प्रोजेक्ट परीक्षा के अंक भेजने में लापरवाही, 120 स्कूलों को नोटिस

सीजी बोर्ड की प्रायोगिक प्रोजेक्ट परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों के नंबर ऑनलाइन अपडेट नहीं करने वाले 120 स्कूलों को माध्यमिक शिक्षा मंडल ( माशिमं) ने नोटिस जारी किया है। नोटिस जारी करने के साथ सभी स्कूलों को आर्थिक जुर्माना भी लगाया है।

By: Dhal Singh

Updated: 22 Mar 2020, 01:27 AM IST

रायपुर। माशिमं के अधिकारियों का कहना है कि &0 जनवरी तक परीक्षार्थियों के नंबर ऑनलाइन माशिमं को भेजना था। नंबर भेजने में निजी स्कूलों ने लापरवाही बरती है। इन सभी स्कूलों को नोटिस देने के साथ जुर्माना भी लगाया गया है। कार्रवाई करने के साथ ही परीक्षार्थियों की प्रोजेक्ट फाइल को 6 महीने तक सुरक्षित रखने का निर्देश सभी स्कूलों को दिया गया है।

जनवरी में हुई थी परीक्षा
10वीं और 12वीं के छात्रों की प्रायोगिक प्रोजेक्ट परीक्षा जनवरी में हुई थी। जिस दिन प्रोजेक्ट परीक्षा हुई थी, उसी दिन शाम को शिक्षकों को छात्रों का नंबर ऑनलाइन माशिमं के पोर्टल में अपडेट करना था। नंबर अपडेट करने में स्कूल प्रबंधन ने लापरवाही बरती और माशिमं के अधिकारियों ने भी ध्यान नहीं दिया। मार्च में सचिव के निर्देश पर प्रैक्टिकल नंबर ऑनलाइन भेजने वाले स्कूलों की लिस्ट बनी तो 120 स्कूलों से ऑनलाइन नंबर अपडेट होने की जानकारी नहीं मिली। प्रोजेक्ट-थ्योरी में अलग-अलग

पास होना जरुरी

माशिमं के अधिकारियों ने बताया कि प्रायोगिक-प्रोजेक्ट और थ्योरी परीक्षाओं के लिए पासिंग मार्क पाना जरूरी है। इनके अंक वार्षिक परीक्षा में जुड़ेंगे। सभी विषयों के लिए प्रोजेक्ट और प्रायोगिक की परीक्षाएं 25-25 अंक की हुई है। इनमें 8 अंक पाना जरूरी है। इसी तरह 75 अंक की परीक्षा में 25 अंक पाना जरूरी रखा गया है। प्रो. विजय कुमार गोयल, सचिव माध्यमिक शिक्षा मंडल ने बताया कि प्रायोगिक प्रोजेक्ट परीक्षा लेने के बाद परीक्षार्थियों के नंबर ऑनलाइन अपडेट नहीं करने वाले स्कूलों को नोटिस जारी करके जुर्माना लगाया है। लापरवाह स्कूलों पर सख्त कार्रवाई करने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिखा है।

Dhal Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned