रायपुर समेत 4 जिलों ने जिस एंटीजन किट पर आपत्ति जताई, सीजीएमएससी ने रेंडम जांच में पास कर दिया

- टेक्नीशियन बोले- किट मानकों पर नहीं थी, 2-2 बार रिजल्ट गलत आए तब तो आरटीपीसीआर करवाया .
- सीजीएमएससी के अधिकारियों की निगरानी में 300 किट की हुई जांच, फाइनल रिपोर्ट कल सबमिट होगी .

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 30 Nov 2020, 12:03 AM IST

रायपुर. प्रदेश के 4 जिलों ने छत्तीसगढ़ मेडिकल सर्विसेस कॉर्पोरेशन (सीजीएमएससी) द्वारा सप्लाई जिस एंटीजन किट को लेकर आपत्ति जताई थी। यह कहते हुए किट को लौटा तक दिया था कि इससे परिणाम सही नहीं आ रहे हैं। उन किट को सीजीएमएससी पास करने जा रही है। क्योंकि सीजीएमएससी के सामने सप्लायर कंपनी मायलैब ने 1 लाख के लाट से 300 रेंडम किट की जांच की, पाया कि किट सही परिणाम दे रही है। कहीं कोई गड़बड़ी नहीं है।

पत्रिका को रायपुर जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मीरा ने बताया था कि उनके टेक्नीशियन और मेडिकल स्टाफ किट के परिणाम से संतुष्ट नहीं थे। किट में सी लाइन गायब हो रही थी। 'सी' के बाद 'टी' जो पॉजिटिव की पुष्टि यानी कंफर्मेशन करती, वह आधे घंटे बाद डिस्प्ले हो रही थी। इन तमाम आपत्तियों के बाद 20000 किट वापस की थी। जब इस पर इंवेस्टीगेशन किया गया तो खुद सीजीएमएससी के अधिकारियों ने कहा कि रायपुर के अलावा धमतरी, बालोद और कवर्धा जिलों से भी आपत्तियां आई हैं, जिसके बाद कंपनी को तबल किया गया है। गुरुवार को कंपनी के अधिकारी पहुंचे। गुरुवार और शुक्रवार को रेंडम जांच हुई की गई। गौरतलब है कि कंपनी ने ५ लाख किट सप्लाई की है। १ लाख के लाट में गड़बड़ी सामने आई थी।

तत्काल सभी जिलों में दूसरी किट भेजी गई
जिन जिलों ने किट को लेकर आपत्ति दर्ज करवाई थी और किट वापस कर दी थी, उन जिलों में सीजीएमएससी ने दूसरी किट की सप्लाई कर दी है। ताकि सैंपलिंग प्रभावित न हो।

कंपनी ने अभी लिखित रिपोर्ट नहीं दी है, मगर किट में जो गड़बड़ी बताई जा रही थी वह नहीं है। कंपनी के अधिकारी सोमवार को रिपोर्ट सौंपेगे।
- सीआर प्रसन्ना, प्रबंध संचालक, सीजीएमएससी

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned