सुकमा मुठभेड़ के बाद लापता 17 में से 14 जवान शहीद, कुछ जवान वापस लौटे कैंप, पढ़े पूरी घटना

बुरकापाल से डीआरजी के टीम स्पेशल ऑपरेशन को अंजाम देने निकली थी।जहां घात लगाए नक्सलियों ने जवानों पर फायरिंग कर दिया। जिसमें कई घायल और कई जवान लापता हो गए थे। जिनकी खोजबीन करने के लिए डीआरजी, कोबरा और एसटीएफ की टीम रात भर जंगल में घूमती रही।

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 22 Mar 2020, 12:34 PM IST

रायपुर।छत्तीसगढ़ के घोर नक्सल प्रभावित सुकमा जिले के चिंतागुफा इलाके में एलमागुंडा के पास शनिवार को हुए सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में नए अपडेट सामने आए है। बताया जा रहा है 15 जवान घायल है जिनमें से 13 सामान्य और 2 हालत गंभीर हैं जिनका इलाज रायपुर रामकृष्णा अस्पताल के आईसीयू में इलाज जारी है। साथ ही सूत्रों का कहना है लापता 17 जवानों में से 14 शहीद हो गए है और 3 अभी भी लापता बताये जा रहे हैं। लोगों का कहना यह भी है की नक्सलियों ने जवानों का अपहरण किया है।

नक्सलियों ने लुटे 15 हथियार और एक UBGL
लापता 17 जवानों में से तीन जवान सुबह सुकमा ज़िले के भेजी थाने में पहुँच कर आमद दी है। जवानो के बयान के मुताबिक़ अभी चौदह जवान नक्सलियों के गिरफ़्त में है। कोई भी पुलिस अधिकारी इस मामले में खुलकर बोलने को तैयार नही है। बताया जा रहा है दोपहर के बाद अधिकारी सामने आ कर पूरी स्थिति स्पष्ट करेंगे। वही बताया जा रहा है जवानो के कुल 15 हथियार और एक UBGL भी नक्सलियों ने लूट कर ले जाने में कामयाब रहे।

मुठभेड़ में घायल 16 जवानों के नाम आए सामने
मुठभेड़ में तीन जवान शहीद हो गए है। घायल 16 जवानों के नाम सामने आए है। लापता जवानों में से कुछ जवानों को ढूंढ निकाला गया है। हालांकि अभी भी कुछ जवान लापता है, जिनकी तलाश की जा रही है।मुठभेड़ में घायल जवानों में एसटीएफ के जवान इंद्रेश साहू, सोनू, मुकेश मंडावी और सालिक राम शामिल है।वही डीआरजी के जवानों में कुंजाम रमेश, ताति हूँगा, मड़कम भीमा, माड़वी केसा, सलवम जोगा, नुप्पो जेलू, कट्टम राजू, संजय कवासी, विनय दुधी, माड़वी मुकेश, सोड़ी जोगा, धुरवा सुब्बा शामिल है। इस तरह कुल मिलाकर 16 घायल जवान घायल है।

डीआरजी टीम के स्पेशल ऑपरेशन के बीच मुठभेड़
बताया जा रहा है कि शनिवार को बुरकापाल से डीआरजी के टीम स्पेशल ऑपरेशन को अंजाम देने निकली थी।जहां घात लगाए नक्सलियों ने जवानों पर फायरिंग कर दिया। जिसमें कई घायल और कई जवान लापता हो गए थे। जिनकी खोजबीन करने के लिए डीआरजी, कोबरा और एसटीएफ की टीम रात भर जंगल में घूमती रही। सुबह तक कुछ लापता जवान वापस कैंप आ गए, कुछ को ढूंढ निकाला गया है, तो कुछ अभी भी जवान लापता बताए जा रहे हैं। बुरकापाल से 5 किमी दूर मिंपा के जंगलों में यह मुठभेड़ हुआ था।

एसआईबी एसपी डी रविशंकर ने बताया की ऑपरेशन के लिए डीआरजी एसटीएफ और सीआरपीएफ के कोबरा बटालियन के करीब 550 जवान निकले थे इस दौरान मुठभेड़ में नक्सली कैडर के चार शीर्ष हथियारधारी नक्सलियों को मार गिराया वही 5 गंभीर रूप से घायल है। इस दौरान 14 जवान घायल हुवे है। रात के समय पार्टी जंगल मे रुकी हुई थी ।

इसमे से CRPF की कोबरा बटालियन वापिस लौट आई है। डीआरजी और एसटीएफ के जवान अभी भी जंगल में ऑपरेशन कर रहे हैं उन्हें कवर करने के लिए सुबह अतिरिक्त बल को भेजा गया है उनके लौटने के बाद ही यह स्पष्ट हो पाएगा की ऑपरेशन पर गई फोर्स को कितना नुकसान हुआ है।राज्य सरकार के निवेदन पर कल सुकमा में हुई घटना के बाद एयरपोर्ट को 12:40 तक खुला रखा गया।

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned