एम्स रायपुर के टेलीमेडिसिन में रोज 200 से 250 कॉल, आप भी ले सकते हैं परामर्श

आपात परिस्थितियों में राहत का सहारा बनी टेलीमेडिसिन ओपीडी

By: VIKAS MISHRA

Published: 21 May 2020, 12:43 AM IST

रायपुर . कोरोना वायरस के कारण ओपीडी सेवाएं बंद होने की वजह से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के चिकित्सा प्राप्त कर रहे रोगियों के लिए टेलीमेडिसिन सेवा एक बड़ी राहत बनी हुई है। हर रोज 200 से 250 मरीजों के कॉल आ रहे हैं। एम्स के 15 विभाग स्वयं की सेवाएं मोबाइल नंबर के माध्यम से प्रदान कर रहे हैं। एम्स के 13 विभागों के मेडिसिन, स्त्री रोग, त्वचा रोग और ईएनटी विभागों की सबसे अधिक कॉल आ रहे हैं। डॉक्टरों का कहना है कि ओपीडी बंद होने की वजह से रोगियों को अपनी दवाइयां जारी रखने या इन्हें बदलने के लिए नियमित रूप से चिकित्सकीय परामर्श की आवश्यकता होती है। ऐसे में दिए गए मोबाइल नंबर पर रोगी संपर्क करके और वाट्सऐप पर ओपीडी बुकलेट की कॉपी भेजकर परामर्श ले रहे हैं। एम्स अधीक्षक डॉ. करन पीपरे का कहना है कि एम्स के विभिन्न टेलीमेडिसिन मोबाइल नंबर पर प्रतिदिन 200-250 कॉल आ रही हैं। इन कॉल के माध्यम से गर्भवती स्त्रियों को ऑपरेशन का समय दिया जा रहा है। साथ ही कॉर्डियोलॉजी के लिए समय भी प्रदान किया जा रहा है। नेफ्रोलॉजी में डायलिसिस की सेवा भी कॉल के माध्यम से प्रदान की जा रही है।
दो शिफ्ट में संचालित
उन्होंने बताया कि टेलीमेडिसिन ओपीडी दो शिफ्ट में संचालित हो रही है। जनरल मेडिसिन एंड कॉर्डियोलॉजी, जनरल सर्जरी, गायनिकोलॉजी एंड आब्सट्रेटिक्स, ईएनटी और दंत रोग के मरीज सुबह 9.30 बजे से 11.30 बजे तक तथा बाल रोग, नेत्र रोग, हड्डी रोग, त्वचा रोग, मनोचिकित्सा, होम्योपैथी तथा नेफ्रोलॉजी के लिए सुबह 11.30 से दोपहर 1.30 बजे तक टेलीमेडिसिन ओपीडी संचालित होती है। टेलीमेडिसिन ओपीडी हेल्पलाइन -7647079643 पर कॉल करके विभागों के संचालन के बारे में जानकारी ली जा सकती है।

VIKAS MISHRA
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned