महिला स्व-सहायता समूहों को 12.77 करोड़ की ऋण माफी की सौगात, ऋण बजट 2 से बढ़ाकर 10 करोड़

- तीजा-पोरा पर सीएम का ऐलान : चुनाव घोषणा पत्र का एक और वादा पूरा
- अब करीब एक लाख महिलाएं फिर से कर्ज लेकर आर्थिक गतिविधियों का कर सकेंगी संचालन

By: Bhupesh Tripathi

Published: 07 Sep 2021, 01:02 AM IST

रायपुर. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तीजा-पोरा त्योहार के मौके पर महिला स्व-सहायता समूहों की बहनों को बड़ी सौगात दी है। मुख्यमंत्री निवास में सोमवार को हुए कार्यक्रम में महिला कोष की ऋण योजना के अंतर्गत सभी महिला समूहों के कालातीत ऋणों को माफ करने की घोषणा की है। इससे स्व-सहायता समूहों से जुड़ी लाखों बहनों के सर से 12 करोड़ 77 लाख रुपए के कर्ज का बोझ उतर जाएगा। वहीं करीब 1 लाख महिलाएं फिर से कर्ज लेकर अपनी आर्थिक गतिविधियां शुरू कर सकेंगी। मुख्यमंत्री ने ऋण के बजट में भी 5 गुना वृद्धि और महिला कोष के बजट की राशि 2 करोड़ से बढ़ाकर 10 करोड़ रुपए करने की घोषणा भी की।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, सांसद सोनिया गांधी व राहुल गांधी की मंशा के अनुरूप छत्तीसगढ़ सरकार समाज के सभी वर्गाे के साथ न्याय करने में जुटी है। किसानों की कर्ज माफी एवं सिंचाई कर की माफी से राज्य में न्याय की शुरुआत हुई। यह कड़ी आगे बढ़ते हुए राजीव गांधी किसान न्याय योजना, गोधन न्याय योजना, राजीव गांधी ग्रामीण कृषि भूमिहीन मजदूर न्याय योजना के बाद आज महिलाओं को न्याय देने के उद्देश्य से ऋण माफी के रूप में सामने आई है। कार्यक्रम को महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेडिय़ा, राज्यसभा सांसद फूलोदेवी नेताम सहित मंत्रिमंडल के अन्य सदस्यों सहित जनप्रतिनिधि बड़ी संख्या में मौजूद थे।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned