिलने के बाद इसमें सुधार करवाया गया है। शाम के समय पानी की आपूर्ति हुई। जो वार्ड प्रभावित थे वहां टैंकर के माध्यम से पानी आपूर्ति की गई थी।
रमेश जायसवाल, आयुक्त, ननि


MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned