31 लाख लूट मामला: डकैतों को कैशियर की पल-पल की थी जानकारी, पुलिस को लोकल गिरोह पर शक

- डकैतों को कैशियर के बारे में एक एक-एक बात की थी जानकारी
- कैशियर पर हमला करके लाखों रुपए लूटकर भाग निकले थे

By: Ashish Gupta

Published: 18 Jan 2021, 04:44 PM IST

Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

रायपुर. स्टील कंपनी के कैशियर से लाखों रुपए की लूट करने वाले डकैतों को कैशियर के बारे में एक एक-एक बात की जानकारी थी। मां कुदरगढ़ी स्टील कंपनी में मंथली वालों का 10 से 15 तारीख के बीच अनिवार्य रूप से लेबरों और अन्य लोगों का पेमेंट होता है। इस बार 15 तारीख को किसी कारणवश कैशियर नित्यानंद छुरा सिटी ऑफिस से पैसा लेकर सरोरा स्थित कंपनी नहीं पहुंचा था। इस कारण 16 जनवरी को 31 लाख रुपए लेकर जा रहा था।

डकैती करने वालों को रैकी करने के दौरान 10-15 जनवरी के बीच पेमेंट होने की जानकारी मिली थी, लेकिन 15 जनवरी को नित्यानंद नहीं आया। लेकिन अगले दिन 16 जनवरी को पैसा लेकर नित्यानंद के कंपनी जानकारी भी उन्हें मिल गई थी। इसी वजह से आरोपी घटना वाले दिन उसके आने का इंतजार कर रहे थे। मामले में पुलिस डकैती के अलावा कुछ आपसी विवाद को लेकर भी जांच कर रही है। तकनीकी जांच में ज्यादा फोकस कर रही है। उल्लेखनीय है कि शनिवार को आधा दर्जन से अधिक डकैतों ने कैशियर पर हमला करके लाखों रुपए लूटकर भाग निकले थे।

Bitrd Flu Alert: भोरमदेव अभयारण्य में 3 दिन में 4 उल्लुओं की मौत से हड़कंप, सैंपल भेजे भोपाल

घटना का रिक्रिएशन
पुलिस ने घटना का रविवार को रिक्रिएशन किया। इस दौरान कैशियर के घर और कंपनी के सिटी ऑफिस से लेकर घटना स्थल तक पूरी वारदात को काल्पनिक रूप से दोहराया गया। इसके बाद पुलिस ने कैशियर से भी कई बिंदुओं में जानकारी ली है।

200 से ज्यादा कैमरे खंगाले, कई बंद मिले
आरोपियों की तलाश में पुलिस की टीम ने कंपनी के सिटी ऑफिस, कैशियर नित्यानंद के घर, घटना स्थल और आरोपियों के भागने की दिशा में लगे 200 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे खंगाले। इनमें से आधे से ज्यादा बंद मिले। इससे पुलिस की परेशानी बढ़ गई। कुछ स्थानों पर पुलिस को अच्छे फुटेज मिले हैं। घटना के बाद आरोपी रिंग रोड नंबर 4 की ओर भाग निकले। ये मार्ग बिलासपुर की ओर भी जाता है और टाटीबंध की ओर भी गया है।

कोरोना वैक्सीन को लेकर मैसेज, ईमेल-कॉल को लेकर रहें अलर्ट, साइबर ठग कर सकते हैं Fraud

इससे पुलिस की उलझन बढ़ गई है। पुलिस एक टीम टाटीबंध और दूसरी बिलासपुर मार्ग में जांच में लगी है। घटना के तरीके से पुलिस को लोकल बदमाशों के गिरोह पर शक है। आमतौर पर लूट करने वाले बाहरी गिरोह फायरिंग या गंभीर वारदात करके राशि लूटते हैं। इस घटना में कैशियर को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचाया गया है। इस कारण पुलिस को मामले में लोकल बदमाशों पर शक है। फिलहाल पुलिस कैशियर और कंपनी के कर्मचारियों का कॉल डिटेल, सीसीटीवी कैमरे व तकनीकी जांच कर रही है।

कई लूट, फिर भी लापरवाही
कैशियर या कलेक्शन एजेंटों से लूट की कई घटना रायपुर में हो चुकी है। खासकर इंडस्ट्रियल इलाके में। इसके बावजूद लाखों रुपए लेकर एजेंट या कैशियर बाइक में अकेले जाते हैं। इसका फायदा अपराधी उठा रहे हैं।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned